Sunday, May 09, 2021 07:34 PM

दस से होंगे हेमकुंड साहिब के दर्शन, रास्ते से बर्फ हटाने में जुटे सेना के जवान

चंडीगढ़, 12 अप्रैल (ब्यूरो)

पंजाब और चंडीगढ़ के बाद हरियाणा सरकार ने भी पूरे प्रदेश में रात्रि कफ्र्यू लगाने की घोषणा कर दी है। हरियाणा में रात नौ बजे से सुबह पांच बजे तक आम आदमी की आवाजाही पर रोक रहेगी। पुलिस सख्ती से लोगों से रात्रि कफ्र्यू का पालन करवाएगी। हालांकि इस दौरान अवाश्यक सेवाओं में लगे कर्मचारियों की आवाजाही जारी रहेगी। रात्रि कफ्र्यू का आदेश सोमवार से ही प्रभावी होगा। कफ्र्यू का उल्लंघन करने वालों पर कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। बता दें कि हरियाणा में कोरोना ने विकराल रूप धारण कर लिया है। कोरोना ने हरियाणा में पिछले पांच महीनों का रिकॉर्ड तोड़ दिया। प्रदेश में सक्रिय मामलों की संख्या 20981 तक पहुंच चुकी है। 26 नवंबर 2020 को 20948 सक्रिय मामले थे। इसके अलावा, गंभीर मरीजों की संख्या भी बढ़कर 263 तक पहुंच गई है।

नए साल में पहली बार रिकवरी दर घटकर 92.35 प्रतिशत पहुंच गई, जबकि संक्रमण गति बढ़कर 4.82 प्रतिशत पहुंच गई है। जींद में तीन, यमुनानगर, पानीपत, करनाल, अंबाला, हिसार, भिवानी में दो-दो और सिरसा, हिसार व गुरुग्राम में एक -एक कोरोना मरीज की मौत हो गई। बता दें कि कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर हरियाणा में सभी आंगनबाड़ी केंद्र, शिशु गृह और पहली से आठवीं तक के स्कूलों को 30 अप्रैल तक बंद कर दिया गया है। सरकार ने डीसी को निरीक्षण का जिम्मा सौंपा है। कोरोना को लेकर जारी आदेश की वे मुनादी कराएंगे। इनका उल्लंघन होने पर कार्रवाई की जाएगी। महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने बताया कि सभी 25 हजार 962 आंगनबाड़ी केंद्र, कामकाजी महिलाओं के बच्चों की देखभाल के लिए संचालित 102 शिशु गृह 30 अप्रैल, 2021 तक बंद रहेंगे। इस अवधि के बाद कोरोना संक्रमण की दर और हालात को देखते हुए आगामी निर्णय लिया जाएगा।

मोरनी, 12 अप्रैल (अरुण वर्मा)

मोरनी की खूबसूरती को अपने कैनवास पर उतारने के लिए शहर के प्रमुख आर्ट गु्रप 'परिंदों की उड़ान', द्वारा कार्यशाला का आयोजन किया गया। अध्यक्ष मीनाक्षी जैन पंचकूला ने बताया कि नौ अप्रैल से लगाई गई इस प्रदर्शनी व कला कार्यशाला में अलग-अलग राज्यों से प्रमुख नौ कलाकारों ने हिस्सा लिया व ऑन दि स्पॉट पेंटिंग की तथा इस दौरान कलाकारों ने अपनी कला और कौशल को आपस में साझा किया। 'परिंदों की उड़ान' की ओर से आयोजित इस सामूहिक कला प्रदर्शनी व कार्यशाला के समापन समारोह में चौधरी बीआर मलिक ने मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा लिया। इस अवसर पर सीबीआर मलिक ने कलाकारों को इस सफल आयोजन के लिए बधाई दी और उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं। परिंदों की उड़ान की अध्यक्ष मीनाक्षी जैन ने बताया की इस प्रदर्शनी और कार्यशाला में अलग-अलग राज्यों के वरिष्ठ कलाकारों ने हिस्सा लिया। जिन आर्टिस्टो ने हिस्सा लिया, उनमें आर्टिस्ट अजीत कुमार, फायर आर्टिस्ट द्ध जयपुर द्वारा बनाए गए पोट्रेट से पूर्व विधायक लतिका शर्मा को सम्मानित किया गया।

बैठक के दौरान बोले हरियाणा के बिजली मंत्री रणजीत सिंह

चंडीगढ़, 12 अप्रैल (संजय अरोड़ा)

हरियाणा के बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने सोमवार को कहा कि गुरुग्राम के उद्यमियों की बिजली संबंधी समस्याओं के समाधान के लिए गुरुग्राम में ही फ्रंट ऑफिस स्थापित किया जाएगा और यहां के मामले हिसार स्थित दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के मुख्यालय पर नहीं भेजे जाएंगे। बिजली मंत्री रणजीत सिंह ने यह निर्णय सोमवार को गुरुग्राम के लोक निर्माण विश्रामगृह में गुरुग्राम जिला की विभिन्न इंडस्ट्रियल एसोसिएशनों के साथ हुई बैठक में लिया। उन्होंने कहा कि गुरुग्राम, फरीदाबाद और धारूहेड़ा औद्योगिक हब हैं जहां से बिजली कंपनियों को राजस्व मिलता ह, इसलिए बिजली निगम भी उद्यमियों की समस्याओं का हरसंभव समाधान करने का प्रयास करेगा।

उन्होंने कहा कि सप्ताह में एक दिन दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के प्रबंध निदेशक या उनका प्रतिनिधि और 15 दिन में वे स्वयं उद्योगों को बिजली आपूर्ति की समीक्षा गुरुग्राम में करेंगे। उन्होंने उद्यमियों को विश्वास दिलाया कि वे उनकी बिजली संबंधी समस्याओं को समझ चुके हैं और अब उनका समाधान करवाने की दिशा में काम होगा। उन्होंने यह भी कहा कि अगले तीन महीनों में गुरुग्राम में बिजली संबंधी शिकायतों के निपटारे ;ग्रीवेंस रिड्रेसल सिस्टमद्ध में सुधार किया जाएगा। आधी से ज्यादा समस्याओं का समाधान अगले एक महीने में ही हो जाएगा, जिसे उद्यमी स्वयं महसूस करेंगे। उन्होंने कहा कि उद्योगों के बिजली बिल ई.मेल के जरिए भेजे जाएंगे, जिनकी अदायगी करने के लिए उन्हें सात कार्य दिवस दिए जाएंगे, जिसमें वे दिन शामिल नहीं होंगे जिन दिनों में बैंकों का अवकाश होता है। इस अवसर पर बिजली मंत्री के साथ बिजली विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास, दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के प्रबंध निदेशक बलकार सिंह भी उपस्थित थे।

यमुनानगर में दो संगठनों ने एक-दूसरे के खिलाफ दिखाया गुस्सा, माइक के इस्तेमाल पर और बिगड़ गई बात

यमुनानगर, 12 अप्रैल (रविंद्र)

श्री शिवशक्ति धाम डासना, जिला गाजियाबाद के महंत स्वामी यति नरसिंहानंद सरस्वती जी व शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी को जान से मारने की धमकी देने पर सुरक्षा मुहैया कराए जाने को लेकर हिंदू संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया। वहीं दूसरी ओर मुस्लिम समाज द्वारा भी नवी मोहम्मद सल्ललाहु वलेही सल्लम के बारे में गलत बयानबाजी कर आस्था को ठेस पहुंचाने को लेकर प्रदर्शन किया गया। मुख्य अनाज मंडी के दोनों ही गेटों पर दोनों पक्षों का एक दूसरे के खिलाफ प्रदर्शन था। जिला प्रशासन ने दोनों ही पक्षों को अनुमति दी थी और कहा था कि कोई भी पक्ष माइक नहीं चलाएगा। दोनों गेटों पर अलग-अलग प्रदर्शन चल रहे थे। इसी दौरान हिंदू संघर्ष समिति के सदस्यों को पता चला कि मुस्लिम समाज के लोग माईक लेकर भाषण दे रहे हैं। बस इसी बात को लेकर हिंदू व मुस्लिम पक्ष आमने-सामने हो गए।

पुलिस ने बीच बचाव करवाकर किसी तरह मामला शांत करवाया और दूसरे पक्ष का भी माइक बंद करवाया। इस दौरान लघु सचिवालय के भीतर व बाहर स्थिति तनावपूर्ण हो गई। कुछ देर के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग को भी जाम कर दिया गया। पुलिस के साथ भी तू-तू, मैं-मैं हुई और प्रशासन पर इस दिशा में लापरवाही के आरोप लगे। आम आदमी का कहना था कि प्रशासन को एक ही समय में दोनों पक्षों का प्रदर्शन की अनुमति नहीं देनी चाहिए थी और यदि दी थी तो प्रशासन को पहले ही मुस्लिम समाज के लोगों का माइक भी बंद करवा देना चाहिए था। ताकि ऐसी स्थिति पैदा न होती। इस बीच दोनों ही पक्षों ने सीटीएम को अपनी मांगों का ज्ञापन भी सौंपा। जब तक दोनों पक्ष लघु सचिवालय से चले नहीं गए, तब तक माहौल तनावपूर्ण बना रहा और उनके जाने के बाद ही पुलिस प्रशासन ने भी चैन की सांस ली।

श्रद्धालुओं की सुविधा को दो किलोमीटर रास्ते से बर्फ हटाने में जुटे सेना के जवान

चंडीगढ़ (ब्यूरो)

सिखों के पवित्र स्थान गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब जी के दर्शन इस बार श्रद्धालु 10 मई से कर सकेंगे। कोविड गाइड लाइन को ध्यान में रखते हुए श्रद्धालुओं को आना होगा। श्री हेमकुंड मैनेजमेंट ट्रस्ट के ट्रस्टी मनिंदरजीत सिंह बिंद्रा की ओर से बताया गया कि इस बार गुरुघर गोविंदधाम से श्री हेमकुंड साहिब तक के दो किलोमीटर के रास्ते में बर्फ को हटाने के लिए भारतीय सेना की 418 इंडिपेंडेंट इंजीनियरिंग कोर के जवान पहुंच गए हैं। उन्होंने इस मार्ग पर दिन-रात मेहनत से बर्फ को हटाने का काम शुरू कर दिया है। बिंद्रा ने बताया कि इस समय गुरुघर के पास आठ से नौ फीट तक बर्फ पड़ी हुई है। गुरुद्वारा, सरोवर और आसपास का क्षेत्र पूरी तरह से बर्फ से ढका हुआ है।

उन्होंने बताया कि यात्रा के अंतिम पड़ाव घांघरिया में बर्फ नहीं है, लेकिन अटलाकुड़ी से हेमकुंड साहिब तक चारों ओर बर्फ जमी है। उत्तराखंड के चमौली जिला में स्थित यह गुरुघर 15 हजार 200 फीट की ऊंचाई पर है। श्री हेमकुंड मैनेजमेंट ट्रस्ट के ट्रस्टी मनिंदरजीत सिंह बिंद्रा ने बताया कि इस बार उत्तराखंड सरकार की ओर से इस पवित्र यात्रा में आने वाले यात्रियों को यात्रा से 72 घंटे पहले का कोविड आरटीपीसीआर का टेस्ट जरूर होगा। इसके अलावा जिन यात्रियों ने वैक्सीन डोज की दोनों खुराक ले ली है, वे इस यात्रा में अपनी सर्टिफिकेट लेकर आ सकते हैं। इस बार हेमकुंड साहिब के कपाट 10 मई को खुल रहे हैं, जिसके लिए तैयारियां शुरू हो गई हंै।

ग्लेशियर से गुजरेगी संगत

श्री हेमकुंड साहिब की यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्रियों को आस्था पथ पर करीब दो किलोमीटर तक ग्लेशियर के बीच से होकर गुजरना पड़ेगा। हेमकुंड साहिब की तीर्थयात्रा आस्था, उमंग और साहसिक होती है। यहां अटलाकुड़ी नामक स्थान पर करीब दो किलोमीटर तक ग्लेशियर पसरा हुआ है। ग्लेशियर से गुजरती संगत वाहे गुरु का जाप करते हुए अपना रास्ता पूरा करती है। किसी भी संगत को किसी प्रकार की दिक्कत ग्लेशियर पार करने में नहीं होती।