Sunday, July 25, 2021 09:16 AM

दिग्विजय का राम मंदिर को लेकर आरोप, भूमि खरीद में बताया 16 करोड़ का घोटाला

भोपाल — 370 को लेकर घिरे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश से राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने राम मंदिर निर्माण से जुड़े न्यास मामले में सिलसिलेवार ट्वीट कर आज कई सवाल उठाते हुए आरोप लगाए हैं। पूर्व मुख्यमंत्री श्री सिंह ने ट्वीट में लिखा है भूमि खरीद में 16 करोड़ रुपए का घोटाला है तो हजारों करोड़ मंदिर निर्माण में जो चंदा उगाया गया है, उसमें मौजूदा ट्रस्ट जिसमें वीएचपी के पदाधिकारी व मोदी जी द्वारा मनोनीत सदस्य हैं, वे कितना और भ्रष्टाचार करेंगे, अंदाजा लगाएं।

श्री सिंह ने सिलसिलेवार ट्वीट में आरोप लगाते हुए कहा कि राम मंदिर निर्माण में भी भ्रष्टाचार का अवसर ढूंढ लिया। वीएचपी ना पूर्व में एकत्रित चंदे का हिसाब देती है ना अब उससे उम्मीद है। योगी जी, आप तो अपने मुख्यमंत्री रहते हुए भगवान राम मंदिर निर्माण में इस प्रकार का भ्रष्टाचार तो ना होने दें। यदि यह सही नहीं है, तो स्पष्टीकरण दें।

कांग्रेस नेता ने लिखा है मोदी जी आप से पूर्व में ही मैंने अनुरोध किया था कि नए ट्रस्ट के गठन के बजाए आप पूर्व से गठित रामालय ट्रस्ट को ही निर्माण का काम सौंप दें। रामालय न्यास, जिसमें देश के सभी सनातनी हिंदू धर्म के मान्यता प्राप्त शंकराचार्य जी व रामानंदी संप्रदाय के प्रमुख सदस्य हैं। श्री सिंह ने लिखा है यदि आपके द्वारा गठित न्यास पर भ्रष्टाचार का आरोप लगता है तो आप पर भी लगता है।

आपने 2014 में वादा किया था ना खाऊंगा ना खाने दूंगा, लेकिन वह भी एक और जुमला ही निकला। यदि यह आरोप सही है और आप ईमानदार हैं तो तत्काल मौजूदा न्यास को भंग कर पूरे प्रकरण को सीबीआई व ईडी को सौंपे। और पूर्व से गठित रामालय न्यास को भगवान राम मंदिर निर्माण का कार्य सौंपे।

श्री सिंह ने लिखा है, लेकिन आपने उसका राजनीतिकरण कर पूरा न्यास विहिप आरएसएस को सौंप दिया। यह वहीं संघटन गठबंधन है, जिसने पूर्व में मंदिर निर्माण में 1400 करोड़ रुपए चंदे का हिसाब अब तक नहीं दिया। निर्मोही अखाड़े के अनेक सदस्यों द्वारा कई बार मांगने पर भी हिसाब नहीं दिया गया। पूर्व मुख्यमंत्री ने इस मामले पर और भी ट्वीट किए हैं।