Friday, September 24, 2021 05:52 AM

पांच हेक्टेयर पर रोपे चार हजार पौधे

विधानसभा उपाध्यक्ष ने 72वें मंडलस्तरीय वन महोत्सव पर पौधा रोपकर किया अभियान का शुभारंभ

दिव्य हिमाचल ब्यूरो-चंबा विधानसभा उपाध्यक्ष हंसराज ने कहा कि चुराह घाटी में मौजूद अपार वन संपदा से सरकार को राजस्व प्राप्त होने के साथ स्थानीय लोगों को घरद्वार पर आय के बेहतर विकल्प उपलब्ध हुए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश की बेहतर वायु गुणवत्ता कोरोना वायरस से संक्रमित हुए लोगों के उपचार में अन्य राज्यों की तुलना में मददगार रही। विधानसभा उपाध्यक्ष ने शुक्रवार को 72वें मंडलस्तरीय वन महोत्सव के तहत सुखधार में आयोजित पौधारोपण अभियान कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे। उन्होंने देवदार का पौधा रोपकर पौधारोपण अभियान का शुभारंभ भी किया। विधानसभा उपाध्यक्ष ने स्थानीय लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि भविष्य की जरूरत के अनुरूप वनों के संरक्षण और संवर्धन से संबंधित कार्यों के लिए जनसहभागिता सुनिश्चित हो। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा वन विस्तार के लिए कई योजनाओं को आरंभ किया गया है।

इसके अलावा इस बार सभी स्थानीय निकायों और पंचायत प्रतिनिधियों को 51-51 विभिन्न प्रजातियों के पौधे भी रोपित करने के लिए वितरित किए जा रहे हैं। हंसराज ने कहा कि हिमगिरी क्षेत्र के सुखधार में ट्रैकिंग हट बनाने के लिए 50 लाख रुपए की राशि को स्वीकृति प्रदान की गई है। विभाग को जल्द औपचारिकताएं पूर्ण करने को कहा गया है। उन्होंने वन विश्राम गृह हिमगिरी में दो अतिरिक्त कमरों के निर्माण के लिए उपयुक्त धनराशि को उपलब्ध करवाने का आश्वासन देते हुए विश्रामगृह तक सड़क बनाने के लिए दो लाख रुपए की राशि उपलब्ध करवाने का ऐलान भी किया। कुम्हारका गांव तक सड़क बनाने के लिए बजट का प्रावधान कर दिया गया है। इसके अलावा गुवाड़ी गांव को भी जल्द सड़क सुविधा उपलब्ध करवा दी जाएगी। इसके अलावा इस क्षेत्र में जल शक्ति विभाग द्वारा चिन्हित स्थलों पर चार हैंडपंप भी लगाए जा रहे हैं। वन महोत्सव के दौरान पांच हेक्टेयर क्षेत्रफल में लगभग चार हजार के करीब देवदार, गूं और अखरोट के पौधों का रोपण किया गया। इससे पहले वन मंडलाधिकारी चुराह डा. कुलदीप जम्वाल ने विधानसभा उपाध्यक्ष को शाल व टोपी पहनाकर और स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया। इस दौरान विधानसभा उपाध्यक्ष ने स्थानीय लोगो की समस्याओं का भी मौके पर समाधान किया। इस अवसर पर पंचायत समिति अध्यक्ष कौशल्या देवी, मंडल उपाध्यक्ष बलदेव सिंह, प्रदेश अल्पसंख्यक महामंत्री याकूब मोहम्मद, अनुसूचित जाति मोर्चा अध्यक्ष गोविंद राम, स्थानीय प्रधान विमला देवी व वन विभाग के अधिकारी व पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों के अलावा स्थानीय लोग मौजूद रहे।