Thursday, September 24, 2020 11:13 PM

धौलाकुआं में आईआईएम का शिलान्यास, प्रथम चरण के कार्य पर 392.51 करोड़ रुपए किए जाएंगे खर्च

शिमला, पांवटा साहिब – हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री संजय धोत्रे और केंद्रीय वित्त एवं कारपोरेट मामले मंत्री अनुराग ठाकुर ने मंगलवार को सिरमौर जिला के धौलाकुआं में वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) की आधारशिला रखी। इस संस्थान के प्रथम चरण के कार्य पर 392.51 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि आईआईएम हिमाचल प्रदेश को वर्ष 2014 में प्रदान किया गया था और तब से यह संस्थान तेजी से आगे बढ़कर एक प्रमुख संस्थान बनकर उभर रहा है।

यह संस्थान सुंदर व शांत भू-दृश्य और शांतिपूर्ण वातावरण में विद्यार्थियों को बेहतर शैक्षणिक माहौल प्रदान करेगा। उन्होंने इस संस्थान के संपूर्ण परिसर का डिजाइन पारंपरिक हिमाचली शिल्प में तैयार करने के लिए संस्थान के प्रबंधन की प्रशंसा की। पूर्ण रूप से तैयार होने पर यह संस्थान न केवल अग्रणी शिक्षण संस्थान के रूप में उभरेगा, बल्कि पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र होगा। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि यह संस्थान प्रदेश के मेहनती युवाओं के कौशल को निखारने का अवसर प्रदान करने में मील का पत्थर साबित होगा।

इस संस्थान को क्षेत्र का बेहतर संस्थान बनाने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव सहायता प्रदान करेगी। बेहतर प्रबंधन सफलता का मूल मंत्र है और यह संस्थान प्रदेश में उपलब्ध प्रतिभा के बेहतर प्रबंधन में मददगार साबित होगा। रमेश पोखरियाल ने कहा कि प्रदेश के पर्यटन, ऊर्जा, उद्योग, ईको-टूरिज्म आदि प्राकृति संभावनाओं के प्रभावी प्रबंधन में यह संस्थान वरदान साबित होगा। नई शिक्षा नीति भारत को विश्व गुरु का पुराना गौरव हासिल करने में सहायक होगी।  उधर, केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री संजय धोत्रे ने कहा कि यह आईआईएम निश्चित रूप से आने वाले वर्षों में प्रबंधन के एक सर्वोत्तम संस्थान के रूप में उभरेगा। यह संस्थान देश के बेहतरीन विद्यार्थियों को उभारने के पर्याप्त अवसर प्रदान करेगा। इस दौरान केंद्रीय वित्त और कारपोरेट मामले मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि आईआईएम केंद्र सरकार से राज्य और विशेष रूप से सिरमौर जिले के लिए बड़ा उपहार है।

उन्होंने नई शिक्षा नीति के लिए केंद्रीय शिक्षा मंत्री का धन्यवाद करते हुए कहा कि यह शिक्षा को अधिक रोजगार और स्व-रोजगारोन्मुख बनाने में सहायक सिद्ध होगी। उन्होंने उम्मीद जताई कि अगले 10 वर्षों में धौलाकुआं स्थित आईआईएम देश का प्रमुख संस्थान बन जाएगा। इस अवसर पर बोर्ड ऑफ गवर्नर के अध्यक्ष अजय एस श्रीराम ने मुख्यमंत्री, केंद्रीय शिक्षा मंत्री और अन्य गणमान्य लोगों का स्वागत किया। निदेशक आईआईएम सिरमौर नीलू रोहमित्रा ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया। इस मौके पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर, सांसद सुरेश कश्यप, विधायक डा. राजीव बिंदल, राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के उपाध्यक्ष बलदेव तोमर पर उपस्थित थे।

The post धौलाकुआं में आईआईएम का शिलान्यास, प्रथम चरण के कार्य पर 392.51 करोड़ रुपए किए जाएंगे खर्च appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.