Friday, February 26, 2021 03:22 AM

सरकार की नीतियां किसान-बागबान विरोधी

विशेष संवाददाता—शिमला

पंचायती राज संस्थाओं के चुनावों में भाजपा सरकारी तंत्र का खुल कर दुरुपयोग कर रही है। अधिकारियों व कर्मचारियों पर दवाब बना कर उन्हें डराया धमकाया जा रहा है। यह आरेप कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता कुलदीप सिंह पठानिया ने लगाया है। उन्होंने कहा कि नगर निकाय चुनावों में भाजपा ने सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग किया, बावजूद इसके अधिकतर जगहों पर हार का मुंह देखना पड़ा। उन्होंने कहा कि भाजपा अब निर्दलियों को प्रलोभन देकर उन्हें अपना बनाने की पूरी कोशिश कर रही है।

 कई जगह, तो कांग्रेस के जीते हुए पार्षदों को भी प्रलोभन दिए जा रहे हैं। उन्होंने चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठाते हुए कहा है कि आयोग आदर्श आचार संहिता पर अपनी आंखे मूंदे बैठा है। प्रदेश सरकार के मंत्री बीडीसी व जिला परिषद के चुनावों में सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर रहे हैं। पूरा सरकारी अमला भाजपा के दबाव में काम कर रहा है। श्री पठानिया ने कहा कि नगर निकाय चुनावों में जहां कांग्रेस को स्पष्ट बहुमत मिला है, वहां भी उन्हें तोड़ने के भाजपा पूरे प्रयास कर रही है।

दिव्य हिमाचल ब्यूरो - धर्मशाला     

प्रदेश की दूसरी राजधानी धर्मशाला में आयकर विभाग की छापामारी से हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि एक महिला के पास आय से अधिक संपत्ति व मूर्तियां मिलने के बाद यह छापामारी हुई है। हालांकि मामले की पुष्टि नहीं हो पाई है, लेकिन मामला कारोड़ों का बताया जा रहा है। आयकर विभाग की टीम ने धर्मशाला के पास शिल्ला चौक में एक महिला के घर में छापामारी की है।

छापेमारी के दौरान घर से इन्कम टैक्स विभाग की टीम ने कुछ कागजात व अन्य समग्री कब्जे में ली है। इनकम टेस्ट विभाग के अधिकारियों ने छापामारी की पुष्टि नहीं की है, लेकिन,  सूत्रों का कहना है कि शिल्ला चौक में एक घर में आयकर विभाग की टीम ने छापमारी की है। बताया जा रहा है कि टीम ने वित्तीय अनियमितताओं को लेकर कुछ दस्तावेज और कुछ अन्य समग्री हासिल की है। मामले को लेकर विभागीय टीम अभी कागजी कार्यवाही कर रही है।

जयदीप रिहान - पालमपुर

देवभूमि में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं और पढ़े-लिखे लोगों वाले प्रदेश में महिलाओं के प्रति अपराधों के मामलों में लगातार इजाफा हो रहा है। 2006 तक जहां प्रदेश में महिलाओं के साथ पेश आए विभिन्न अपराधों का आंकड़ा एक हजार से कम रहता था, वहीं अब यह बढ़़कर डेढ़ हजार से पार हो गया है। 2010 में प्रदेश में क्राइम अगेंस्ट वूमन की विभिन्न धाराओं के तहत कुल 1145 मामले दर्ज किए गए थे, वहीं 2020 में यह आंकड़ा बढ़ कर 1656 पर जा पहुंचा। 2010 से लेकर 2020 की अवधि तक महिलाओं के खिलाफ आपराधिक मामलों की यह सबसे अधिक संख्या रही है। 2013 में प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 1596 मामले दर्ज हुए थे, जबकि 2018 में 1617 और 2019 में 1640 के बाद 2020 में भी लगातार तीसरे वर्र्ष इस श्रेणी के आपराधिक मामलों की संख्या चिंताजनक तौर पर 1600 से अधिक रही। यानी हर माह दर्ज किए जा रहे मामलों की औसत संख्या 130 से भी ज्यादा है।

2012 में 1024 मामले सामने आए थे और उसके बाद 2013 में अचानक ही यह आंकड़ा बढ़कर 1596 तक जा पहुंचा था। हालांकि उसके बाद के वर्षों में इन मामलों की संख्या 1300 के कम रही, लेकिन बीते तीन वर्षों में एक बार फिर महिलाओं से क्राइम के मामलों में इजाफा दर्ज किया गया है। 2020 में जिला कांगड़ा में रेप के 47 और छेड़छाड़ के 93, जिला शिमला में रेप के 54 और छेड़छाड़ के 68, जिला मंडी में रेप के 41 और छेड़छाड़ के 87, जिला सिरमौर में रेप के 44 और छेड़छाड़ के 47, जिला कुल्लू में रेप के 31 और छेड़छाड के 46 तथा जिला बिलासपुर में रेप के 22 और छेड़छाड़ के 47 मामले दर्ज किए गए। महिलाओं के खिलाफ अपराधों के सबसे कम मामले जिला लाहुल-स्पीति में रहे। लाहुल स्पीति में 2020 में रेप के दो मामले दर्ज हुए, वहीं छेड़छाड़ का एक भी मामला नहीं था। 2020 में प्रदेश में रेप के 331, मोलेस्टेशन के 539 और ईव टीजिंग के 87 मामले दर्ज किए गए।

क्राइम अगेंस्ट वूमन

2010      1145

2011      1112

2012      1024

2013      1596

2014      1325

2015      1289

2016      1212

2017      1260

2018      1617

2019      1640

2020      1654

नगर संवाददाता - कांगड़ा

कांगड़ा के सर्राफा बाज़ार से मंदिर मार्ग पर शनिवार शाम उस समय लोगों की भीड़ लगनी शुरू हो गई जब एक चोर को पकड़ने के लिए कांगड़ा पुलिस पहुंची। हालांकि पुलिस व स्थानीय लोगों के घंटों प्रयास के बाद चोर तो पकड़ में नहीं आया, लेकिन लोगों के लिए यह वाकया चर्चा का विषय बना रहा। उल्लेखनीय है कि शुक्रवार शाम कांगड़ा बस अड्डे पर एक दुकानदार जब टायलट की तरफ गया, तो वार्ड नंबर सात के निवासी ने उसकी दुकान से मोबाइल फोन व जरूरी कागजों के बैग सहित लगभग 15 हजार रुपए चुरा लिए। इसके बाद उन्होंने कांगड़ा पुलिस में शिकायत दर्ज करवा दी। शनिवार जैसे ही दुकानदार नितिन को उसके किसी जानकर ने बताया कि चोर अपने घर के साथ वाले घर, जो पिछले लंबे समय से बंद पड़ा है, में छिपा हुआ है। इसके बाद पुलिस कर्मी व दर्जनों लोग उसे पकड़ने के लिए वहां पहुंचे। तीन मंजि़ला मकान के हर कमरे की तलाशी ली गई, लेकिन चोर उनके हाथ नहीं लगा। हालांकि वहां दर्जनों  नए मोबाइलों के ख़ाली डिब्बे व लगभग 100 के क़रीब मोबाइल सिम के साथ कुछ हधियार भी बरामद हुए हैं। मामले की जांच की जा रही है।

नालागढ़ में पेश आया दर्दनाक हादसा, एक बाइक सवार जख्मी

दिव्य हिमाचल ब्यूरो - बीबीएन

औद्योगिक कस्बे नालागढ़ के तहत ढ़ाणा गांव में एक तेज रफ्तार ट्रक ने मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी। इस हादसे में मोटरसाइकिल चालक युवक व एक महिला की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि एक महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। उसे प्राथमिक उपचार के बाद पीजीआई चंड़ीगढ़ रैफर कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि यह हादसा शनिवार सुबह उस वक्त हुआ, जब भरतगढ़ की तरफ से मोटरसाइकिल पर आ रहे तीन बाइक सवार पास लेते वक्त ट्रक की चपेट में आ गए। बताया जा रहा है कि घटना के समय घना कोहरा था और सड़क के एक तरफ बैरिकेड लगा हुआ था। इसी बीच ट्रक बैरिकेड को बचाते हुए मोटरसाइकिल से टकरा गया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है, जबकि मृतकों के शव पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों के हवाले कर दिए गए हैं।

जानकारी के मुताबिक भरतगढ़-नालागढ़ मार्ग पर गांव ढाणा के समीप एक दर्दनाक हादसा हुआ, जिसमें  मोटरसाइकिल चालक व महिला की मौत हो गई। हादसा सुबह करीब पौने आठ बजे हुआ, दभोटा चौकी पुलिस ने ट्रक चालक के खिलाफ एफआईआर करते हुए मामले की जांच शुरू कर दी है। हादसे के बाद ट्रक चालक मौके से भाग निकला, जिसकी तलाश शुरू कर दी गई है। हादसे में हुई मोटरसाइकिल चालक व एक महिला की मौत हुई, जिनकी पहचान गुरदीप कुमार (28) पुत्र हरिदास गांव रत्योड़ नालागढ़ व महिला जसविंद्र कौर पत्नी विक्रम सिंह निवासली गांव जगतपुरा चमकौर साहिब रोपड़ के रूप  में  हुई है, जबकि एक अन्य घायल महिला हरप्रीत कौर पत्नी कपिल कुमार थठीवाला बलाचौर रोपड़ की रहने वाली है। पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हो गई है। डीएसपी नवदीप सिंह ने मामले की पुष्टि की है।

दिव्य हिमाचल ब्यूरो -  धर्मशाला     

पंचायत चुनावों के अंतिम दौर में अब लड़ाई-झगड़ों तक की नौबत आने लगी है। ऐसा ही एक मामला धर्मशाली में सामने आया है। पुलिस थाना धर्मशाला के तहत पंचायत चुनाव का प्रचार कर रहे दो प्रत्याशियों में शुक्रवार रात किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया। यह झगड़ा इतना बढ़ गया कि नौबत मारपीट तक पहुंच गई। इसके चलते दोनों ही व्यक्तियों ने एक-दूसरे के विरुद्ध पुलिस थाना धर्मशाला में क्रॉस एफआईआर दर्ज करवाई है। थाना प्रभारी धर्मशाला राजेश कुमार ने बताया कि बलबीर सिंह निवासी कल्याड़ा डाकघर नागनपट्ट, तहसील धर्मशाला ने शिकायत दर्ज करवाई है कि ओडर में शेष राज, नरेंद्र, विक्रांत व अजय कुमार निवासी ओडर डाकघर घरोह जिला कांगड़ा ने उसके साथ लड़ाई-झगड़ा किया है।

 वहीं दूसरी ओर, शेष राज निवासी गांव ओडर डाकघर घरोह तहसील धर्मशाला ने शिकायत दर्ज करवाई कि ओडर में बलबीर सिंह, सूरज, रजत, ईशु व विश्व भारती ने चुनाव प्रचार के विवाद को लेकर उसके साथ लड़ाई-झगड़ा किया है। पुलिस ने दोनों ही पक्षों के खिलाफ क्रॉस एफआईआर दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी है।

विशेष संवाददाता — शिमला

कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने प्रदेश भाजपा सरकार की बागबानी विरोधी नीतियों की कड़ी आलोचना करते हुए कहा है कि वह बागबानों के धैर्य की परीक्षा लेने की कोशिश न करे। उन्होंने कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार द्वारा बागबानी विकास के लिए दिए जाने वाले सभी प्रोत्साहन बंद करके भाजपा सरकार का किसान व बागबान विरोधी चेहरा फिर से सामने आ गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा कोटगढ़ में 22 जुलाई, 1990 के जैसे आंदोलन के लिए बागबानों को मजबूर करने की कोशिश न करे, जब तत्कालीन भाजपा सरकार के राज में बागबानों ने सेब के समर्थन मूल्य की मांग पर आंदोलन करते हुए अपने पांच बागबानों को खोना पड़ा था।

 इस कलंक से भाजपा कभी बच नहीं सकती। भाजपा की सोच हमेशा पूंजीपतियों को लाभ देने की रही है और बागबानों को सदा ही भाजपा के राज में नुकसान ही उठाना पड़ा है। श्री राठौर ने हॉर्टिकल्चर टेक्नोलॉजीज मिशन के तहत बागबानी उपकरणों की खरीद पर दी जाने वाली ग्रांट बंद करने की सरकार की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि बागवानों को फफूंद व कीटनाशक पर मिलने वाले अनुदान को भी प्रदेश सरकार ने खत्म करके एक बड़ा बागबानी विरोधी निर्णय लिया है।