Sunday, March 07, 2021 05:37 PM

चुनावों में भाजपा को प्रचंड बहुमत

दिव्य हिमाचल ब्यूरो— बिलासपुर

हिमाचल के गायक कलाकारों ने लाखों दिलों की धड़कन भजन सम्राट नरेंद्र चंचल के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। कलाकारों का कहना है कि चंचल के जाने से एक युग का अंत हो गया है। यह संगीत के क्षेत्र में एक ऐसी अपूर्णीय क्षति है, जो कभी भी पूरी नहीं हो सकती। प्रदेश के कई कलाकारों ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर पोस्ट अपलोड करके नरेंद्र चंचल के निधन पर दुख प्रकट किया है और उनकी आत्मा की शांति के लिए भगवान से प्रार्थना की है।

नाटी किंग कुलदीप शर्मा, इंडियन आइडल फेम अनुज शर्मा, वॉयस ऑफ पंजाब के विजेता गौरव कौंडल, इंडियन आइडल कुमार साहिल, लोक गायक सुरेश वर्मा, लोक गायिका नीरू चांदनी, लोक गायक काकू राम ठाकुर, राजेश बबलू, पम्मी ठाकुर व अभिषेक सोनी आदि भजन सम्राट नरेंद्र चंचल को श्रद्धांजलि अर्पित की है। उधर, ‘दिव्य हिमाचल’ से विशेष बातचीत करते हुए कुलदीप शर्मा ने बताया कि वर्ष 2002 में उन्हें भी उस मंच पर जाने का मौका मिला, जहां नरेंद्र चंचल जी की वीडियो शूट हुआ करते थे। नोएडा में टी सीरीज के मंच पर उन्होंने कई भेंटे गाई हैं। वह इसके लिए खुद को सौभाग्यशाली समझते हैं कि जिस मंच पर चंचल जी जैसी महान हस्सी होती थी, वहां उन्हें भी जाने गाने का मौका मिला है।

64 सेंटर्स में कोरोना वैक्सीनेशन का टारगेट सातवें दिन भी नहीं हो पाया पूरा

स्टाफ रिपोर्टर — शिमला

हिमाचल में शनिवार को कोविड-19 बचाव के लिए वैक्सिनेशन का आयोजन किया गया। जिलों में बनाए गए 64 सेंटर्स में हैल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीन लगाई गई। 5720 का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन 3935 को ही वैक्सीन लग पाई। सातवें दिन भी हिमाचल में 68.8  प्रतिशत ही हैल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीन लग सकी। किन्नौर में सबसे ज्यादा 95.7 फीसदी वैक्सीनेशन हुई। हमीरपुर में सबसे कम 44 फीसदी, बिलासपुर में 200 को वैक्सीन लगनी थी, लेकिन 145 ही पहुंचे।

चंबा में 500 की बजाय 327 ही पहुंचे। हमीरपुर में 299 लोगों को वैक्सीन लगनी थी, लेकिन पूरे नहीं पहुंचे। कांगड़ा में 1020 हैल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीनेशन दी जानी थी, लेकिन 730 ही पहुंचे। किन्नौर में 94 हैल्थ केयर वर्कर्स को सातवें दिन वैक्सीन लगनी थी, यहां 90 ही आए। लाहुल-स्पीति में वैक्सीनेशन नहीं हुई। कुल्लू में 308 को लगनी थी, 236 पहुंचे। मंडी में 1008 का टारगेट था, 781 पहुंचे। शिमला में 750 को लगनी थी, 435 पहुंचे।

सिरमौर में 559 को लगनी थी, लेकिन 385 ही आए। सोलन में 390 को लगनी थी, लेकिन 207 ही पहुंचे, जबकि ऊना में 593 को रजिस्टर किया गया था, 481 यहां वैक्सीन लगाने के लिए पहुंचे। इसके अलावा 13 हैल्थ केयर वर्कर्स को हल्के इन्फेक्शन भी हुए, लेकिन सभी ठीक रहे। कांगड़ा में चार, शिमला में चार, मंडी में एक, सोलन में तीन और उनमें एक हैल्थ केयर वर्कर को हल्का रिएक्शन हुआ। राज्य में अभी तक 13562 हैल्थ केयर वर्कर्स को वैक्सीन लग चुकी है।

स्टाफ रिपोर्टर — शिमला

जिला शिमला के तहत चनावग पंचायत के पलावल गांव में तेंदुए की दहशत से लोग परेशान हो गए हैं। तेंदुए ने यहां एक ग्रामीण की गोशाला का दरवाजा तोड़ दो दुधारू गाय और एक बछड़ी को मार दिया है। तेंदुए ने एक जर्सी और पहाड़ी गाय को अपना शिकार बनाया है। ग्रामीणों का कहना है कि तेंदुए की दहशत से ग्रामीणों का रहना मुश्किल हो गया है। तेंदुए ने ग्रामीण मेहर चंद के पालतू पशुओं को शिकार बनाया है। उन्होंने बताया कि जब उनकी पत्नी सुबह गोशाला जा रही थी, तो उन्होंने गोशाला के दरवाजे टूटे हुए देखे, जिससे वह डर गई।

वहां से भागकर वह अपने घर गई और पति को गोशाला साथ ले आई, जहां उन्होंने देखा कि गोशाला के भीतर बंधी दोनों गाय मृत पड़ी हुई थी और उनके गले से खून बह रहा था। यहां एक गोशाला का बछिया नहीं थी। इसे तेंदुआ अपने साथ घसीट कर ले गया था। कुछ दूरी पर जाकर यह भी आधा खाया हुआ मिला है। गरीब परिवार पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है। मेहर चंद ने तत्काल पंचायत के प्रधान, सदस्य व वेटरिनरी के डाक्टर को इसकी सूचना दी, जिन्होंने मौके पर आकर नुकसान का जायजा लिया। ग्रामीण विकास सभा चनावग के अध्यक्ष व लेखक एसआर हरनोट ने भी मौके पार आकर परिवार से भेंट की व संबंधित विभाग से किसान मेहर चंद को उचित मुआवजा देने की मांग की। इससे पूर्व भी तेंदुआ कई पशुओं को अपना शिकार बना चुका है।

तेंदुए और बाघ के आतंक के बारे में कई बार ग्रामीणों ने वन विभाग को आवश्यक कार्रवाई के लिए सूचना दी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है। एसआर हरनोट ने वन विभाग से आह्वान किया है कि तेंदुआ पकड़ने के लिए जरूरी कदम उठाएं, ताकि और नुकसान न हो। हरनोट ने गाय के मालिक के साथ इस हादसे के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए हर संभव सहायता का आश्वासन भी दिया।

कार्यालय संवाददाता — शिमला

लाहुल-स्पीति में शनिवार को ताजा हिमपात हुआ है। लाहुल के साथ-साथ रोहतांग, बारालाचा, मनाली के ऊंचाई वाले क्षेत्रों सहित चंद्रखनी में दोपहर बाद बर्फबारी हुई है।

इसके अलावा शेष हिमाचल में मौसम साफ बना रहा। मौसम विभाग द्वारा शनिवार को प्रदेश के अनेक स्थानों पर बारिश-बर्फबारी होने की संभावना जताई गई थी। इतना ही नहीं, विभाग ने राज्य के मैदानी व मध्यम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में कुछ स्थानों पर गर्जन के साथ ओलावृष्टि होने का अलर्ट जारी किया गया था, मगर लाहुल-स्पीति को छोड़कर प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में मौसम साफ बना रहा। हालांकि राज्य के कुछ स्थानों पर दिन के समय शीतलहरों के प्रवाह से तापमान में गिरावट आई है, लेकिन प्रदेश में बारिश-बर्फबारी नहीं हुई। मौसम विभाग के निदेशक डा. मनमोहन सिंह ने खबर की पुष्टि की है।

दिव्य हिमाचल टीम — सलूणी, सुरंगानी

चंबा-सलूणी मुख्य मार्ग पर भतयूंड पुल के समीप एक कार के अनियंत्रित होकर गहरी ढांक में जा गिरने से दो युवकों की मौत हो गई। कार में दो लोग ही सवार थे। पुलिस ने मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु भिजवा दिया है। मृतकों के शवों का पोस्टमार्टम रविवार को करवाया जाएगा। पुलिस ने मामला दर्ज कर दुर्घटना के विस्तृत कारणों की जांच आरंभ कर दी है। शनिवार दोपहर बाद बयाना पंचायत के काकडांई गांव का जर्म सिंह व विजय सलूणी से कार में सवार होकर वापस घर की ओर जा रहे थे।

इसी दौरान घर के ठीक नीचे भतयूंड पुल के समीप पास कार अनियंत्रित होकर गहरी ढांक से नीचे लुढ़क गई। परिणामस्वरूप इसमें सवार जर्म सिंह व विजय की मौके पर ही मौत हो गई। कार को गिरता देख मौके पर पहुंचे लोगों ने तुरंत पुलिस को सूचित करने के साथ राहत व बचाव कार्य आरंभ किए। सूचना पाते ही सुरंगानी पुलिस चौकी से पुलिस टीम ने मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का निरीक्षण करने के साथ ही लोगों के सहयोग से मृतकों के शवों को ढांक से उठाकर वाहन के जरिए पोस्टमार्टम हेतु भिजवाए।

पुलिस ने आरंभिक जांच के आधार पर इस संदर्भ में भादंसं की धारा 279 व 304ए के तहत मामला दर्ज किया है। उधर, डीएसपी सलूणी शेर सिंह ने कार के दुर्घटनाग्रस्त होने से दो युवकों के मारे जाने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि दुर्घटना को लेकर नियमानुसार आगामी कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। मृतकों के शवों का पोस्टमार्टम रविवार को करवाया जाएगा।

कुल्लू में टिप्पर ने कुचल डाली बुजुर्ग

भुंतर। जिला कुल्लू के बजौरा में एक टिप्पर की चपेट में आने से बुजुर्ग महिला की मौत हो गई। हादसा शनिवार दोपहर का बताया जा रहा है। महिला सड़क पार कर रही थी कि टिप्पर ने टक्कर मार दी। टक्कर इतनी खतरनाक थी कि महिला की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलते ही पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर इसकी तहकीकात आरंभ कर दी। पुलिस ने टिप्पर को अपने कब्जे में ले लिया और टिप्पर चालक को भी गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है।

टीम — धर्मशाला, शिमला

हिमाचल पथ परिवहन निगम ने वॉल्वों बस में सफर करने वाले यात्रियों को राहत प्रदान की है। निगम प्रबधन ने वॉल्वों के किराए को कम किया है। प्रतिस्पर्धा के दौर में निगम ने वॉल्वों बस के किराए को 20 से 21 फीसदी तक घटाया है। जो नए साल में यात्रियों के लिए बड़ी राहत है। परिवहन निगम द्वारा वॉल्वो बसों में 23 मार्च, 2020 को किराया निर्धारित किया गया था, अब वही किराया फिर वसूला जाएगा।

इसके बाद किराए में की गई बढ़ोतरी यात्रियों से नहीं वसूली जाएगी। निगम द्वारा शिमला से दिल्ली के लिए वॉल्वो बस में मौजूदा समय में 1172 किराया लिया जा रहा था, लेकिन किराया कम करने के बाद यह किराया 972 रुपए होगा। किराए में कमी के निगम प्रबंधन द्वारा ऑर्डर भी जारी कर दिए गए हैं। वहीं, नाइट रूट पर भेजी गई बसों में भी यही किराया यात्रियों से वसूला गया। मौजदा समय के दौरान एचआरटीसी द्वारा  शिमला, धर्मशाला, मंडी, मनाली, कुल्लू, हमीरपुर सहित अन्य मुख्य डिपुओं से दिल्ली के लिए वॉल्वो बसें भेजी जा रही हैं। यह किराया सभी स्टेशन्स से मान्य होगा। यह किराया 28 फरवरी, 2021 तक मान्य होगा।

वाया शाहदरा होकर चलाई जा रहीं बसें

निगम प्रबंधन द्वारा दिल्ली में किसान आंदोलन के चलते दिल्ली के लिए वाया शाहदरा होकर बसों का संचालन किया जा रहा है। हालांकि अभी तक निगम को रूटों पर सवारियां नहीं मिल रही हैं, मगर किराया कम करने के बाद अगामी दिनों के रूटों पर सवारियां बढ़ने की संभावना जताई जा रही है।

दिव्य हिमाचल ब्यूरो—मंडी

अलग चुनाव चिन्ह पर कई चुनाव जीतने का रिकार्ड जहां जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह के नाम है, वहीं जिला परिषद चुनाव में पूर्व मंत्री कौल सिंह की बेटी चंपा ठाकुर ने भी जीत का चौका लगा कर एक ऐसा ही रिकार्ड बना दिया है। चंपा ठाकुर लगातार चौथी बार जिला परिषद की सदस्य चुनी गई हैं और हर उन्होंने जिला परिषद के चारों चुनाव वार्ड बदल-बदल कर लड़े व जीते हैं। जिला परिषद चुनावों के इतिहास में शायद ही किसी के नाम ऐसा रिकार्ड हो। यही नहीं, चंपा ठाकुर जिला परिषद के ऐसी सदस्य भी बन गई हैं, जो कि लगातार चौथी बार जिला परिषद का सदस्य चुन कर आई हैं।

इस बार उन्हें हराने के लिए न सिर्फ सत्ता, भाजपा संगठन और कांग्रेस के भी कुछ लोग लगे हुए थे, लेकिन इसके बाद भी चंपा ठाकुर ने जिप के स्योग वार्ड से 2389 मतों के अंतर बड़ी जीत दर्ज की है। बता दें कि मंडी जिला के सदर क्षेत्र के तहत जिला परिषद के चार वार्ड आते हैं और चंपा यहां के तीन वार्डों से बतौर जिला परिषद चुन कर आ चुकी हैं। एक बार जिला परिषद की अध्यक्ष रहने के साथ ही चंपा ठाकुर ने 2017 में कांग्रेस के टिकट पर विधानसभा का चुनाव भी लड़ा, लेकिन तब उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। इस बार चंपा ठाकुर ने जिला परिषद के स्योग वार्ड से जिला परिषद का चुनाव लड़ा। यहां चंपा ठाकुर को 7964 वोट मिले, जबकि दया देवी को 5575 मत। चंपा ठाकुर ने अपनी जीत के लिए स्योग वार्ड की जनता का आभार जताया है। उधर, कौल सिंह की बहन भी बीडीसी का चुनाव जीत गई हैं।

50 साल का विजन डाक्यूमेंट बनाएगी सरकार 

राज्य ब्यूरो प्रमुख—शिमला

हिमाचल प्रदेश की 50 साल की विकास गाथा आम जनता तक पहुंचाने के लिए राज्य में रथ यात्रा चलेगी। गांव स्तर पर इस रथ यात्रा के माध्यम से जनता को बताया जाएगा कि हिमाचल 50 साल पहले कहां पर था और आज कहां तक पहुंचा है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने हिमाचल को यहां तक पहुंचाने के लिए राज्य की जनता का आभार जताया है।

उन्होंने कहा कि बिना जनता के सहयोग से हिमाचल यहां तक नहीं पहुंच पाता। यहां पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐतिहासिक रिज पर स्वर्णिम हिमाचल कार्यक्रम होगा, जिसमें देश के गृह मंत्री अमित शाह मुख्य अतिथी होंगे और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा विशेष रूप से उपस्थित होंगे। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर 25 जनवरी को सभी जिला मुख्यालयों और उपमंडल स्तर पर भी स्वर्ण जयंती समारोह विषय पर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। जिला और उपमंडल स्तर पर कार्यक्रमों का आयोजन 11 बजे तक संपन्न हो जाएगा। इसके उपरांत वे शिमला में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह में वर्चुअली शामिल होंगे। जयराम ठाकुर ने कहा कि भविष्य के हिमाचल को बनाने के लिए जनता के सुझाव लेकर एक विजन डाक्यूमेंट बनाया जाएगा। कार्यक्रमों की रूपरेखा बताते हुए उन्होंने कहा कि स्वर्णिम हिमाचल’ समारोह का एलईडी स्क्रीन के माध्यम से प्रदेश के सभी जिलों और उपमंडल स्तर पर सीधा प्रसारण किया जाएगा। स्वर्णिम हिमाचल समारोह के दौरान विशेष डाक टिकट का अनावरण, ‘हिमाचल तब और अब’ वृतचित्र का प्रसारण और ‘कॉफी टेबल बुक’ का विमोचन भी किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि विकास के लिए वांछित मूलभूत संरचना और धन का नितांत अभाव होते हुए भी प्रदेश ने हार नहीं मानी। राज्य में विभिन्न काल खंडों में रही सरकारों ने प्रदेश के सर्वागींण विकास के लिए सशक्त प्रयास किए। 50 वर्षों के दौरान सड़क निर्माण, शिक्षा के प्रसार, विद्युतीकरण, पेयजल, कृषि एवं बागवानी, विद्युत उत्पादन, पर्यटन विकास, स्वास्थ्य सुविधाएं, औद्योगिकरण, सामाजिक सरोकार सहित अन्य सभी क्षेत्रों में राज्य का अभूतपूर्व विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार का तीन वर्ष का सेवाकाल उपलब्धियों भरा रहा है। इस अवधि में सरकार ने अनेक नई योजनाएं आरम्भ की हैं, जिससे विकास के एक नए युग का सूत्रपात हुआ है। केंद्र सरकार के सक्रिय सहयोग तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आशीर्वाद से प्रदेश में विकास की गाड़ी डबल इंजन के साथ दौड़ रही है। उन्होंने कहा कि सच तो यह है कि विकास यात्रा नितांत बहने वाली एक अविरल धारा है।

इनका योगदान अहम

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल के विकास के लिए जिन जनप्रतिनिधियों का योगदान रहा ह,ै उन सभी का सम्मान सरकार करेगी। हिमाचल के विकास में डा. यशवंत सिंह परमार, ठाकुर राम लाल,  शांता कुमार, वीरभद्र सिंह, प्रेम कुमार धूमल का विशेष योगदान रहा है।

कनेक्टिविटी पर फोकस

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न वर्गों के लिए घोषणाएं करने या फिर केंद्र सरकार से पैकेज लेने के लिए कोई निर्धारित समय नहीं होता, वह कभी भी किए जा सकते हैं। केंद्र सरकार ने हिमाचल को बहुत कुछ दिया है। प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना राज्य के विकास में सबसे बड़ी मददगार योजना रही है, जिसने पीठ का बोझ खत्म किया है। सीएम ने कहा कि 50 साल में शिक्षा क्षेत्र में हिमाचल ने तरक्की की, वहीं स्वास्थ्य क्षेत्र में उन्नित की है। ऐसे ही कनेक्टिविटी पर अगले 50 साल में हिमाचल का फोकस रहेगा। एक सवाल पर उन्होंने कहा कि संसाधन जुटाने की बड़ी चुनौती है, जिससे पार पाना है।

स्टाफ रिपोर्टर — शिमला

आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में हिमाचल के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी ने बेहतर प्रदर्शन किया है। शून्य शिकायतें और ज्यादा संख्या में मरीजों का उपचार करने को लेकर आईजीएमसी को इस सम्मान क लिए चुना गया है। अस्पताल के एमएस डा. जनकराज 26 जनवरी को रिज पर सम्मान लेंगे। अस्पताल स्टाफ और प्रबंधन इस उपलब्धि के लिए उत्साहित है। आयुष्मान जन आरोग्य योजना की शुरुआत सितंबर 2018 से हुई थी, तब से लेकर आजतक यहां पर 14946 मरीजों का उपचार किया जा चुका है।

इसमें कई तरह के आपरेशन भी शामिल हैं, जबकि कई ऐसे भी मरीज हैं, जिनका खर्चा तय शेड्यूल से भी ज्यादा था, लेकिन उसका खर्चा भी स्वयं आईजीएमसी प्रबंधन ने उठाया है। वहीं इस संबंध में किसी भी तरह की शिकायत आईजीएमसी की ओर से नहीं हुई है। बेहतर प्रदर्शन चार प्वाइंट को ध्यान में रखते हुए आंका गया, जिसके बाद आईजीएमसी प्रदेश भर में पहले स्थान पर रहा। वहीं आईजीएमसी के एमएस डा. जनकराज का कहना है कि यह पूरे स्टाफ की मेहनत का नतीजा है कि अस्पताल को इस इनाम के लिए चुना गया है। आईजीएमसी लगातार लोगों को बेहतर सुविधाएं दे रहा है। आने वाले समय में और भी सुधार किए जाएगे।

आईजीएमसी का हर साल का रिकार्ड

साल       मरीज     खर्चा

2018      730        9898100

2019      8126      114046293

2020      5915      110679504

2021      175        1899060

कुल       14946     236512957

कपूर बोले, अब हिमाचल का कांग्रेस मुक्त होना तय

कार्यालय संवाददाता — पालमपुर

पंचायती राज के चुनाव परिणामों में भाजपा को मिल रहे प्रचंड बहुमत से हिमाचल का कांग्रेस मुक्त होना निश्चित है। ये शब्द भाजपा के प्रदेश महामंत्री एवं कांगड़ा-चंबा संसदीय क्षेत्र के प्रभारी त्रिलोक कपूर ने कहे। प्रदेश महामंत्री ने कहा कि जो पार्टी द्वारा जिला परिषद सीटों को लेकर कांगड़ा में मिशन 40 और चंबा में मिशन 12 का एक संकल्प लिया था, वह शानदार परिणाम आने के बाद संकल्प पूरी तरह चरितार्थ हो गया है। जिला कांगड़ा में जिला परिषद की सीटों के 40 के आंकड़े को छूना और चंबा में 12 के आंकड़े को पार करना, जयराम सरकार द्वारा पिछले तीन वर्षों में सुशासन और विश्वास के मंत्र के आधार पर किए गए कार्यों के ऊपर जनता के आत्मविश्वास की एक मुहर है।

उन्होंने कहा कि ईमानदारी के साथ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर बिना भेदभाव प्रदेश के समुचित विकास को लेकर आगे बढ़ रहे हैं, उससे जनता का आत्मविश्वास भी पूरी तेजी से मजबूत हुआ है। उन्होंने कहा कि कांगड़ा संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत धर्मशाला और पालमपुर  के दोनों नगर निगम के चुनाव को लेकर पार्टी और संगठन पूरी योजना और विश्वास के साथ सभी कार्यकर्ताओं को लेकर सम्मान की दृष्टि से आगे बढ़ रहे हैं। इससे यह निश्चित है कि पार्टी द्वारा निर्धारित  पालमपुर नगर निगम का 15/15  और धर्मशाला नगर निगम का 17/17 के संकल्प को पूरा करने के लिए भाजपा का कार्यकर्ता एक बार फिर कांग्रेस की सही ढंग से तसल्ली करने के लिए पूरी तरह आतुर दिखाई दे रहा है। प्रदेश महामंत्री एवं कांगड़ा-चंबा संसदीय क्षेत्र के प्रभारी त्रिलोक कपूर ने कहा कि यही नहीं, कांगड़ा संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत हर विकास खंड से जुड़े भाजपा समर्थित ब्लॉक समिति सदस्य प्रचंड बहुमत के साथ जीत कर आगे आए हैं।