Monday, October 26, 2020 09:30 AM

चंबा में नैक मूल्यांकन पर विद्वानों ने रखे विचार

राजकीय महाविद्यालय चंबा में पूर्व प्रस्तावित कार्यक्रमानुसार राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद विषय संबंधित एक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। इसमें नैक पीयर कमेटी, यूजीसी के सदस्य एवं महाराष्ट्र के प्रतिष्ठित शिक्षाविद् प्रोफेसर डा. नागनाथ धर्माधिकारी ने मुख्यातिथि व मुख्यवक्ता के तौर पर शिरकत की। इस वेबिनार का आयोजन गूगल मीट के माध्यम से किया गया। इस वेबिनार में हिमाचल प्रदेश के विभिन्न महाविद्यालयों, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय, केंद्रीय विश्वविद्यालय, तकनीकी विश्वविद्यालय व अन्य राज्यों के प्रबुद्धजन, सहायक प्रोफेसर, सह प्रोफेसर, प्रोफेसर व प्राचार्यों ने प्रतिभागियों के रूप में शिरकत की व वेबिनार के माध्यम से लाभांवित हुए।

आयोजकों में नैक टीम समन्वयक डा. मनेश वर्मा व वेबिनार के संचालक प्रो. अविनाश ने वेबिनार की रूपरेखा प्रस्तुत की। इसके उपरांत स्थानीय एवं मेजबान महाविद्यालय के प्राचार्य डा. शिव दयाल ने मुख्यवक्ता व वेबिनार में जुड़े सभी प्रतिभागियों का औपचारिक स्वागत किया। इसके पश्चात प्रोफेसर डा. नागनाथ धर्माधिकारी ने अपने विचार रखे। उन्होंने नैक मूल्यांकन एवं प्रत्यायन संबंधित प्रक्रिया के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि महाविद्यालय व विश्वविद्यालयों के मूल्यांकन हेतु विभिन्न प्रकार की जानकारियां उपलब्ध करवाने के साथ कागजात बनाने पड़ते है। समय-समय पर जानकारी साझा करनी पड़ती है।

डा. धर्माधिकारी के मुताबिक मूल्यांकन करवाने हेतु पिछले लगभग पांच वर्षों का अकादमिक कार्यकलापों, सह शिक्षण गतिविधियां, खेलकूद, शिक्षकवर्ग, सह-शिक्षण कर्मचारियों व शिक्षार्थियों इत्यादि का विस्तृत लेख-जोखा प्रस्तुत करना पड़ता है। इसके बाद टीम संबंधित शैक्षणिक संस्थान का दौरा कर के वस्तुस्थिति का जायजा लेती है। इस अवसर पर महाविद्यालय के प्रो. परविंद्र कुमार, डा. हेमंत पाल, डा. मनेश वर्मा, प्रोफेसर अविनाश, डा. चमन सिंह, डा. तेज सिंह, डा. जयश्री व प्रोफेसर सुमित के अलावा तकनीकी सहायक के रूप में रविंद्र सिंह मौजूद रहे।

The post चंबा में नैक मूल्यांकन पर विद्वानों ने रखे विचार appeared first on Divya Himachal.