Friday, November 27, 2020 05:19 AM

हवाई अड्डों के निर्माण पर शिमला में रणनीति, नागचला में इंटरनेशनल एयरपोर्ट का ड्रीम प्रोजेक्ट अधर में

हिमाचल प्रदेश में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का निर्माण फिलहाल सपने जैसा लग रहा है। नागचला में इसका निर्माण होना है, मगर अभी कई बड़ी पेचीदगियां सामने हैं, जिनसे पार पाना आसान नहीं। इसके साथ जुब्बड़हट्टी एयरपोर्ट और कांगड़ा की हवाई पट्टी का विस्तार किया जाना प्रस्तावित है, जिसमें भी कई परेशानियां हैं। शुक्रवार को सीएम ने इनके संबंध में अधिकारियों से बैठक की और वस्तुस्थिति को जाना। उन्होंने तीनों प्रस्तावों से जुड़ी विभिन्न औपचारिकताओं के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि नागचला हवाई अड्डे के निर्माण के लिए 2936 बीघा भूमि चिन्हित की गई है और जनवरी, 2020 में इस स्थल के लिए स्वीकृति प्राप्त की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि हिमाचल सरकार चरण दो के लिए 3150 मीटर भूमि अधिग्रहण करेगी और अतिरिक्त भूमि को बफर जोन के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा। प्रदेश सरकार ने इस ग्रीन फील्ड हवाई अड्डे के विकास और संचालन के लिए संयुक्त उपक्रम कंपनी के माध्यम से 15 जनवरी, 2020 को एक समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किया है।

 उन्होंने कहा कि इस महत्त्वाकांक्षी परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण, टर्मिनल भवन, रन-वे और अन्य गतिविधियों पर 7448 करोड़ रुपए की अनुमानित राशि खर्च होगी। भूमि अधिग्रहण पर 2786 करोड़ और अन्य विकासात्मक गतिविधियों पर 2965 करोड़, टर्मिनल भवन व रन-वे एवं अधोसंरचना पर 900 करोड़ रुपए व्यय होंगे। उन्होंने कहा कि इस प्रस्तावित हवाई पट्टी के लिए सुकेती खड्ड के तटीकरण की आवश्यकता होगी। पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन विभाग के सचिव देवेश कुमार ने इस अवसर पर प्रदेश द्वारा कार्यान्वित की जा रही विभिन्न परियोजनाओं पर एक प्रस्तुति दी। जलशक्ति मंत्री, अतिरिक्त मुख्य सचिव आरडी धीमान और प्रबोध सक्सेना, प्रधान सचिव जेसी शर्मा, सचिव विकास लाबरू और निदेशक पर्यटन यूनस भी बैठक में उपस्थित रहे।

कांगड़ा हवाई अड्डा

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांगड़ा हवाई अड्डे को ए-320 जैसे एयरक्राफ्ट के संचालन के लिए विकसित करने व विस्तार देने के लिए 1780 बीघा भूमि चिन्हित की गई है। इसके लिए भूमि अधिग्रहण एवं संबद्ध कार्यों के लिए 3347.18 करोड़ रुपए लागत आएगी। हवाई पट्टी के लिए मांझी खड्ड के तटीकरण के साथ-साथ हवाई अड्डे तक नए संपर्क संपक मार्ग की जरूरत है।

शिमला एयरपोर्ट

शिमला हवाई अड्डे के विस्तार का उल्लेख करते हुए सीएम ने कहा कि केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ने नवंबर, 2019 में रन-वे को विस्तार देने के लिए धनराशि प्रदान करना मंजूर किया है। इसमें 300 मीटर के अतिरिक्त लंबाई जोड़ी जाएगी, जिसके लिए 182.11 बीघा भूमि चिन्हित की जा चुकी है।

The post हवाई अड्डों के निर्माण पर शिमला में रणनीति, नागचला में इंटरनेशनल एयरपोर्ट का ड्रीम प्रोजेक्ट अधर में appeared first on Divya Himachal.