Tuesday, April 13, 2021 09:11 AM

Exam News : 15 मार्च तक एनुअल एग्जाम खत्म, पहली अप्रैल से नया सेशन, पढ़ें यह खबर

पहली से चौथी, छठी और सातवीं कक्षा के लिए प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड का फरमान  पेपर तैयार करने में जुटा विभाग, इसी हफ्ते जारी होगी डेटशीट  ऑनलाइन होंगी पहली से चौथी कक्षा तक की परीक्षाएं 

सिटी रिपोर्टर— शिमला

प्रदेश के स्कूलों में पहली से चौथी, छठी और सातवीं कक्षा की वार्षिक परीक्षाएं 15 मार्च तक पूरी हो जाएगी। शिक्षा विभाग इन दिनों पेपर तैयार करने में जुटा है। इसी हफ्ते इन कक्षाओं की डेटशीट जारी कर दी जाएगी। शिक्षा विभाग की ओर से प्रयास किया जा रहा है कि 15 मार्च तक हर हाल में इन कक्षाओं की फाइनल परीक्षाएं पूरी करवा दी जाएं। 15 दिन पेपर चैक करने और रिजल्ट तैयार करने के लिए मिलेंगे।

 इसके बाद पहली अप्रैल से नया सत्र शुरू होगा। गौर रहे कि कोविड के चलते शीतकालीन स्कूलों की पहली से चौथी, छठी व सातवीं कक्षा की वार्षिक परीक्षाएं दिसंबर में नहीं हो सकी हैं। ऐसे में अब शीतकालीन व ग्रीष्मकालीन स्कूलों की परीक्षाएं एक साथ आयोजित होंगी। कोविड-19 के चलते बच्चों की पढ़ाई घर बैठे ही पूरी करवाई गई है और लगभग बच्चों का सिलेबस भी पूरा हो चुका है। ऐसे में अब जल्द से जल्द एग्जाम करवाने की तैयारी की जा रही है।

इस बार सौ नहीं, 70 फीसदी सिलेबस से ही आएगा पेपर

शिक्षा विभाग का कहना है कि फाइनल परीक्षाओं में बच्चों को इस बार पूरी छूट दी जाएगी। इसमें सिलेबस भले ही शिक्षकों ने सौ फीसदी पढ़ाया हो, लेकिन पेपर 70 फीसदी सिलेबस से ही तैयार किए जा रहे हैं। इसके साथ ही बच्चों को आसान सवाल पूछे जाएंगे, ताकि उन्हें पेपर करने में किसी भी तरह की दिक्कत न हो। प्रदेश सरकार ने इस बार सभी स्कूली बच्चों को परीक्षाओं में यह छूट दी है।

15 से रेगुलर स्कूल आएंगे 5वीं से 12वीं के छात्र

ग्रीष्मकालीन स्कूल पहली फरवरी से खोल दिए गए हैं, जबकि शीतकालीन स्कूलों वाले बच्चे 15 फरवरी से स्कूल आएंगे। पहली से चौथी कक्षा के बच्चों के लिए फिलहाल स्कूल नहीं खोले गए हैं। केवल 5वीं से 12वीं कक्षा तक के बच्चों के लिए स्कूल खोल दिए गए हैं। शिक्षा विभाग ने साफ किया है कि पहली से चौथी कक्षा तक के बच्चों की फाइनल परीक्षाएं ऑनलाइन ही होंगी और इसका शेड्यूल भी जल्द ही जारी कर दिया जाएगा। इसके साथ ही छठी और सातवीं कक्षा के बच्चों की परीक्षाएं स्कूलों में होंगी। फाइनल परीक्षाओं के लिए भी फर्स्ट और सेकेंड टर्म में जो सिस्टम तैयार किया गया था, उसी आधार पर फाइनल एग्जाम करवाए जाएंगे।