Sunday, December 06, 2020 04:01 AM

बुजुर्गों की देखभाल

आजकल हम भागदौड़ का जीवन बिता रहे हैं। हम सब अपनी-अपनी जिंदगियों में व्यस्त हैं और बुजुर्गों के साथ वक्त बिताने के लिए हमारे पास कोई समय नहीं है। हम  पश्चिमी सभ्यता का अंधाधुंध अनुकरण कर रहे हैं। हमारी सभ्यता पश्चिम की सभ्यता से अलग है। पश्चिम में जहां अभिभावक वयस्क होते ही अपने बच्चों को स्वयं से अलग कर देते हैं, उसके विपरीत हमारे समाज में बच्चों को अलग नहीं किया जाता है।

अभिभावक अपनी पूरी जिंदगी की कमाई बच्चों को अपने पैरों पर खड़ा करने में लगा देते हैं। वे हमसे हमारे साथ के सिवाय और कुछ नहीं चाहते हैं। उन्होंने हमें बहुत प्यार से बड़ा किया होता है। कई बार वे खुद भूखे सोते हैं, लेकिन हम भूखे न सोएं, इसका ध्यान अवश्य रखते हैं। इसलिए हमें भी बुजुर्गों का पूरा ख्याल रखना चाहिए।

The post बुजुर्गों की देखभाल appeared first on Divya Himachal.