Sunday, August 09, 2020 05:27 PM

कांग्रेस की सियासत डर्टी, भाजपा की राहतें कागजी

सुजानपुर भाजपा के आरोप; पंजाब और चंडीगढ़ की राजनीति कर रहे विधायक, जनता देगी जवाब। राजेंद्र राणा का पलटवार, कोरोना काल में लोगों के लिए मुसीबतें खड़ी कर रही प्रदेश सरकार, झूठी घोषणाओं से लोग तंग

सुजानपुर-सुजानपुर भाजपा मंडल अध्यक्ष वीरेंद्र ठाकुर, उपाध्यक्ष अंकुश गुप्ता, महामंत्री अनिल शामा आदि नेताओं ने सुजानपुर विधायक पर तीखा हमला बोलते हुए जमकर लताड़ लगाई है।  भाजपा पदाधिकारी ने कहा कि वर्तमान में विधायक निम्न स्तर की राजनीति पर उतर आए हैं, जो अशोभनीय हरकत है।  उन्होंने कहा कि मंगलवार को उन्होंने जिन कार्यकर्ताओं को भाजपा पार्टी का कार्यकर्ता बता कर अपनी पार्टी में शामिल किया है वह सभी कार्यकर्ता पहले से ही कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता हैं, लेकिन वाहवाही लूटने के चक्कर में विधायक राणा बार-बार अपने ही कार्यकर्ताओं को भाजपा का बताकर कांग्रेस में शामिल कर रहे हैं।  चंडीगढ़, पंजाब की राजनीति को हिमाचल में चलाकर वह क्या दिखाना चाहते हैं,जबकि प्रदेश की भोली-भाली जनता सब कुछ जानती है।  उन्होंने खुले मंच से विधायक राजेंद्र राणा को बहस की चुनौती देते हुए कहा कि जिन कार्यकर्ताओं को वह भाजपा पार्टी का कार्यकर्ता बता रहे हैं, इसका अगर कोई उनके पास प्रमाण है, तो वह सार्वजनिक करें नहीं तो झूठ की राजनीति से सन्यास ले लें।  भाजपा पदाधिकारियों ने कहा कि पंचायती राज ग्रामीण मंत्री ने स्पष्ट तौर पर कह दिया है कि आने वाले पंचायतीराज राज चुनाव पार्टी सिंबल पर नहीं होंगे, जिसका वह पूरी तरह समर्थन करते हैं। पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के आशीर्वाद से सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र के पंचायती राज चुनावों में भगवा बुलंद होगा।

हमीरपुर-देश और प्रदेश की राजनीति में निरंतर बढ़ रहे राजनीतिक दखल और दबाव से आम आदमी में तनाव व्याप्त है। आम नागरिक सरकार तक अपनी बात न पहुंचा पा रहा है और न ही उसकी सुनने को कोई राजी है। आर्थिक संकट से जूझ रहे बेरोजगारों के परिवार सरकार की ओर राहत की टकटकी लगाए बैठे हैं, लेकिन सरकार राहत देने की बजाय महामारी व मंहगाई के चंगुल में फंसी जनता के लिए नित नई आफत का मसौदा तैयार कर रही है। लॉकडाउन के बाद देश के करोड़ों मजदूर व कामगार गांवों की ओर लौट आए हैं, लेकिन सरकार के पास उनके लिए कोई कारगर योजना जमीन पर हकीकत में नहीं दिख रही है। यह बात राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने यहां जारी प्रेस बयान में कही है। सरकार की राहतों की कागजी बौछार पर रोज महंगाई की मार पड़ रही है। सरकार की देखादेखी में प्रशासनशाही सर्वशक्तिमान की भूमिका में आम नागरिकों के हितों से रोज खिलवाड़ कर रही है, जिसको लेकर पूरे देश और प्रदेश में आक्रोश फैल रहा है। आलम यह है कि सत्तासीन पार्टी के पास आम नागरिकों के सवालों का ईमानदारी से कोई जवाब नहीं है। कोरी घोषणाओं व जुमलों के साथ कागजी आंकड़ों से जनता को संतुष्ट करवाने का असफल प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिए कि नौकरी खोने के बाद गांवों की ओर लौट चुके बेरोजगारों को उन्हीं के क्षेत्रों में रोजगार मुहैया करवाया जाए। क्योंकि काम मिलने से जहां आम आदमी की जेब में पैसा आएगा वहीं ग्रामीण क्षेत्रों का प्राथमिक मूलभूत विकास भी संभव हो पाएगा।

The post कांग्रेस की सियासत डर्टी, भाजपा की राहतें कागजी appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.