Friday, September 24, 2021 05:46 AM

पूर्व प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह ने कहा, आने वाला वक्त 1991 के संकट से खतरनाक

एजेंसियां — नई दिल्ली

पूर्व प्रधानमंत्री डा. मनमोहन ने कहा है कि तीन दशक पहले देश के समक्ष जो आर्थिक संकट था, उसके कारण शुरू हुई उदारीकरण की प्रक्रिया के बाद देश ने गौरवशाली आर्थिक प्रगति हासिल की, लेकिन आने वाले वक्त में ज्यादा गंभीर है, इसलिए यह वक्त आनंद और उल्लास का नहीं, बल्कि सामने खड़ी चुनौतियों से निपटने के लिए आत्मचतन का है। उन्होंने कहा कि लगातार आगे बढ़ रही हमारी अर्थव्यवस्था को कोविड-19 महामारी ने तबाह किया है और इससे हमारे करोड़ों देशवासियों को भारी नुकसान हुआ है। इसके कारण देश स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ गया है और असंख्य लोगों के समक्ष रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है। पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि 1991 के आर्थिक सुधारों का सबसे बड़ा फायदा हुआ है कि इस अवधि में देश के लगभग 30 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकालने का मौका मिला था।