Tuesday, December 07, 2021 06:15 AM

मेडिटेशन के दौरान फोकस है जरूरी

मेडिटेशन करते समय फोकस क्यों जरूरी है? मेडिटेशन के दौरान आप फोकस नहीं कर पाएंगे, तो आपका तनाव कम नहीं होगा, मन शांत नहीं होगा और आप खुशी का अनुभव नहीं कर सकेंगे। मेडिटेशन करने से मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को कई लाभ होते हैं। मेडिटेशन करने से आपकी एकाग्रता बढ़ती है, पर अगर आप मेडिटेशन करते समय फोकस नहीं कर पाए, तो आपको बेहतर परिणाम नहीं मिलेंगे। मेडिटेशन करते समय फोकस जरूरी है। कई तरह से आप मेडिटेशन करते हैं उसी तरीके से मेडिटेशन के दौरान फोकस करने के भी बहुत से तरीके होते हैं, जिनकी मदद से आप मेडिटेशन के समय बेहतर तरीके से फोकस कर पाएंगे।

आरामदायक मुद्रा में बैठें

मेडिटेशन के दौरान अगर आप फोकस नहीं कर पा रहे हैं, तो उसका कारण गलत मुद्रा भी हो सकती है। बहुत से लोग ध्यान की मुद्रा में बैठने के लिए बॉडी को टाइट रखते हैं, जबकि ध्यान की मुद्रा बनाकर आपको बॉडी को रिलेक्स करना है, अगर आपको अड़चन महसूस हो रही है, तो अपनी पोजीशन चेंज करके देखें और ध्यान करने से पहले आरामदायक तरीके से बैठ जाएं। आप आराम से बैठने के लिए मैट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, कोशिश करें कि ऐसी जगह पर बैठें जिसकी सतह आरामदायक हो और आप लंबे समय तक वहां बिना किसी अड़चन के बैठ सकें।

आंखों को बंद कर सकते हैं

आंखों को बंद करके मेडिटेशन करते समय आप बेहतर तरीके से फोकस कर पाएंगे। आंखों को बंद करने से आप आसपास के वातावरण से खुद को कुछ समय के लिए अलग कर लेते हैं, जिससे आप फोकस कर पाएं इसके साथ ही बाहर की चीजें आपका ध्यान भटका न पाएं, इसके लिए भी आंखों को बंद करना जरूरी है हालांकि अगर आप डिप्रेशन या गंभीर बीमारी के मरीज हैं, तो मेडिटेशन करते समय आंखों को खुला ही रखें। अगर आपको आंख खोलकर फोकस बेहतर लग रहा है, तो आप आंखों को खोलकर भी मेडिटेशन कर सकते हैं।  बहुत से लोग ऑनलाइन चैनलों को देखकर मेडिटेशन करना सीख जाते हैं पर उसमें कुछ गलती हो सकती है इसलिए अगर आप मेडिटेशन करते समय फोकस नहीं कर पा रहे हैं, तो आप प्रोफेशनल एक्सपर्ट की मदद लें।

मेडिटेशन का समय तय करें

कुछ लोग तय समय पर मेडिटेशन नहीं कर पाते हैं जिस कारण उनकी बॉडी और माइंड को रूटीन की आदत नहीं पड़ती और आप मेडिटेशन करते समय फोकस नहीं कर पाते हैं। आपको कोशिश करनी चाहिए कि रोजाना एक ही तय समय पर मेडिटेशन करें, इससे आप अपना फोकस बढ़ा पाएंगे और मेडिटेशन करते समय आपका फोकस नहीं टूटेगा। कुछ लोग रात को मेडिटेशन करते हैं, पर रात के समय मेडिटेशन करने से आपको बचना चाहिए नहीं तो इससे अनिद्रा की समस्या हो सकती है, कोशिश करें कि दिन के समय ही आप अपने मेडिटेशन का समय फिक्स करें। मेडिटेशन के लिए कुछ दिन काफी नहीं है, सही फोकस बनाने के लिए आपको दो से तीन हफ्ते लग सकते हैं इसलिए निराश न हों।

चिंताओं को याद न करें

तनाव कम करने के लिए मेडिटेशन किया जाता है, पर ये सच है कि इस दौरान आप चिंताओं को याद करके परेशान होते रहेंगे, तो आपका दिमाग स्थिर नहीं रहेगा और आप मेडिटेशन करते समय फोक्स नहीं कर पाएंगे। फ्री मांइड से मेडिटेशन करेंगे, तो मन शांत रहेगा और आप ध्यान लगा पाएंगे।

शांत वातावरण चुनें

मेडिटेशन करते समय आप ध्यान नहीं लगा पा रहे हैं, तो इसका कारण आपके आसपास का वातावरण भी हो सकता है। अगर आसपास शोर है, तो आपको फोकस करने में परेशानी आ सकती है। शोर के कारण आप फोकस नहीं कर पा रहे हैं, तो मेडिटेशन करते समय ईयर प्लग का इस्तेमाल कर सकते हैं। बहुत से लोग अकेले मेडिटेशन नहीं कर पाते, अगर आपको भी अकेले फोकस करने में परेशानी होती है, तो आप फैमिली या दोस्तों के साथ भी मेडिटेशन कर सकते हैं इससे आप बेहतर ढंग से फोकस कर सकेंगे। फ्रेश माइंड से मेडिटेशन करें। मेडिटेशन करने का सही समय सुबह ही माना जाता है, क्योंकि उस समय आपका माइंड बिलकुल शांत रहता है। इस समय आप मेेडिटेशन करेंगे, तो फोकस करके मेडिटेशन कर सकेंगे।

ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें

मेडिटेशन के दौरान फोकस करने के लिए आपको ब्रीदिंग एक्सरसाइज का सहारा लेना चाहिए। ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने से फोकस बढ़ता है और आप अपने तय समय तक एक्सरसाइज कर पाते हैं। मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर रखने के लिए भी ब्रीदिंग एक्सरसाइज फायदेमंद होती है।