Sunday, March 07, 2021 04:43 PM

डा. चमन लाल बंगा को एजुकेशन आइकॉन अवार्ड

बिलासपुर में नुकसान का लिया जायजा, रिपोर्ट के आधार पर केंद्र से जारी होगा फंड

बरसाती नुक्सान का जायजा लेने के लिए बिलासपुर पहुंची केंद्रीय मंत्रालय की टीम ने जिलाधीश रोहित जम्वाल और कृषि, जलशक्ति, बागबानी और पीडब्ल्यूडी अधिकारियों के साथ स्पॉट विजिट किया। इस साल जिला में विभिन्न विभागों को 49 करोड़ रुपए के नुकसान का आकलन किया गया है, जिसकी रिपोर्ट राज्य सरकार के माध्यम से केंद्र को भेजी गई है। यह टीम नुकसान की रिपोर्ट का आकलन करेगी और स्पॉट विजिट की रिपोर्ट के आधार पर केंद्र से रिलीफ फंड की अलॉटमेंट होगी। जानकारी के मुताबिक बरसात में हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए केंद्र मंत्रालय की दो टीमें हिमाचल प्रदेश आई हैं। एक टीम सोलन, शिमला व सिरमौर और दूसरी टीम बिलासपुर, हमीरपुर व ऊना जिलों के दौरे पर है। प्रत्येक टीम में तीन मेंबर शामिल हैं, जिनमें केंद्र के ज्वाइंट डायरेक्टर व अन्य आलाधिकारी शुमार हैं। ऊना और हमीरपुर के बाद गुरुवार को केंद्रीय मंत्रालय की तीन सदस्यीय टीम बिलासपुर जिला के दौरे पर पहुंची।

 हमीरपुर में लंच के बाद टीम बिलासपुर के लिए रवाना हुई। घुमारवीं में टीम की अगवाई के लिए बिलासपुर के जिलाधीश रोहित जम्वाल, एसी-टू-डीसी सिद्धार्थ आचार्य, एसडीएम घुमारवीं शशिपाल शर्मा, कृषि उपनिदेशक डा. कुलदीप पटियाल, जलशक्ति विभाग के अधिशाषी अभियंता और पीडब्लयूडी विभाग के अधिशाषी अभियंता के अलावा बागबानी विभाग के अधिकारी भी सम्मिलित हुए। टीम के विजिट के लिए प्रशासन की ओर से बाकायदा स्पॉट चिन्हित किए गए थे, जहां टीम ने स्थिति का जायजा लिया। टीम ने घुमारवीं में सीवरेज प्लांट को बड़े स्तर पर हुए नुकसान का जायजा लिया और जिला के अन्य स्थानों पर भी स्पॉट इंस्पेक्शन की। जिला के विजिट के बाद देर शाम टीम शिमला के लिए रवाना हो गई।

जिला में हुआ है 49 करोड़ रुपए का नुकसान

जिलाधीश रोहित जम्वाल ने बताया कि बिलासपुर जिला को इस साल 49 करोड़ रुपए का नुक्सान हुआ है जिसकी रिपोर्ट रिलीफ फंड के लिए राज्य सरकार के माध्यम से केंद्र सरकार को भेजी जा चुकी है। जिला में जलशक्ति विभाग को बड़े स्तर पर नुकसान हुआ है और यह नुकसान 22 करोड़ रुपए हैं, जबकि पीडब्लयूडी को 18 करोड़ के नुकसान का आकलन किया गया है। वहीं, कृषि विभाग को चार करोड़ और बागबानी विभाग को 1.50 करोड़ रुपए के नुकसान का आकलन किया गया है।

जोगिंद्रनगर- नए साल के जश्न के बाद घर लौट रहे लोगों की कार हादसे का शिकार हो गई, जिससे कार सवार एक व्यक्ति की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि गुरुवार रात मंडी-पठानकोट एनएच पर गलू के समीप एक कार सड़क से फिसल कर नाली में लुढ़क गई। इस हादसे में कार चालक की मौत हो गई है। हराबाग के अवायर निवासी किशन चंद ने पुलिस में बयान दर्ज करवाया है कि रात लगभग 10 बजे वह डिगली निवासी रामदास के साथ न्यू ईयर पार्टी करके हराबाग से गलू की तरफ  घूमने जा रहा था। जैसे ही वे गलू से थोड़ा पीछे पहुंचे तो गाड़ी की तेज रफ्तार होने के कारण कार एकदम सड़क से फि सलकर बाईं तरफ नाली में चली गई। इस हादसे में रामदास की मौत हो गई। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

नाहन- सिरमौर जिला के मुख्यालय नाहन के अंतर्गत आने वाली सुरला पंचायत में गुरुवार रात एक ट्रैक्टर के पलट जाने से एक व्यक्ति की मौत हो गई है। मृतक व्यक्ति की पहचान 30 वर्षीय जान मोहम्मद पुत्र आलम मोहम्मद के रूप में हुई है। पुलिस के अनुसार चालक पानी का टैंकर लेकर जा रहा था। जब वह गांव बकारला के समीप पहुंचा तो अचानक तीखे मोड़ पर ट्रैक्टर बेकाबू हो गया और सड़क से नीचे जा गिरा। इस दुर्घटना में चालक की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव परिजनों के हवाले कर दियाहै। उधर, दुर्घटना की पुष्टि करते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सिरमौर बबीता राणा ने बताया कि युवक के शव को पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया है।

शिमला-कालका रेलवे लाइन पर तारादेवी के समीप एक युवक ट्रेन की चपेट में आ गया। इस दौरान युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे उपचार के लिए आईजीएमसी लाया जा रहा था, लेकिन जख्मों के ताव को न सहते हुए युवक ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। जानकारी के तहत स्काउट एडं गाइड का एक युवक तारादेवी के समीप रेलवे टै्रक पार कर था, मगर इस दौरान टे्रन की चपेट में आ गया। इस हादसे से वह गंभीर रूप से घायल हो गया।

पुलिस के अनुसार गंभीर रूप से घायल हालत में उसे उपचार के लिए आईजीएमसी अस्पताल लाया जा रहा था, मगर उसने रास्ते में ही दम तोड दिया। आईजीएमसी में पहंचने पर चिकित्सकों ने उसे मृतक घोषित कर दिया। युवक चडीगढ़ का रहने वाला बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार पुलिस ने आईजीएमसी में युवक पोस्टमार्टम करवाया है। इस संबंध में रेलवे पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है कि यह हादसा कैसे पेश आया।

जिला कुल्लू की पुलिस ने बंजार में नशे के काले कारोबार में संलिप्त तस्करों को अफीम के साथ दबोचा है। पुलिस की टीम ने 1.08 किलोग्राम अफीम के साथ तस्क रों को रंगे हाथों पकड़ा है और सलाखों के पीछे पहुंचाया है। बंजार पुलिस की टीम ने गुशैणी के पास यह कार्रवाई शुक्रवार को उस समय अमल में लाई है, जब एक आल्टो गाड़ी बंजार की तरफ आ रही थी। नए साल के पहले ही दिन पुलिस की बड़ी कार्रवाई से घाटी के तस्करों में हड़कंप मच गया है।

नशे के काले कारोबार में शामिल तस्करों पुलिस आए दिन कार्रवाई कर रही है। लिहाजा, एक के बाद एक तस्कर सिकंजे में फंस रहे हैं। पुलिस के अनुसार शुक्रवार को बंजार पुलिस ने गश्त के दौरान उपमंडल बंजार के अंतर्गत आने वाली गुशैणी में एक किलो आठ ग्राम अफ ीम बरामद की। बताया जा रहा है कि कार (एचपी 49-2889)में सवार तीन व्यक्ति बंजार की तरफ  आ रहे थे। पुलिस ने जब चैकिंग के लिए गाड़ी को रुकवाया और उसकी तलाशी ली, तो गाड़ी में से एक किलो आठ ग्राम अफीम बरामद की गई। आरोपियों की पहचान तापे (29) पुत्र केवल राम निवासी पेचकना तहसील बंजार, डूर सिंह (40) पुत्र बली बहादुर गांव शील्ह, तहसील बंजार व चुन्नीलाल (28) पुत्र फागणू राम गांव वागीशाडी डाकघर बजाहरा  उप तहसील सैंज जिला कुल्लू के रूप में हुई है। बंजार के डीएसपी बिन्नी मिन्हास ने कहा कि तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है और उनके खिलाफ मादक द्रव्य अधिनियम की धारा 18 व 25 के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

नशीले कैप्सूल पकड़े

पांवटा साहिब - पांवटा साहिब में बहराल बैरियर पर पुलिस ने एक व्यक्ति के पास से 600 नशीले कैप्सूल बरामद किए हैं। बता दें कि पुलिस टीम बहराल बैरियर पर गुरुवार रात वाहनों की तलाशी ले रही थी। रात करीब पौने 11 बजे एक व्यक्ति यमुनानगर की तरफ से पैदल बैरियर की ओर आ रहा था। पुलिस ने जब उसकी तलाशी ली तो उसके पास से कुल 600 स्पाजमो प्रोक्सीवन प्लस नशीले कैप्सूल बरामद किए। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

सोलन में हेरोइन जब्त

सोलन - पुलिस थाना सोलन के अंतर्गत पुलिस ने गुरुवार को शामती के समीप एक युवक के पास से 5.39 ग्राम हेरोइन बरामद की है। जानकारी के अनुसार सदर थाना सोलन की टीम जब शामती में गश्त पर था, तब काली माता मंदिर के पास एक युवक बैंच पर बैठा दिखा। वहा युवक पहले भी हेराइन रखने के जुर्म में गिरफ्तार रहा था। संदेह होने पर पुलिस ने उसकी तलाशी तो उसके पास से 5.39 हेरोइन बरामद हुई। मामले की जांच की जा रही है।

पुलिस को मुंडखर के पास नाके के दौरान मिली कामयाबी

नववर्ष क पहले ही दिन भोरंज पुलिस ने नशा तस्करों पर शिकंजा कसा है। नाके के दौरान दो किलो 202 ग्राम चरस पकड़ी गई है। नए साल की शुरुआत में नशा ले जा रहे तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। फिलहाल नए साल की शुरुआत में ही पुलिस द्वारा नशा तस्करों पर की गई कार्रवाई से लोग काफी खुश हैं। नशे के खिलाफ लड़ाई में पुलिस को एक और सफलता हाथ लगी है। जानकारी के अनुसार मुंडखर के पास पुलिस ने नाका लगा रखा था। शुक्रवार सुबह नाके के दौरान एक गाड़ी को निरीक्षण के लिए रोका गया। इसमें तीन लोग सवार थे।

 गाड़ी लदरौर की तरफ जा रही थी।  निरीक्षण के दौरान गाड़ी से दो किलो 202 ग्राम चरस बरामद हुई। पुलिस के अनुसार गाड़ी में सवार दाती राम, खेम सिंह निवासी कुल्लू तथा रवि हंस निवासी होशियार से यह नशीला पदार्थ बरामद हुआ है। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है तथा आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। आरोपियों को अब पुलिस द्वारा कोर्ट में पेश किया जाएगा। उधर, इस बारे में भोरंज थाना प्रभारी सीआर चौधरी ने बताया कि मुंडखर में एक गाड़ी में सवार तीन लोगों से दो किलो 202 ग्राम चरस बरामद की है। आगामी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।

पहले भी बरामद किया है करोड़ों रुपए का नशा

बता दें कि इससे पहले भी हमीरपुर पुलिस ने दो मामलों में कोरोड़ों रुपए की हेरोइन बरामद की थी। इन दो मामलों में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इनमें एक महिला भी शामिल थी। हमीरपुर पुलिस नशा तस्करों पर लगातार नजर रखे हुए है। गुप्त सूचना के आधार पर त्वरित कार्रवाई की जा रही है। ऐसे में पुलिस जिला में नशा तस्करी को लेकर पूरी तरह सतर्क हो गई है।

भटियात के टुंडी में वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार, तलाश में जुटी पुलिस

भटियात उपमंडल की टुंडी पंचायत में भतीजे ने चाचा की हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी मौके से फरार हो गया है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु मेडिकल कालेज चंबा भेज दिया है। पुलिस ने मृतक की पत्नी की शिकायत पर आरोपी भतीजे के खिलाफ  हत्या का मामला दर्ज कर उसकी तलाश आरंभ कर दी है। इसी बीच फोरेंसिक टीम ने भी घटनास्थल का निरीक्षण कर मौके से साक्ष्य जुटाए हैं। बताया जा रहा है कि धारना गांव निवासी कमल सिंह गुरुवार शाम अपने भतीजे सुरजीत सिंह के संग देखा गया था, मगर देर रात तक कमल सिंह के घर न लौटने पर परिजनों ने शुक्रवार सवेरे उसकी तलाश आरंभ की तो उसे टुंडी के समीप सिहुंता-लाहडू मार्ग के निचली ओर मृत हालत में पड़ा पाया।

 मृतक के शरीर पर चोटों के निशान होने के चलते परिजनों ने मृतक के भतीजे सुरजीत सिंह पर हत्या का शक जाहिर किया है। घटना की सूचना पाते ही चुवाड़ी पुलिस थाना प्रभारी रोहित गुलेरिया की अगवाई में पुलिस टीम मौके पर पहुंच गई।  उन्होंने घटनास्थल का बारीकी से निरीक्षण करने के उपरांत मृतक के परिजनों के बयान दर्ज किए। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु चंबा भिजवा दिया है। इसी बीच डीएसपी डलहौजी विशाल वर्मा ने भी मौके पर पहुंचकर परिजनों व ग्रामीणों से बात की। पुलिस ने मृतक की पत्नी के बयान पर आरोपी के खिलाफ चुवाडी पुलिस थाना में भादंसं की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया है। उधर, डीएसपी डलहौजी विशाल वर्मा ने मामले की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि मृतक की पत्नी की शिकायत में नामजद आरोपी सुरजीत सिंह के खिलाफ मामला दर्ज किया है। उन्होंने बताया कि कमल सिंह की मौत की सही वजह का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद चल पाएगा।

प्रदेश कृषि विश्वविद्यालय आगामी सत्र से नई शिक्षा नीति लागू करेगा और मार्च माह तक कार्यों में पारदर्शिता लाने के लिए ई-ऑफिस प्रणाली को भी क्रियान्वित करेगा।   इसके साथ ही छात्रों का रिकार्ड व्यवस्थित किया जाएगा और उन्हें डिजी-लॉकर के माध्यम से उपाधियां दी जाएंगी। इस प्रायोजन हेतु आईसीटी का सृजन पहले ही कर दिया गया है। कुलपति प्रो. हरींद्र कुमार चौधरी ने यह जानकारी नववर्ष के उपलक्ष्य पर विश्वविद्यालय समुदाय को अपने वर्चुअल संबोधन में दी। उन्होंने कहा कि उन्होंने चार माह पहले पदभार ग्रहण करते ही शैक्षणिक व गैर-शैक्षणिक कर्मचारियों के 46 पद भर दिए थे और ऐसे ही 120 पद और भरने की प्रक्रिया जारी है। विश्वविद्यालय युवाओं की शिक्षा, किसानों की आय बढ़ाने, अतुलनीय जैविक संपदा का संरक्षण व सतत् उपयोग करते हुए फसलों, औषधीय व सुगंधित पौधों में वांछित अनुवांशिक बदलाव लाने के लिए दृढ़ संकल्पित ताकि इस विश्वविद्यालय को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त हो सके।

 प्रो. चौधरी ने वैज्ञानिकों से किसानों के हित में भौगोलिक परिस्थितियों के अनुसार वांछित क्षेत्रों में कृषि उत्थान हेतु नई परियोजनाएं लाकर अनुसंधान में गुणवत्ता तथा नवोन्मेष लाने को कहा तथा सलाह दी कि शोध परियोजनाओं से किसानों को अवगत कराया जाए और तकनीकी मदद उनके गृह द्वार पर दी जाए, ताकि पहाड़ी कृषक लाभान्वित हो सकें। कुलपति ने कहा कि कोविड-19 आपदा से भयभीत होकर हम घर नहीं बैठ सकते हैं। रोकथाम के नियमों का पालन करते हुये तथा एकजुट होकर किसानों तक तकनीकें पहुचाने के लिए अग्रसर होना ही होगा। इस अवसर पर कुलपति ने हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल व मुख्यमंत्री द्वारा उन पर विश्वास प्रकट करने तथा प्रदेश के किसानों की सेवा करने का अवसर देने हेतु उनका आभार प्रकट किया।

बेहतर कदम दिलाएंगे अंतरराष्ट्रीय स्तर का दर्जा

कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय का दृष्टि-दस्तावेज बनाया जा रहा है और छात्रों तथा कर्मचारियों को नई सुविधाएं प्रदान करने हेतु कदम उठाए गए हैं, ताकि विश्वविद्यालय को अंतरराष्ष्ट्रीय स्तर का दर्जा प्राप्त हो सके। विश्वविद्यालय के प्रत्येक अंग-शिक्षा, अनुसंधान व प्रसार को अपने-अपने कार्य में दक्षता प्रदर्शित करनी होगी और इसकी फीडबैक हर माह ली जाएगी। उन्हें विद्यार्थियों, वैज्ञानिकों और गैर शिक्षक कर्मचारियों से आशा ही नहीं, अपितु विश्वास भी है कि वे सभी एकजुट होकर अपने इस संस्थान को देश का एक अग्रणी विश्वविद्यालय बनाने में सक्रिय सहयोग करेंगे।

प्रदेश भाजपा प्रवक्ता अजय राणा ने कहा कि विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री की भाषा से ऐसा लगता है कि वह गंगा स्नान कर शुद्ध हो गए हैं। अब कह रहे हैं कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर अपनी गलतियों को अफसरों के सिर मढ़ रहे हैं। अभी कुछ दिन पहले कह रहे थे कि अफसर सरकार के कंट्रोल में नहीं हैं। अब कह रहे हैं कि अफसरों को डरा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुकेश अग्निहोत्री की बातों में क्या तारतम्य है या नहीं।

 इन सब से यह प्रतीत होता है कि वह भ्रम में हैं। भ्रम की स्थिति न अपने लिए ठीक होती है और न ही समाज के लिए। प्रदेश भाजपा प्रवक्ता अजय राणा ने कहा कि जितना जल्द हो सके, इस भ्रम की स्थिति से बाहर निकलिए।

दंत्त महाविद्यालयों में खाली सीटों को भरने के लिए मॉप अप राउंड की काउंसिलिंग होगी। यह काउंसिलिंग ऑनलाइन होगी। यह प्रक्रिया शुरू हो गई है। उम्मीदवार तीन जनवरी तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। नीट-यूजी-2020 की प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले सभी उम्मीदवार दंत्त महाविद्यालयों में खाली सीटों पर प्रवेश लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं। सरकारी दंत्त महाविद्यालयों में 25 सीटें और निजी दंत्त महाविद्यालयों में 50 प्रतिशत के करीब सीटें खाली हैं।

 हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक डाक्टर जेएस नेगी ने बताया कि जिन उम्मीदवारों ने हिमाचल प्रदेश के निजी डैंटल कालेजों में पहले व दूसरे राउंड की काउंसिलिंग के आधार पर प्रवेश लिया है और वे भी सरकारी दंत महाविद्यालय शिमला में प्रवेश लेना चाहते हैं, तो मैरिट के आधार पर परिवर्तन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष राठौर ने कुलपति पर लगाए भगवाकरण के आरोप

कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने प्रदेश विश्वविद्यालय में शिक्षकों की भर्ती में धांधली के आरेप जड़े हैं। उन्होंने राज्यपाल, जो कि विश्वविद्यालय के कुलाधिपति भी हैं से हाल ही में विश्वविद्यालय में हुई शिक्षकों की नियुक्तियों की जांच तुरंत करवाने की मांग की है। उन्होंने आरोप लगाया है कि  विश्वविद्यालय के कुलपति एक विशेष एजेंडे के तहत कार्य कर रहे हैं और विश्वविद्यालय का पूरी तरह से भगवाकरण किया जा रहा है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर इसकी जांच नहीं करवाई गई, तो कांग्रेस सत्ता में आते ही इन नियुक्तियों की जांच करेगी और दोषियों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करेगी।

 साल के पहले दिन शुक्रवार को शिमला में कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि कांग्रेस इस मुद्दे पर चुप बैठने वाली नहीं। एक विशेष एजेंडे के तहत विश्विद्यालय को राजनीति का अखाड़ा नहीं बनने दिया जाएगा। श्री राठौर ने हाल ही में हुई नियुक्तियों का पूरा विवरण देते हुए कहा कि प्रदेश विश्वविद्यालय में सितंबर, 2020 से विभिन्न विभागों में चल रही शिक्षकों के पदों पर भर्ती में यूजीसी की गाइडलाइंस की पूरी तरह अवहेलना की जा रही है। इन नियुक्तियों की पूरी जांच होनी चाहिए। उन्होंने महामारी के समय जल्दबाजी व अफरा-तफरी में की जा रही इन नियुक्तियों पर आश्चर्य व्यक्त किया है।

 कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर एवं सहायक प्रोफेसर की नियुक्तियों के आवेदन पत्रों की छानबीन हेतु समय-समय पर यूजीसी की ओर से गाइडलाइंस जारी की जाती है। यूजीसी की गाइडलाइंस को पूरी तरह नजरंदाज किया है। सोशोलॉजी और अर्थशास्त्र विभाग में शिक्षक भर्ती के लिए स्क्रीनिंग कमेटी का गठन किया, जिसमें इन विभागों में नियुक्त नियमित शिक्षकों को दरकिनार करते हुए बाहर से सेवानिवृत्त शिक्षकों को अधिमान दिया गया। विश्वविद्यालय में कुछ विभागों में शिक्षक भर्ती में पाया गया है कि नियुक्ति देने में ऐसे अपात्र उम्मीदवारों को एसोसिएट प्रोफेसर पद पर 37000-67,000 रुपए वेतन पर सीधी नियुक्तियां दी गई, जो कि सहायक प्रोफेसर की योग्यता भी नहीं रखते।

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के आचार्य को एजुकेशन आइकॉन अवार्ड-2020 मिलने के बाद मान बड़ा है। यह अवार्ड ब्रांड ऑप्स इंडिया और सक्सेस इंटरनेशनल मैगजीन द्वारा 28 दिसंबर को ऑनलाइन कार्यक्रम द्वारा प्रदान किया गया, जिसे शुक्रवार को विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य सिकंदर कुमार द्वारा डाक्टर चमन लाल बंगा को प्रदान किया गया। आचार्य को यह पुरस्कार शिक्षण पद्धति, उत्कृष्ट संपादन व लेखक और प्रशिक्षण में योगदान के लिए प्रदान किया गया।

अहम यह है कि शिक्षा के क्षेत्र में पूरे देश से 15 लोगों को एजुकेशन आइकॉन अवार्ड 2020 मिला, जिसमे हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय   के सहायक आचार्य डा चमन लाल बंगा ने प्रमुख जगह बनाई। डा. चमन लाल बंगा घियोड़ (रायपुर मैदान ) रामगढ़धार- कुटलैहड़ से संबंध रखते हैं। इन्होंने स्नातक विज्ञान, बीएड शिक्षा और राजनीतिक विज्ञान में स्नातकोत्तर और शिक्षा विषय में विद्यावाचस्पति की उपाधि प्राप्त की है। इन्होंने शिक्षा, राजनीतिक विज्ञान विषय में नेट और जेआरएफ की परीक्षा पास की है।