Friday, February 26, 2021 04:12 AM

हिमाचल ने जमाई धाक विकास के नए रिकार्ड बनाए

मंदिर में फिर से मां के दर्शनों को लेनी होगी पर्ची, व्यवस्था बिगडऩे के बाद प्रशासन ने लिया फैसला

स्टाफ रिपोर्टर-चिंतपूर्णी शक्तिपीठ चिंतपूर्णी मंदिर में माता रानी के दर्शनों के लिए मंदिर प्रशासन ने फिर से दर्शन पर्ची सिस्टम शुरू कर दिया है। अब श्रद्धालुओं को माता रानी के दर्शनों को मंदिर जाने के लिए दर्शन पर्ची लेना अनिवार्य होगा। मंदिर अधिकारी अभिषेक भास्कर ने इसकी पुष्टि की है। बताते चले कि पंचायत चुनावों के चलते होमगार्ड की चुनावों में ड्यूटियां लगने के कारण मंदिर प्रशासन ने दर्शन पर्ची सिस्टम को कुछ दिनों के लिए हटा लिया था। लेकिन अब पंचायत चुनाव समाप्त होने के बाद सोमवार से दो जगह पर एडीबी की बिल्डिंग व शंभू बैरियर पर फिर से दर्शन पर्ची होमगार्ड जवानों द्वारा देना शुरू कर दी गई है।

वहीं 26 जनवरी से एमआरसी की पार्किंग में भी दर्शन पर्ची सिस्टम श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए शुरू कर दिया जाएगा। रविवार रात मंदिर प्रशासन की ओर से अचानक जारी किए निर्देशों के बाद सोमवार को मंदिर आने वाले श्रदालुओं को फिर परेशानी झेलनी पड़ी। श्रद्धालु बिना दर्शन पर्ची मंदिर पहुंच रहे थे, लेकिन उन्हें फिर दोबारा से दर्शन पर्ची लेने के लिए दर्शन पर्ची स्थल पर भेजा जा रहा था। बताते चले ठंड के चलते मंदिर में इतनी ज्यादा भीड़ भी नहीं है। जिसके चलते मंदिर प्रशासन को दर्शन पर्ची चलाना जरूरी थी, लेकिन अधिकारियों की माने तो रविवार को मंदिर में श्रद्धालुओं की काफी भीड़ थी जिसके चलते कई जगह पर व्यवस्था बिगडऩे की शिकायतें मिलती रही। जिसके बाद ही दोबारा से दर्शन पर्ची शुरू करने का निर्णय लिया गया है। उधर मंदिर अधिकारी अभिषेक भास्कर ने बताया कि मंदिर जाने के लिए दर्शन पर्ची सिस्टम सोमवार से दो जगह पर शुरू कर दिया गया है। 26 जनवरी से एमआरसी की पार्किंग में भी दर्शन पर्ची चला दी जाएगी। उन्होंने बताया कि रविवार को व्यवस्था बिगडऩे के चलते ये निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि कुछ दिनों बाद एसओपी के चलते जो भी बंदिशें लगाई गई हैं, वो धीरे धीरे हटा दी जाएंगी।

ऊना में प्रो. राम कुमार बोले, नए प्रतिनिधि देंगे विकास को रफ्तार

स्टाफ रिपोर्टर-ऊना पंचायती राज संस्थाओं के चुनावों में हरोली विधानसभा क्षेत्र में भाजपा ने रिकार्ड तोड़ मत लेकर विजय का परचम लहराया है। यह बात हिमाचल प्रदेश उद्योग विकास निगम के उपाध्यक्ष प्रो. राम कुमार ने ऊना मुख्यालय पर पत्रकार वार्ता दौरान कही। उन्होंने कहा कि हरोली विधानसभा क्षेत्र में अधिकतर पंचायतों में भाजपा की विचारधारा वाले पंचायत प्रधान व उपप्रधान चुनकर आए हैं। जो कि ग्रामीण स्तर पर विकास को और आगे बढ़ाएंगे। उन्होंने कहा कि ब्लॉक समिति सदस्य के चुनाव में भी भाजपा समर्थित प्रतिनिधियों ने 24 में से 20 प्लस जीतकर रिकार्ड बनाया है। क्षेत्र में चार जिला परिषद की सीटें है।

जिनमें से तीन सीटों पर भाजपा ने अपना विजय परचम लहराया है। उन्होंने कहा कि भाजपा की जीत से यह स्पष्ट हो गया है कि जनता सरकार की जनहितैषी नीतियों का लाभ उठा रही है। प्रो. राम कुमार ने कहा कि इन चुनावों में ग्रामीण स्तर पर ली गई फीडबैक से स्पष्ट हो गया है कि आने वाले समय में भाजपा की सरकार बन पाएगी। उन्होंने कहा कि हरोली क्षेत्र में जनता ने भाजपा के हक में 75 प्रतिशत मत दिए हंै। जनता ने विपक्ष को धरातल दिखा दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस समर्थित लोगों द्वारा कई स्थानों पर धांधली के आरोपों को लेकर कहा कि पूर्व कांग्रेस कार्यकाल में जिला परिषद की मात्र 17 वोटों में ही हेराफेरी कर दी गई थी। जिनमें न्याय के लिए अदालत का सहारा लेना पड़ा था। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के कार्यकाल में किसी प्रकार की कोई धांधली नहीं हुई है। अगर किसी को किसी प्रकार की कोई शंका है तो वह मामले को उचित स्तर पर उठा सकता है।

पूर्ण राज्यत्व स्वर्ण जयंती पर बोले वित्तायोग अध्यक्ष सतपाल सत्ती

नगर संवाददाता- ऊना

पूर्ण राज्यत्व दिवस की स्वर्ण जयंती के उपलब्ध पर 25 जनवरी को जिला ऊना में छह स्थानों पर शिमला से राज्य स्तरीय कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दिखाया गया, जिसे लोगों ने बड़े उत्साह के साथ देखा। जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन राजकीय महाविद्यालय ऊना में किया गया, जिसकी अध्यक्षता छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने की। इसके अतिरिक्त सभी उपमंडलों में भी कार्यक्रम आयोजित किए गए। अपने संबोधन में सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि पिछले 50 वर्षों में हिमाचल प्रदेश ने विकास के नए मुकाम हासिल किए हैं, जिसका श्रेय राज्य के मेहनती व ईमानदार लोगों का जाता है। पूर्ण राज्यत्व दिवस की शुभकामनाएं देते हुए सत्ती ने कहा कि शांति व भाईचारा ही हिमाचल प्रदेश के विकास का आधार है, जिसे हमें बरकरार रखना है। प्रदेश ने अपनी विकास यात्रा शून्य से शुरु की और बीते 50 वर्ष में हिमाचल ने, जो विकास किया, वो अन्य पहाड़ी राज्यों के लिए ही नहीं बल्कि देश के बड़े राज्यों के लिए भी प्रेरणादायक है। इसके लिए राज्य के सभी मुख्यमंत्री बधाई के पात्र हैं। सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि तीन अक्तूबर, 2020 प्रदेश के लिए एक महत्त्वपूर्ण दिन था, जब जिला कुल्लू के रोहतांग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अटल टनल, रोहतांग को लोगों को समर्पित किया।

दस हजार फीट की ऊंचाई पर बनाई गई यह टनल जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति के साथ-साथ जम्मू-कश्मीर को हर मौसम में सड़क सुविधा प्रदान करेगी। उन्होंने कहा कि हमारा राज्य समृद्ध जल संसाधनों से संपन्न है। वर्ष 1970-71 में 52,841 किलोवाट प्रति घंटा बिजली के मुकाबले, अब विभिन्न क्षेत्रों के तहत लगभग 10,756 मेगावाट क्षमता का दोहन किया जा चुका है। जिसके चलते आज हिमाचल देश में पावर सरप्लस स्टेट बन गया है। छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कार्यक्रम में उपस्थित नवनिर्वाचित पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों को कहा कि चुनाव संपन्न गए हैं और अब सभी विचारधारा से ऊपर उठकर हिमाचल प्रदेश के विकास में सहयोग दें। उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने मुख्यातिथि सहित सभी का कार्यक्रम में पधारने पर स्वागत किया। कार्यक्रम के दौरान रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी आरएम शर्मा ने भी विशेष वक्ता के रूप में हिमाचल के विकास पर अपने विचार साझा किए। इस अवसर पर एसपीएसआईडीसी के उपाध्यक्ष प्रो. राम कुमार, भाजपा जिला अध्यक्ष मनोहर लाल शर्मा, महामंत्री राजकुमार पठानिया, मंडल अध्यक्ष हरपाल सिंह गिल, एपीएमसी अध्यक्ष बलबीर बग्गा, एसपी अर्जित सेन ठाकुर, एडीसी डा. अमित कुमार शर्मा सहित अन्य अधिकारी, नव निर्वाचित पंचायत प्रतिनिधि, महिला मंडलों के सदस्य और बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।