Tuesday, October 27, 2020 06:25 PM

Himachal में संक्रमण से जंग हार रही सांसें, IGMC में एक घंटे में तीन मरीजों ने तोड़ा दम

प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी में कोरोना संक्रमण से एक साथ तीन लोगों की मौत हो गई है। एक घंटे के भीतर तीनों मरीजों ने कोविड से दम तोड़ा है। तीनों मरीज शिमला, सिरमौर, बिलासपुर के रहने वाले थे, जो कि यहां पर आइसोलेनश वार्ड में भर्ती थे। तीनों कोरोना के अलावा किसी न किसी बीमारी से भी ग्रसित थे।

जानकारी के अनुसार रविवार सुबह आईजीएमसी के आइसोलेशन वार्ड में तीन मरीजों ने दम तोड़ दिया। इसमें बिलासपुर जिला के गांव कल्लर के रहने वाले 60 साल के पुरुष हैं, जो कि यहां पर 20 सितंबर से उपचाराधीन थे।

यहां उनका उपचार चल रहा था, लेकिन आक्सीजन लेवल कम हो जाने से इनकी शनिवार सुबह 5ः50 मिनट पर मौत हो गई। दूसरे मरीज रोहड़ू क्षेत्र के तहत आने वाले गांव समरकोट के थे, वह भी आईजीएमसी में कोविड पॉजिटिव होने के चलते उपचाराधीन थे। 25 सितंबर को उन्हें यहां पर भर्ती करवाया गया था। डाक्टर उन्हें बचाने का पूरा प्रयास कर रहे थे, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। रविवार सुबह 5ः39 पर उन्होंने दम तोड़ दिया। इसके अलावा तीसरी मौत पांवटा साहिब के कूलर गांव की रहने वाली 68 साल की महिला की हुई है। उन्हें भी कोविड से संक्रमित होने के बाद आईजीएमसी लाया गया था। आइसोलेशन वार्ड में इनका उपचार चल रहा था। लेकिन यहां पर इनका ऑक्सीजन लेवल तेजी से नीचे गिर रहा था। डाक्टर उन्हे भी बचा नहीं पाए। रविवार सुबह 6ः20 बजे उनकी मौत हो गई।

नेरचौक में तीन लोगों ने ली अंतिम सांस

नेरचौक – रविवार को कोरोना संक्रमण के चलते कोविड अस्पताल नेरचौक में तीन लोगों की मौत हो गई। इनमें एक बिलासपुर और दो मंडी जिला के रहने वाले थे। बिलासपुर के घमोड़ा क्षेत्र के 85 बर्षीय बुजुर्ग को 26 सितंबर को कोविड अस्पताल नेरचैक में रैफर किया गया था। कोरोना संक्रमण के अलावा वह हार्ट और दूसरी बीमारियों से भी पीडि़त थे। उन्हे सांस लेने में भी दिक्क्त हो रही थी। ऐसे में कोविड अस्पताल नेरचौक में उनका निधन हो गया।

इसके अलावा मंडी जिले के रोपडू क्षेत्र के 74 वर्षीय बुजुर्ग को शनिवार को सारी वार्ड में भर्ती किया गया था। उन्हें पांच दिन से बुखार था और सांस लेने मे भी दिक्कत हो रही थी। बताया जा रहा है कि वह किसी संक्रमित के कांटैक्ट मे आए थे, लेकिन कोविड अस्पताल नेरचौक में रविवार को उनका निधन हो गया। कोरोना संक्रमण के चलते रविवार को कोविड अस्पताल नेरचौक में तीसरी मौत मंडी जिला के गोहर के कोटैच क्षेत्र के 93 वर्षीय बुजुर्ग की हुई है। संक्रमित होने के साथ वह अन्य बीमारियों से भी पीडि़त थे।

कोरोना ने काटी बुजुर्ग की जिंदगी की डोर

चंबा – जिला चंबा में कोरोना वायरस संक्रमण से रविवार को एक ओर 70 वर्षीय बुजुर्ग की मौत हो गई। कोरोना संक्रमित मरीज ने रविवार सवेरे मेडिकल कालेज टांडा में दम तोडा। यह बुजुर्ग कोरोना के अलावा विभिन्न बीमारियों से ग्रस्त था। इसके साथ ही चंबा जिला में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या 10 हो गई है।

सीएमओ चंबा डा. राजेश गुलेरी ने बताया कि शहर के सुराड़ा मोहल्ले के 70 वर्षीय बुजुर्ग को पांच दिन निमोनिया की शिकायत होने पर उपचार के लिए मेडिकल कालेज चंबा में एडमिट किया गया था। यहां वह कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इसके बाद 22 सितंबर को उन्हें डीसीएच धर्मशाला रैफर कर दिया गया। यहां से 24 सितंबर को उन्हें टांडा शिफ्ट कर दिया गया, जहां में रविवार सवेरे बुजुर्ग की मौत हो गई।

ऊना में कोरोना से अब तक 13 की मौत

ऊना – कोरोना वायरस ने जिला ऊना में 13वें व्यक्ति को मौत की नींद सुला दिया है। रविवार को ऊना शहर के वार्ड नंबर आठ का 61 वर्षीय व्यक्ति कोरोना के आगे जिंदगी की जंग हार गया। यह व्यक्ति शनिवार को ही कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाया गया था। उसे रविवार को हरोली कोविड केयर अस्पताल में शिफ्ट किया गया था, जिसकी वहां मौत हो गई।

मृतक शिक्षा विभाग से सेवानिवृत्त था। बताया जा रहा है कि शहर के वार्ड नंबर 8 के निवासी 61 वर्षीय व्यक्ति पिछले कुछ दिन से बीमार था। रविवार सुबह उसको कोविड अस्पताल हरोली में शिफ्ट किया गया, लेकिन इससे पहले की वह बैड तक पहुंच पाता उसकी मौत हो गई।

The post Himachal में संक्रमण से जंग हार रही सांसें, IGMC में एक घंटे में तीन मरीजों ने तोड़ा दम appeared first on Divya Himachal.