Saturday, November 27, 2021 10:20 PM

कोटला से त्रिलोकपुर तक जानलेवा सफर

पठानकोट-मंडी नेशनल हाई-वे पर जगह-जगह गड्ढों का राज, हर दिन हो रहे हादसे निजी संवाददाता-जवाली पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग पर कोटला से त्रिलोकपुर तक सड़क के बीच गड्ढे ही गड्ढे पड़े हुए हैं। कोटला डाकघर के पास तीखे मोड़ व गहरे गड्ढों के कारण अकसर ही हादसे होते रहते हैं। गड्ढों की गहराई भी काफी ज्यादा हो गई है। जब भी कोई वाहन चालक इस मार्ग के खस्ताहालत हिस्से से गुजरता है, तो अकसर ही सरकार को कोसता सुनाई देता है। बुधवार को मोटरसाइकिल सवार दो युवक इस गड्ढे में गिर जाने से बुरी तरह से घायल हो गए। इस मार्ग पर रोजाना मंत्री, विधायक, प्रशासनिक अधिकारी, जनप्रतिनिधियों व सैनिक वाहनों का आवागमन होता रहता है, लेकिन इसके बाद भी इसकी हालत को दुरुस्त करने की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जाता है।

वहीं, त्रिलोकपुर में उक्त नेशनल हाई-वे का 12 जुलाई, 2021 को लगभग 35 मीटर लंबा और 50 मीटर ऊंचा हिस्सा बराल खड्ड में गिर गया था, जिसको मार्च 2021 में ही ठेकेदार द्वारा बनाया गया था। अभी तक विभाग ने इस डंगे का निर्माण शुरू नहीं करवाया है। मौजूदा समय में अब यातायात अंग्रेजों के जमाने के लगाए गए डंगे व सकरी सिंगल सड़क से होकर गुजर रहा है और नेरा नाला पुल पर गड्ढे ही गड्ढे हैं। उसमें गड्ढों में विभाग द्वारा मिट्टी डालकर खानापूर्ति कर दी गई है। खस्ताहालत मार्ग की मरम्मत नहीं की जा रही है। विभाग किसी अनहोनी घटना के घटित होने का इंतजार कर रहा है। ऐसे में अगर कोई हादसा होता है, तो उसका जिम्मेवार कौन होगा। बुद्धिजीवियों ने एनएचएआई विभाग से मांग उठाई है कि जल्द ही इस मार्ग की मरम्मत करवाई जाए, ताकि वाहन चालकों को किसी परेशानी का सामना न करना पड़े। इस बारे में एनएचएआई के अधिकारी सतीश नाग ने कहा कि जल्द ही खस्ताहालत हिस्सा को दुरुस्त करवाया जाएगा।