Saturday, January 23, 2021 05:08 PM

चंबा में बिजली बोर्ड के कर्मियों ने लगाएं नारे

हिमाचल प्रदेश राज्य बिजली बोर्ड एंप्लाइज यूनियन की चंबा जिला इकाई ने राष्ट्रीय समन्वय समिति विघुत कर्मचारी व इंजीनियर के आहवान पर गुरुवार को कनवेशन का आयोजन किया गया। इस दौरान बिजली बोर्ड के कर्मचारियों व पेंशनरों ने केंद्र सरकार के बिजली बोर्ड की निजीकरण कवायद का विरोध किया। इस दौरान कर्मचारियों व पेंशनरों ने बोर्ड की निजीकरण की सरकारी मुहिम के खिलाफ नारेबाजी भी की। इस विरोध प्रदर्शन की अगवाई यूनियन के मुख्य सलाहकार अनिल वर्मा ने की। अनिल वर्मा ने कहा कि केंद्र सरकार बिजली बोर्ड के निजीकरण की दिशा में काफी तेजी से बढ रही है। उन्होंने कहा कि निजीकरण से क्रॉस सबसिडी खत्म हो जाएगी। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की दरों में कई गुणा बढ़ोतरी हो जाएगी। उन्होंने कहा कि बोर्ड के निजीकरण से जहां 22 हजार पेंशनरों की पेंशन पर प्रश्नचिन्ह खड़ा हो जायगा।

वहीं, कर्मचारियों के वित्तीय लाभों के अलावा अन्य सेवा शर्तें प्रभावित होगीं। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों के विरोध के बावजूद सरकार निजीकरण की और बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि अगर निजीकरण की मुहिम को बंद न किया गया तो आंदोलन को और तेज किया जाएगा। कनवेशन के दौरान यूनियन के राज्य संयुक्त सचिव मुकेश कुमार, जोनल सचिव आत्मा राम, चंबा यूनियन के प्रधान दरबारी लाल शर्मा व वित्त सचिव अरुण कुमार ने भी अपने विचार रखे। इस मौके पर पावर इंजीनियर एसोसिएशन के ई राज सिंह व ईं अजय भारद्धाज के अलावा तीसा, भरमौर, कोटी, राख और चंबा एक और दो उपमंडल के कर्मचारी भी मौजूद रहे।

The post चंबा में बिजली बोर्ड के कर्मियों ने लगाएं नारे appeared first on Divya Himachal.