Tuesday, October 27, 2020 06:17 PM

गोबिंदसागर में पानी से हवा में कलाबाजियां करने की ट्रेनिंग शुरू, 11 युवाओं को दिया जा रहा जेटस्की

ई-हाइड्रोफॉइल और जेटोवेटर चलाने का प्रशिक्षण
चार प्रशिक्षक दे रहे ट्रेनिंग, सात दिनों तक जारी रहेगा प्रशिक्षण शिविर
प्रशिक्षण पूरा होने के बाद तत्तापानी और लारजी जाएंगे युवा और उपकरण

अनिल पटियाला, बिलासपुर
पर्यटन की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण हिमाचल प्रदेश के तत्तापानी और लारजी में अब साहसिक जलक्रीड़ा के तहत युवा पानी से हवा में कलाबाजियां करते नजर आएंगे। जिसके लिए बिलासपुर की मानव निर्मित गोबिंदसागर झील में युवाओं की ट्रेनिंग शुरू हो गई है, जिसमें करीब 11 युवा जेटस्की, ई-हाइड्रोफॉइल और जेटोवेटर के माध्यम से प्रशिक्षण ले रहेे हैं। सात दिनों तक प्रशिक्षण लेने के बाद इन युवाओं को तत्तापानी और लारजी भेज दिया जाएगा, जिसके बाद वहां जल क्रीड़ाओं को शुरू करने के लिए प्रक्रिया शुरू होगी।

अटल बिहारी बाजपेयी पर्वतारोहण संस्थान मनाली के निदेशक कर्नल नीरज राणा की देखरेख में शुरू हुए इस प्रशिक्षण शिविर में चार प्रशिक्षक युवाओं को ट्रेनिंग दे रहे हैं। रोजाना गोबिंद सागर झील में युवाओं को जेटस्की, ई-हाइड्रोफॉइल और जेटोवेटर चलाने और पानी के बीच कलाबाजियां करने के गुर सिखाए जा रहे हैं। जानकारी के मुताबिक इससे पहले पौंग डैम में करीब 12 युवाओं को ट्रेनिंग दी जा चुकी है। अब बिलासपुर की गोबिंद सागर झील में 11 युवाओं को ट्रेनिंग दी जा रही है। इससे जहां तत्तापानी व लारजी में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, वहीं स्थानीय लोग भी साहसिक जलक्रीड़ा का आनंद उठा सकेंगे।
्र
खास बात यह है कि हिमाचल प्रदेश में जेटस्की और जेटोवेटर की सुविधा पहली बार शुरू हो रही है। हाल ही मुंबई से 13 जेटस्की, 12 ई-हाइड्रो फॉइल और 12 जेटोवेटर सहित 1 स्पीड वोट हिमाचल पहुंचे हैं। बताया जा रहा है कि यह उपकरण काफी पहले हिमाचल प्रदेश पहुंचने थे, लेकिन कोरोना महामारी के चलते यह मशीनरी मुंबई में ही फंसी थी। अब यह उपकरण बिलासपुर में पहुंच चुके हैं और इसकी ट्रेेनिंग भी शुरू हो चुकी है। जो आगामी 3 अक्तूबर तक जारी रहेगी। सात दिनों तक 11 युवा पानी से हवा में कलाबाजियां करना सीखेंगे।

ट्रेनिंग को लेकर उत्साहित स्थानीय लोग…

बिलासपुर में इस प्रशिक्षण शिविर के शुरू होते ही गोबिंद सागर झील इन दिनों आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। हालांकि, जल स्तर बढऩे के चलते रोजाना लोग सुबह और शाम के समय झील किनारे सैर व मोटर वोट में वोटिंग करने के लिए पहुंचते हैं। लेकिन, यह ट्रेनिंग लोगों को अधिक आकर्षित कर रही है। इस वाटर स्पोट्र्स को लेकर लोग काफी उत्साहित हैं। लोग इस वाटर स्पोट्र्स की सुविधा को बिलासपुर में शुरू करने की भी मांग कर रहे हैं।

बिलासपुर की गोबिंद सागर झील में सात दिवसीय ट्रेनिंग कैंप शुरू हो गया है। जिसमें 11 युवाओं को प्रशिक्षकों द्वारा जेटस्की, ई-हाइड्रोफॉइल और जेटोवेटर चलाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। ट्रेनिंग पूरी होने के बाद युवाओं को उपकरणों सहित तत्तापानी और लारजी भेजा जाएगा।
कर्नल नीरज राणा,
निदेशक अटल बिहारी बाजपेयी पर्वतारोहण संस्थान मनाली

The post गोबिंदसागर में पानी से हवा में कलाबाजियां करने की ट्रेनिंग शुरू, 11 युवाओं को दिया जा रहा जेटस्की appeared first on Divya Himachal.