Saturday, September 26, 2020 03:13 PM

कोरोना ने घर बैठाया मूर्तिकार, चौपट हुआ धंधा

ऊना – ऊना में देवी-देवताओं की मूर्तियों में जान फूंकने वाले मूर्तिकार खड़ग सिंह आर्थिक बदहाली की स्थिति से जूझने को मजबूर है। मूर्तियों का निर्माण करने का हुनर बेशक इसके पास है, लेकिन कोरोना के प्रकोप से अब मूर्ति बनाने का व्यवसाय चौपट होकर रह गया है। जिसके चलते  परिवार का पालन-पोषण करना मूर्तिकार के लिए मुश्किल हो गया है। 65 वर्षीय मूर्तिकार खड़क सिंह निवासी भड़ोलिया कलां वर्ष 1986 से देवी-देवताओं की मूर्तियों का निर्माण कर रहा है। जलग्रां गांव के तत्कालीन मशहूर मूर्तिकार रिखी राम से मूर्तियां बनाने का गुर सीखा था। जिसके चलते खड़ग सिंह ने  मूर्ति निर्माण को जीवन जीने का जरिया बना लिया और अपनी तकनीकी कला के बलबूते अब तक प्रदेश के अधिकतर जिलों में ऑर्डर पर मूर्तियों का निर्माण कर चुका है। इतना ही नहीं जिला ऊना में ही मूर्तिकार ने सीमेंट, सरिया व रेत के कम खर्चे में ही पीरनिगाह मंदिर, रायपुर मैदान के मंदिर अंद्रोली, बाबा गरीब नाथ मंदिर गहरा कोठी, पंज पीरी मंदिर फतेबाल, गुग्गा जाहिर पीर, ऊना के नीला घाट, बसोली, चताड़ा में बनोड़े महादेव आदि प्राचीन आस्था के प्रतीक व नए मंदिरों में सिद्ध बाबा बालक नाथ, बाबा भर्तृहरि, भगवान कृष्ण, शिवजी, शिव परिवार, हनुमान जी, भैरों, गणेश भगवान की मूर्तियों निर्मित की है। इसके  अलावा हाथी, शेर, प्राचीन कला को दर्शाती पालकियां, गुंबद आदि की नक्काशी भी मंदिरों में की गई है। हालांकि बाजार में आजकल मारवल व संगमरमर की मूर्तियां राजस्थान, जयपुर व बंगलूर आदि स्थानों से मंगवाई जाती है। जो कि काफी महंगे दामों पर यहां  पहुंचती हैं, लेकिन सीमेंट से बनी मूर्तियां कम लागत के चलते लोगों को सस्ते दामों पर जिला समेत प्रदेश में मिल जाती हैं ओर मूर्ति खंडित होने का खतरा कम रहता है। अधिक समय तक टिकाऊ है। खड़ग सिंह ने बताय कि कोरोना काल में मूर्तियों को बनाने के ऑर्डर नहीं मिल पा रहे हैं। जिससे अपना व परिवार का पालन पोषण करना व शिक्षा संबंधी जरूरतों को पूरा करना मुश्किल हो गया है। सरकार भी मूर्तिकारों के लिए कोई आर्थिक सहायता नहीं कर रही है। इसके लिए योजना बनना लाजिमी हो गया है। मूर्तियां बनाने के लिए खड़ग सिंह के मोबाइल नंबर 7580025530 पर संपर्क किया जा सकता है।

The post कोरोना ने घर बैठाया मूर्तिकार, चौपट हुआ धंधा appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.