Sunday, March 07, 2021 05:05 PM

सड़क सुरक्षा अभियान का जिला स्तरीय समारोह कल

आजाद प्रत्याशी विभा सिंह ने जीती जिला परिषद की सीट, टक्कर तक पहुंच नहीं पाईं बड़ी पार्टियां 

दिव्य हिमाचल ब्यूरो — कुल्लू

जिला परिषद के धाउगी वार्ड में प्रमुख पार्टियां भाजपा व कांग्रेस चित हो गई हैं। यहां पर आजाद प्रत्याशी ने भारी मतों से जीत दर्ज कर ली है। हालांकि इस वार्ड में भाजपा व कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों को जीत दिलाने के लिए एक्टिव प्रत्याशियों को चुनावी दंगल में उतारा था, लेकिन दोनों दलों के प्रत्याशी चुनावी दंगल से बाहर हो गए हैं। दिलचस्प बात तो यहां यह है कि कांग्रेस व भाजपा समर्थित प्रत्याशी टक्कर तक पहुंच नहीं पाए। इस वार्ड में दो आजाद प्रत्याशियों के बीच मुकाबला हुआ, जिसमें राज परिवार की छोटी बहु विभा सिंह भारी मतों से जीती हैं। विभा सिंह भारी मतों से विजयी घोषित हुईं, जबकि टक्कर में आई आजाद प्रत्याशी कविता को हार का सामना करना पड़ा। इस वार्ड पर तीसरे नंबर पर भाजपा समर्थित कला देवी, लेकिन कला देवी टक्कर तक नहीं पहुंच पाई। यह भाजपा के लिए आने वाले विधानसभा चुनावों के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं होगा। बंजार के विधायक भी यहां पर अपने प्रत्याशी को जीताने में काफी पीछे रह गए हैं। कला देवी को 3,776 मत पड़े, जबकि चौथे नंबर पर रही कांग्रेस की प्रदेश प्रवक्ता इंदू पटियाल को 1,137 मतों से संतोष करना पड़ा। कांग्रेस यहां पर अपनी साख नहीं बचा पाई। कांग्रेस ने प्रदेश प्रवक्ता को उतार कर कहीं न कहीं भारी मात खा ली। बता दें कि इस वार्ड में कुल सात प्रत्याशी चुनावी दंगल में उतरी थीं। यह वार्ड महिला आरक्षित था। विभा सिंह, कविता, कला देवी, इंदु पटियाल के साथ  आजाद तौर पर निर्मला देवी, स्नेह तला, डोलमा भी उतरी थीं। निर्मला देवी को 1232 वोट, स्नेहलता को 2246 वोट और डोलमा को 477 वोट पड़े हैं। यही नहीं, 64 मतदाताओं ने नोटा पर अपना मत देकर सभी प्रत्याशियों को नकार भी दिया है। यहां पर इस वार्ड में  कुल मतदाता 21,192 थे, जिनमें 20,920 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। विभा सिंह राजपरिवार की पहली महिला हैं, जो इस बार जिला परिषद चुनाव के अखाड़े में उतरी थीं और दंगल जीत कर राजपरिवार के राजनीति को और मजबूत किया है। विभा सिंह निवर्तमान जिला परिषद सदस्य हितेश्वर सिंह की धर्मपत्नी हैं। हितेश्वर सिंह इस बार रैला वार्ड महिला आरक्षित होने पर चुनाव नहीं लड़ पाए। ऐसे में  धाउगी वार्ड भी महिला आरक्षित हुआ था। इसलिए उन्होंने अपने समर्थकों की राय पर  अपनी पत्नी को इस बार चुनावी मैदान में उतारा। गौर रहे कि बीते दिनों नगर परिषद के चुनाव में पूर्व सांसद महेश्वर सिंह बड़े बेटे दानवेंद्र सिंह ने भी नगर परिषद में वार्ड-चार से विजयी हासिल की। एक बार फिर लंबे समय के बाद घर में एक साथ जीत की खुशी का माहौल तो बना है, लेकिन बीते दिन परिवार में दादी के निधन के चलते अभी महज एक दिन का समय निकला है। इसी बीच पौत्र बहु की भी भारी मतों से जीत की खुशी आने पर भी घर में कभी खुशी कभी गम का मौहल बना हुआ है, वहीं चायल वार्ड से कांग्रेस के जिलाध्यक्ष बुद्धि सिंह ठाकुर भी चुनाव हार गए हैं। यही नहीं, मौहल वार्ड  से कांग्रेस समर्थित जिला परिषद के प्रत्याशी एवं पूर्व में जिला परिषद अध्यक्ष रहे सेस राम चौधरी भी जिला परिषद का चुनाव हार गए।

कार्यालय संवाददाता — कुल्लू

पंचायत राज चुनाव के अंतिम चरण में सबसे ज्यादा मत  पूरे जिलाभर में पुरुष मतदाताओं ने डाले। वहीं, महिला मतदाता भी मतबूत लोकतंत्र के लिए मतदान करने में पीछे नहीं रहीं। बता दें कि तीसरे चरण में 42885 पुरुष मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, जबकि 42281 महिला मतदाताओं ने पंचायत सरकार बनाने के लिए अपना मतदान किया। लिहाजा, अंतिम चरण में कुल 101694 मतदाताओं में से 85166 मतदाताओं ने 75 पंचायतों के चुनाव में अपने मत डाले।

आनी विकास खंड की बात करें तो यहां पर 6626 पुरुष और 6615 महिला मतदाताओं ने वोट डाले। कुल 13241 मतदाताओं ने मतदान किया। विकास खंड बंजार की बात करें तो यहां पर 7042 पुरुष और 6914 महिला मतदाताओं ने मतदान किया। यहां पर कुल 13956 मतदाताओं ने मतदान किया, वहीं कुल्लू विकास खंड में 13524 पुरुष और 13358 महिला मतदाताओं ने अपने वोट डाले। यानी यहां पर 26882 कुल मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इसके अलावा नगर खंड में 9516 पुरुष और 9455 महिला मतदाताओं ने मतदान किया।

 यहां पर 18971 कुल मतदाताओं ने वोट डाले हैं। निरमंड की बात करें तो 7177 पुरुष और 5939 महिला मतदाताओं ने मतदान किया। यहां पर कुल 12116 मतदाताओं ने मतदान किया। आनी में 84.93, बंजार में 87.66, कुल्लू में 81.2, नग्गर में 83.61 और निरमंड में 83.64 मतदाताओं ने मतदान किया। बता दें कि तीसरे चरण के चुनाव में भी मतदाताओं ने अपने-अपने प्रत्याशियों को जीताने के लिए खूब उत्साह और जोश दिखा। काफी संख्या में बुजुर्ग और युवा मतदाता भी मतदान केंद्रों में पहुंचे और अपने वोट डाले। प्रधान, उपप्रधान और वार्ड सदस्य बनने के बाद गांवों-गांवों में जश्न का माहौल शुरू हो गया। अंतिम चरण में जिला कुल्लू की 24, नग्गर की 15, निरमंड की 11, बंजार की 13 और आनी की 12 पंचायतों के चुनाव हुए। लिहाजा, सभी पंचायतों का चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ।

कार्यालय संवाददाता — कुल्लू पंचायत लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए जिला कुल्लू के बुजुर्गों ने लाठी, पीठ के सहारे मतदान केंद्र पहुंचकर अपना मतदान किया। पंचायती राज चुनाव के अंतिम चरण में गुरुवार को काफी संख्या में मतदान केंद्र में पहुंचकर अपना मतदान किया। यही नहीं, 100 साल पार कर चुके बुजुर्गों का मतदान काफी आकर्षक रहा। वहीं, मतदान न करने वाले मतदाताओं के भी यह सीख से कम नहीं रहे। सरसेई में 97 सरसेई में 93 साल की टिकमी देवी ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। सैंज के शौहल वार्ड में 98 वर्षीय देवीराम ने मतदान किया। ग्राम पंचायत हुरला में 100 साल की अछरी देवी ने वोट डाले। निरमंड ब्लॉक में बैसाखी के सहारे लाल दास ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। ग्राम पंचायत भुइन में 90 वर्षीय तेजा सिंह ने अपने मदाधिकार का प्रयोग किया। 100 वर्षीय शांति देवी ने हुराल पंचायत में अपने मताधिकार का प्रयोगकर मत का महत्त्व बताया।

ग्राम पंचायत हुरला में 87 वर्षीय गणपत राव और 87 वर्षीय खीमी देवी ने वोट दिए। 90 वर्षीय झाबे राम शर्मा ने भी पंचायती राज चुनाव के लिए अपने मताधिकार का प्रयोग किया। 103 वर्षीय हिमी देवी ने जगतसुख में मतबूत पंचायत संसद बनाने को लेकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इसके अलावा युवाओं ने भी पंचायती राज चुनाव के अंतिम चरण में वोट डालने में कोई कसर नहीं छोड़ी। हलाण-दो में भी 100 वर्षीय महिला ने अपना मतदान किया। काफी संख्या में युवा मतदाताओं ने मतदान किया। 19 वर्षीय दिव्य ने पहली बार ग्राम पंचायत हुरला में मतदान किया। आनी की दलाश पंचायत के सोईधार वार्ड में 93 वर्षीय विद्या देवी ने वोट डाला।

कार्यालय संवाददाता — कुल्लू जिला कुल्लू में पंचायती राज चुनाव के अंतिम चरण में कुल 76 पंचायतों में चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ। तीसरे चरण का मतदान 83.75 प्रतिशत रहा। बता दें कि जिला कुल्लू में पंचायती राज चुनाव के पहले चरण में 84.20 प्रतिशत मतदान रहा, जबकि दूसरे चरण में यानी बीते सोमवार को हुए पंचायत चुनाव में मतदान की प्रतिशतता कुल 83.13 रही। दूसरे चरण में जिला कुल्लू में कुल मतदाता 99858 थे, जिनमें 83008 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वहीं, तीसरे चरण का चुनाव गुरुवार को हुआ। अंतिम चरण के चुनाव में मतदान की प्रतिशतता 83.75 रही। बता दें कि आनी विकास खंड में कुल 13241, बंजार विकास खंड में 13956, कुल्लू विकास खंड में 26882, नग्गर विकास खंड में 18971 और निरमंड विकास खंड में 12116 मतदाओं अपना मतदान किया। बता दें कि सुबह आठ बजे जिला कुल्लू के पोलिंग बूथों में मतदान की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। ठीक चार बजे मतदान की प्रक्रिया संपन्न हुई। इसके बाद मतगणना की प्रक्रिया शुरू हो गई थी।

बुजुर्गों ने दिखाया दम आनी। पंचायत चुनावों के मद्देनजर विकास खंड आनी में गुरुवार को अंतिम चरण के चुनाव में में युवाओं के साथ बुजुर्गों का भी भारी उत्साह देखने योग्य रहा। दलाश पँचायत के पोलिंग बूथ सोइधार में 95 वर्षीय मतदाता सेफि राम और 93 वर्षीय मतदाता विद्या देवी ने अपना वोट डाला। आनी की लफाली पंचायत के लढागी में 97 वर्षीय चमन लाल, 96 वर्षीय जिया राम तथा पलेही पंचायत के तांदी वार्ड में 96 वर्षीय गरेजू देवी ने मतदान किया। उन्हें मतदान केंद्र तक पीठ पर उठाकर लाया गया।

नकदी और गहनों पर किया था हाथ साफ, पुलिस ने दबोचा शातिर

कार्यालय संवाददाता — कुल्लू

जिला मुख्यालय कुल्लू के साथ सटे रामशिला में एक चोरी की वारदात का मामला सामने आया है। पुलिस ने थाने में शिकायत दर्ज होने के बाद कार्रवाई शुरू कर दी और चोरी की वारदात को अंजाम देने वाले शातिर को दबोच लिया है। एसपी कुल्लू गौरव सिंह ने कहा कि रामशिला के एक शिकायतकर्ता ने पुलिस में दर्ज शिकायत में कहा कि 19 जनवरी की रात को 11 बजे रात खाना खाकर वह सो गया। पत्नी छोटे बच्चे सहित अलग कमरे में सो गई तो समय करीब 12 बजे रात मकान के अंदर हल-चल महसूस की तो थोड़ा अलर्ट होकर देखा तो एक व्यक्ति  दरवाजे के सामने मकान के अंदर खड़ा था। वह व्यक्ति  घर के दरवाजे से बाहर की ओर भागा। शिकायतकर्ता ने कहा कि जब शोर मचाया तो वह व्यक्ति सीढि़यां उतरकर गेमन पुल की तरफ भाग गया।

शिकायतकर्ता के ड्राइंग रूम में रखे काउंटर में 15000 रुपए व एक सोने की चेन रखी हुई थी, जब वहां देखा ता काउंटर में रखे हुए 15000 रुपए व सोने की चेन वहां से गायब पाई गई। सोने की चेन की कीमत करीब 65000 रुपए थी। वहीं, शिकायतकर्ता ने कुल्लू थाने में मामला दर्ज करवाया। पुलिस ने मामले पर तुरंत कार्रवाई करते हुए   चोरी की वारदात करने वाले प्रदीप कुमार निवासी शिलग  जिला मंडी को ट्रेस किया और उसके कमरे से चोरी किए नकदी व सोने की चेन को बरामद किया गया। एसपी ने बताया कि उक्त व्यक्ति के खिलाफ पुलिस ने आईपीसी की धारा 457 और 380 के तहत मामला दर्ज कर लिया।

देवता बंगेश्वर के सम्मान में मनाई जाती है फागुनी, लोगों ने निभाई सदियों से चली आ रही परंपरा

स्टाफ रिपोर्टर — बंजार   

उपमंडल बंजार के चनौन पंचायत के तहत आने वाले गांव मटियाना में ठूहार पर्व का आयोजन हर वर्ष बड़ी धूमधाम से किया जाता है। यह पर्व माघ मास के आठ प्रविष्टे को मनाया जाता है । गौर रहे  कि सराज घाटी में माघ मास में यह फागुनी का पर्व दूसरी बार मनाया जाता है। पहला पर्व थाटीवीड़ में मनाया जाता है और दूसरा मटियाना में उक्त पर्व को देवता बंगेश्वर के सम्मान में बड़ी धूमधाम से आयोजित किया जाता है। कारदार टेक सिंह, प्यार सिंह, कमेटी सदस्य कमली राम, नोक सिंह, रोशन लाल, हरि सिंह, विशन सिंह, सेस राम ने कहा कि यह ठूहार पर्व देवता बंगेश्वर की उपस्थिति में आयोजित किया जाता है।  इस पर्व में विशेष लोग अपने मुख में मुखोटे पहन कर के कार्रवाई का निर्वहन करते हैं और फिर देवता के आज्ञा अनुसार लोग, कारकुन, महिलाएं, बच्चे, बूढ़े एवं भगवान विष्णु का स्वरूप मढियालें विशेष स्थल पर जाकर वहां पर नृत्य करते हैं और नृत्य करते-करते इसी में मोहिनी रूप का मंचन करते हुए बीहठ को भी नचाया जाता है और जो इस बीच के नरगिस फूल को पकड़ता है, उसकी मनोकामना साल भर में पूर्ण होती है। उक्त कारकूनों  का कहना है कि यह परंपरा सैकड़ों वर्षों से चली आ रही है। इस परंपरा का निर्वहन प्रतिवर्ष बड़ी धूमधाम से किया जाता है।

रस्साकशी का खेल बना आकर्षण

अंत में सभी लोग मिलकर के एक रस्साकशी अथवा गूंण  का खेल देवता के आदेश अनुसार किया जाता है और यह खेल बड़ा रोचक खेल होता है। इसमें दोनों तरफ ऊपर नीचे लोग इस रस्साकशी को खींचते हैं और जो अपनी तरफ  ज्यादा इस गूंण को खींचेगा उन लोगों की विजय होती है और फिर देवता की ओर से उन्हें आशीर्वाद दिया जाता है और उसके बाद सभी लोग देवता को अनेक पुरातन वाद्य यंत्रों की थाप पर अपने देवालय में लाया जाता है और रात्रि को यहां पर भजन संध्या तथा अन्य कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है।

कार्यालय संवाददाता — पतलीकूहल

घाटी में नववर्ष का महीना चुनाव की सरगर्मियां लेकर आया और गुरुवार को चुनाव थम गया। अब  शुक्रवार को बीडीसी व जिला परिषद सदस्यों के किसमत का फैसला होगा। पंचायत के पंच से लेकर प्रधान के परिणाम तो उसी दिन निकल जाने से लोगों में नए पंच, उपप्रधान व प्रधान बनने पर पार्टियों का दौर भी रहा, जिससे जनवरी के तीन सप्ताह पंचायती चुनाव के प्रचार के साथ 17, 19 और 21 पंचायत की संसद को बनाने के रहे, लेकिन शुक्रवार को जिला परिषद व ब्लॉक विकास समिति को बनाने में भाजपा व कांग्रेस के प्रत्याशियों के परिणाम भी घोषित हो जाएंगे। इन चुनावों भाजपा व कांग्रेस के क्या समीकरण रहेंगे ।

शुक्रवार को नतीजा सबके सामने होगा। वहीं, पर जिला परिषद के चुनाव जहां पर तिकोना मुकाबला है। वह जिप वार्ड किस तरह से तिकोनी लड़ाई में अपने विजयरथ को हांकने में समर्थ रहते हैं। मतदाताओं का फैसला सामने होगा। हालांकि नगर परिषद के चुनाव में वर्तमान सरकार अपना भगवा फहराने में समर्थ रही है, लेकिन जिप व बीडीसी के प्रत्याशियों के परिणाम के साथ ही पांच साल के लिए पंचायती राज संस्थाओं  यह अध्याय भी बंद हो जाएगा। और अब बीडीसी व जिला परिषद अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के लिए बागी क्या गुल खिलाते हैं शुक्रवार को स्थिति साफ हो जाएगी। बहरहाल तीसरे चरण के चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न हो गए हैं। इसके साथ थी चुनावी शोर अब धीरे-धीरे शांत हो रहा है।

दिव्य हिमाचल ब्यूरो-कुल्लू

देवभूमि कुल्लू की शिलीराजगिरी पंचायत में ग्रामीण नंगे पांव जलते हुए अंगारों पर नाचे। यह क्रम तब तक चलता रहा, जब तक आग बुझ नहीं गई। इस दौरान अश्लील जुमले भी बोले गए। सदियों पुरानी यह अनूठी परंपरा देवता आदिब्रम्हा खोखन के सम्मान में बाखली गांव में मनाए सदियाला पर्व के दौरान निभाई गई। ग्रामीणों के जलते हुए अंगारों पर कूदने का दृश्य देखकर हर कोई हैरान रह गया। माना जाता है कि देवीय शक्ति के कारण जलते अंगारों पर चलने के बावजूद किसी को चोट नहीं पहुंचती है। बीते बुधवार रात करीब तीन बजे गांव के दर्जनों लोग मशालों के साथ बाहर निकले। इसके बाद पूरे गांव की परिक्रमा करते हुए ग्रामीण देवता आदि ब्रम्हा के प्रांगण में पहुंचे।

यहां एक विशाल जागरा (आग) जलाई गई। जब आग के जलते अंगारे बचे थे तो गांव के गांथू राम ने बाह चकोटा बोला। इसके बाद अश्लील जुमलों को बोलते हुए गांव के लोग नंगे पांव जलते अंगारों पर कूदे। इस नजारे को देखने के लिए सैकड़ों लोग पहुंचे थे। जिला में मनाए जाने वाले अन्य जगहों पर सदियाला के दौरान सिर्फ मशालें जलाने की ही परंपरा है, लेकिन बाखली में लोग नंगे पांव जलते अंगारों पर कूदे हैं। वीर युवक मंडल बाखली के प्रधान संगतराम ने कहा कि देवता की शक्ति से किसी के भी पैरों में चोट नहीं आई है। अगर सच्चे मन से देवता की परंपरा का निर्वहन नहीं किया जाता तो उन्हें देवता दंड भी देते हैं।

निजी संवाददाता — कुल्लू 

जिला में राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा अभियान के तहत अनेक जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इसी कड़ी में जिला स्तरीय समारोह का आयोजन ऐतिहासिक ढालपुर मैदान में आगामी 23 जनवरी को प्रातः 11 बजे आयोजित किया जाएगा। शिक्षा कला व संस्कृति मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर समारोह की अध्यक्षता करेंगे। इस संबंध में जानकारी देते हुए क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी सलीम आजम ने कहा कि जिला में सड़क सुरक्षा अभियान गत 18 जनवरी से आंरभ हुआ है और महीना भर चलेगा।

जिला स्तरीय समारोह के दौरान ढालपुर रथ मैदान में शिक्षा मंत्री उपस्थित जनसमूह को संबोधित करेंगे। इससे पूर्व वह बाइकर रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। यह रैली शहर तथा विभिन्न गांवों से गुजरेगी और लोगों को सड़क सुरक्षा व यातायात नियमों के बारे में संदेश देगी। सलीम आजम ने कहा कि समारोह में पुलिस उप अधीक्षक द्वारा यातायात नियमों की जानकारी लोगों को दी जाएगी, जबकि डा. अनूप सड़क दुर्घटना में घायलों अथवा मृतकों को अस्पताल पहुंचाने तथा अस्पताल में उपचार व अन्य प्रक्रिया पर चर्चा करेंगे।

डी पायरेट्स नृत्य नाटिका समूह द्वारा नुक्कड़ व नाटक के माध्यम से सड़क सुरक्षा से जुड़े अनेक पहलूओं की जानकारी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि समारोह में विधायकगण, जिला प्रशासन सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी, शहरी स्थानीय निकायों व पंचायती राज संस्थानों के प्रतिनिधियों व आम लोगों सहित मीडिया को आमंत्रित किया गया है। डीपायरेट्स  व रोवर स्काउट लीडर बीजू ने बताया कि उन्होंने 18 जनवरी से लगातार जिला के अनेक भागों में नुक्कड़ व नाटकों का मंचन करके तथा विभिन्न गांवों में सड़क सुरक्षा जागरूकता वाहन में सुसज्जित लाउड स्पीकरों के माध्यम से लोगों को यातायात नियमोंए सड़क सुरक्षा उपायों, विभिन्न प्रकार के चालान व सुरक्षित ड्राइविंग के बारे में जानकारी प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि नाटकों व गीत संगीत के माध्यम से जहां लोगों को यातायात के नियमों की जानकारी दी जा रही है। वहीं उनका मनोरंजन भी किया जा रहा है।

हिंदी लघु फिल्म मुकाम की शूटिंग डेट तय

सरकाघाट। देव भूमि फिल्म एंटरटेनमेंट के बैनर तले बनने वाली हिंदी लघु फिल्म मुकाम की शूटिंग डेट तय हो गई है। हिंदी शॉर्ट फिल्म मुकाम का मुहुर्त शार्ट 24 जनवरी को रखा गया है, जिसकी जानकारी देते हुए फिल्म के निर्देशक दिनेश भारद्वाज ने बताया कि लघु फिल्म की कहानी बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ थीम पर आधारित है। फिल्म को देव भूमि फिल्म एंटरटेनमेंट के यू-ट्यूब चैनल पर रिलीज किया जाएगा। फि़ल्म में मुख्य भूमिका में मानसी भाटिया, पवन प्रेमी, सतीश और फिल्म के प्रोड्यूसर बालम कौंडल नजर आएंगे।