Saturday, January 23, 2021 08:32 PM

कोरोना के लिए गुरुमंत्र: डा. वरिंदर भाटिया, कालेज प्रिंसिपल

डा. वरिंदर भाटिया

कालेज प्रिंसिपल

इसके प्रसार को रोकने के लिए जरूरी है कि हमारे पास सही जानकारी हो और हम सावधान तथा जागरूक रहें। इस बात में शक नहीं है कि महामारी के इस दौर में कई लोगों को मानसिक तनाव हो सकता है। हो सकता है कि आपको बेचैनी महसूस हो रही हो, आप तनाव महसूस कर रहे हों, परेशान हो रहे हों, दुखी हों, अकेला महसूस कर रहे हों। इसके लिए ब्रिटिश नेशनल हेल्थ सर्विस ने दस टिप्स दिए हैं जिससे आप अपनी मानसिक स्थिति को बेहतर बनाए रख सकते हैं। अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ फोन, वीडियो कॉल या फिर सोशल मीडिया के माध्यम से संपर्क में बने रहें। उन चीजों के बारे में बात करते रहें जिससे आपको परेशानी हो रही हो। दूसरे लोगों को भी समझने की कोशिश करें। अपनी नई दिनचर्या को व्यावहारिक तरीके से प्लान करें। अपने शरीर का ध्यान रखें। नियमित व्यायाम और खान-पान का ध्यान रखें…

पूरी दुनिया में कोरोना का कहर एक बार फिर तेजी पकड़ गया है। हर रोज हजारों मामले सामने आ रहे हैं। इसे लेकर देश भर में हड़कंप मच गया है, जिसके चलते कई राज्यों में रात का कर्फ्यू लगा दिया गया है। दिल्ली में बाजार बंद करने के विकल्पों पर विचार किया जा रहा है तो उत्तर प्रदेश में शादी-ब्याह में मेहमानों की संख्या पर पाबंदी लगा दी गई है। वहीं हिमाचल जैसे कुछ राज्यों में रात का कर्फ्यू लागू करने के साथ ही स्कूलों-कालेजों को बंद कर दिया गया है। मीडिया रिपोर्टों पर आधारित कुछ दिन पहले का विश्लेषण बताता है कि देश में अब कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 91 लाख के करीब पहुंच गई है। विश्व में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या लगातार तेजी से बढ़ते हुए 5.85 करोड़ के पार हो गई है और इस महामारी से अब तक 13.86 लाख से अधिक लोगों की मौत भी हो चुकी है। कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामले में अमरीका पहले, भारत दूसरे और ब्राजील तीसरे स्थान पर है। वहीं इस संक्रमण से तेजी से मुक्त होने वाले लोगों की संख्या के मामलों में भारत, ब्राजील और अमरीका क्रमशः पहले, दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं।

अमरीका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केंद्र (सीएसएसई) की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार विश्व के 191 देशों में कोरोना वायरस से अब तक 58563451 लोग संक्रमित हुए हैं और 1386465 लोगों की मौत हुई है। कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित अमरीका में अब तक 12226643 लोग संक्रमित हुए हैं और 256745 मरीजों की मौत हुई है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से  कुछ दिन पहले जारी आंकड़ों के अनुसार भारत में कोरोना के 44059 नए मामले सामने आए और संक्रमितों की संख्या 91.39 लाख के पार पहुंच गई तथा स्वस्थ होने वालों की संख्या 85.62 लाख से अधिक हो गई है। इस दौरान 511 और मरीजों की मौत के साथ मृतकों का आंकड़ा बढ़कर 133738 हो गया। देश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या में 2524 की वृद्धि के बाद अब सक्रिय मामले 443486 हो गए हैं। ब्राजील कोरोना संक्रमितों के मामले में तीसरे स्थान पर और इससे मुक्ति पाने और मृतकों के आंकड़े में दूसरे स्थान पर है। देश में कोरोना वायरस की चपेट में आने वाले लोगों की संख्या 60.71 लाख से पार हो गई है, जबकि 169183 लोगों की मौत हो चुकी हैं। फ्रांस में 21.91 लाख से अधिक लोग इससे प्रभावित हैं और 48807 मरीजों की मौत हो चुकी है।

 रूस में कोरोना से संक्रमित होने वालों की संख्या 20.71 लाख को पार कर गई है और अब तक 35838 लोगों की मौत हो गई है। मेडिकल जर्नल द लांसेट इंफेक्शियस डिज़ीज़ में छपी एक नई रिसर्च के मुताबिक कोविड-19 के मरीजों में 0.66 प्रतिशत लोगों के ही मरने की आशंका होती है। यह सामान्य फ्लू से होने वाली मौतों से सिर्फ 0.1 फीसदी ही अधिक है। लेकिन यहां इस बात का जिक्र करना जरूरी हो जाता है कि अभी तक हमें मौत के सिर्फ वही मामले पता हैं जो अस्पताल में हुई हैं। इस बात की पूरी आशंका है कि मौत का आंकड़ा इससे अधिक हो। ऐसे में पुख्ता तौर पर कहना थोड़ा मुश्किल है। किसी महामारी के दौरान डेथ-रेट का आकलन कर पाना थोड़ा मुश्किल होता है क्योंकि संक्रमण होने और मौत होने के बीच समय का काफी फर्क होता है। कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी की वजह से भारत समेत लगभग पूरी दुनिया एक अभूतपूर्व संकट का सामना कर रही है। इसके प्रसार को रोकने के लिए जरूरी है कि हमारे पास सही जानकारी हो और हम सावधान तथा जागरूक रहें। इस बात में शक नहीं है कि महामारी के इस दौर में कई लोगों को मानसिक तनाव हो सकता है। हो सकता है कि आपको बेचैनी महसूस हो रही हो, आप तनाव महसूस कर रहे हों, परेशान हो रहे हों, दुखी हों, अकेला महसूस कर रहे हों। इसके लिए ब्रिटिश नेशनल हेल्थ सर्विस ने दस टिप्स दिए हैं जिससे आप अपनी मानसिक स्थिति को बेहतर बनाए रख सकते हैं। अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ फोन, वीडियो कॉल या फिर सोशल मीडिया के माध्यम से संपर्क में बने रहें।

उन चीजों के बारे में बात करते रहें जिससे आपको परेशानी हो रही हो। दूसरे लोगों को भी समझने की कोशिश करें। अपनी नई दिनचर्या को व्यावहारिक तरीके से प्लान करें। अपने शरीर का ध्यान रखें। नियमित व्यायाम और खान-पान का ध्यान रखें। आप जहां से भी जानकारियां ले रहे हों, वे क्रेडिबल सोर्स हों और इस महामारी के बारे में बहुत अधिक न पढ़ें। अपने व्यवहार को अपने नियंत्रण में रखें। अपने मनोरंजन का भी पूरा ध्यान रखें। वर्तमान पर फोकस करें और यह याद रखें कि यह समय चिर-स्थायी नहीं है। कोरोना काल में अनुशासन की जरूरत जितनी अधिक है, उतनी जरूरत शायद कभी और नहीं रही होगी। अगर ठीक समय पर आप अपने सारे कार्य करते हैं तो इसकी उम्मीद ज्यादा होती है कि आप स्वस्थ रहें और ऐसे में आपकी इम्युनिटी भी विकसित होती है। वहीं जब आप असमय अपने तमाम कार्य करते हैं तो आपकी इम्युनिटी पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसलिए जरूरी है कि आप नियमित रहें। वर्तमान हालात में आप चाहे पैसे वाले हों, चाहे गरीब हों, आप चाहे स्त्री हों, चाहे पुरुष हों, अगर कोरोना नामक बीमारी आपको होती है तो आपको भारी कष्ट उठाना पड़ सकता है।

न केवल आपको, बल्कि आपका परिवार इससे संकट में आ सकता है। इसीलिए अगर आप अब तक सावधानी रखते आ रहे हैं तो आप आगे भी महीनों तक सावधान रहने के लिए कमर कस लें। इसमें भीड़-भाड़ जगह से बचना, मास्क, सेनेटाइजर का नियमित तौर पर प्रयोग करना, रेड जोन-कन्टेनमेंट जोन जैसे खतरनाक इलाकों में नहीं जाना, बाहर से लाए हुए किसी भी सामान को सेनेटाइज करना और खुद भी स्नान करना और बाहर से आए हुए कपड़ों को ढूंढना इत्यादि शामिल है। कोरोना की फायरिंग से बचे रहने का यह सुलभ गुरु मंत्र है।

ईमेल : [email protected]

The post कोरोना के लिए गुरुमंत्र: डा. वरिंदर भाटिया, कालेज प्रिंसिपल appeared first on Divya Himachal.