Sunday, December 06, 2020 02:56 AM

Bihar Assembly Elections: कांग्रेस का वादा, शराबबंदी की करेंगे समीक्षा

बिहार में पार्टी ने जारी किया घोषणापत्र, लड़कियों को स्कूटी देने का भी ऐलान

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए कई पार्टियों ने अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है। महागठबंधन का हिस्सा कांग्रेस पार्टी ने भी बुधवार को अपना बदलावपत्र जारी किया, जिसमें कई बड़े वादे किए गए। इन्हीं से एक वादा कांग्रेस ने शराबबंदी को लेकर भी किया है। कांग्रेस का कहना है कि शराबबंदी के निर्णय की वह सत्ता में आने पर समीक्षा करेगी। कांग्रेस ने कहा है कि शराबबंदी से राज्य के राजस्व को नुकसान हुआ है, लेकिन सरकार इसके सकारात्मक उद्देश्य से भटक गई है।

इसके कारण राज्य में अवैध व्यापार हो रहा है और पुलिस को लाभ पहुंचा है, जबकि जनता अभी भी परेशान ही है। ऐसे में सत्ता में आने पर इसकी सही से समीक्षा की जाएगी। बता दें कि शराबबंदी के फैसले को नीतीश सरकार ने लागू किया था और इसे एक बड़ी उपलब्धि करार दिया था। हालांकि, चुनावी सीजन में बिहार के कई इलाकों में शराब पकड़ी गई है, जो कि इस फैसले के क्रियान्वन पर सवाल खड़े करती है।

इनके अलावा कांग्रेस ने अपने वादों में कई अहम बातें कही हैं, जिनमें सौ यूनिट तक आधा बिल माफ, लड़कियों को स्कूटी, युवाओं को बेरोजगारी भत्ता, विधवाओं को पेंशन देने की बात कही गई है। बिहार में कांग्रेस कुल 70 सीटों पर चुनाव लड़ रही है और महागठबंधन का हिस्सा है। राज्य में 28 अक्तूबर को पहले चरण के लिए मतदान होना है।

चिराग के मेनिफेस्टो में वाजपेयी का सपना

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव के लिए बुधवार को लोक जनशक्ति पार्टी के नेता चिराग पासवान ने अपना विजन डॉक्यूमेंट जारी किया। चिराग ने विजन डॉक्यूमेंट के जरिए कई बड़े वादे किए, जिनमें 1. सरकार बनने पर अलग से प्रवासी मजदूर मंत्रालय, ताकि दूसरे राज्यों में रहने वाले मजदूरों से संपर्क रखा जा सके, 2. राज्य में बड़े स्तर पर मेडिकल कालेज, इंजीनियरिंग कालेज खोलने का वादा, ताकि बिहारी युवा बाहर पढ़ने न जाए, 3. बिहार में अभी स्वास्थ्य की सही सुविधा नहीं है। अस्पतालों में डाक्टर नहीं है, जबकि नौकरियां खाली पड़ी हैं, 4. नदियों को जोड़ने की योजना पर तेजी से काम होना चाहिए, ताकि बाढ़ और सूखे की समस्या दूर हो सके, 5. बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिलने के हक में, 6. बिहार में इन्वेस्टर्स समिट के जरिए निवेश पर फोकस, लैंड रिफॉर्म पर जोर दिया जाएगा, 7. धार्मिक टूरिज्म को बढ़ावा, सीतामढ़ी को अयोध्या के साथ जोड़ा जाए व 8. बिहार में दूध उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए डेनमॉर्क मॉडल अपनाया जाएगा, शामिल हैं। बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने देश में नदियों को जोड़ने की योजना चलाई थी, जिसे अब मोदी सरकार भी आगे बढ़ा रही है। ऐसे में बार-बार चिराग पासवान अपने संबोधन में पीएम मोदी के विकास की बात करते हैं और अब उन्होंने बिहार में बाढ़ की समस्या का हल निकालने के लिए अटल की उसी योजना को आगे बढ़ानी की बात कही है।  चिराग पासवान ने अपने विजन डॉक्यूमेंट को बिहार फर्स्ट और बिहारी फर्स्ट का नारा दिया है।

The post Bihar Assembly Elections: कांग्रेस का वादा, शराबबंदी की करेंगे समीक्षा appeared first on Divya Himachal.