Tuesday, November 30, 2021 09:27 AM

परीक्षा करवाना भूली एचपीयू, टेंशन बढ़ी, डेढ़ साल पहले क्लर्क-जेओए आईटी, चौकीदार के लिए निकाले थे आवेदन

डेढ़ साल पहले क्लर्क और जेओए आईटी, चौकीदार के लिए निकाले थे आवेदन

स्टाफ रिपोर्टर-शिमला

कोविड काल में जहां युवा वर्ग बेरोजगारी और नौकरी न मिलने सें परेशान हैं वहीं नौकरियों के लिए किए गए आवेदन के बाद परीक्षा तिथि घोषित न होने से भी दुखी हंै। एचपीयू में करीब डेढ़ साल से पहले क्लर्क, जेओए आईटी सहित चौकीदार के 274 पदों के लिए जून 2020 में आवेदन निकाले गए थे। उस समय प्रदेश में कोविड संक्रमण भी पीक पर था और जब ये पद निकाले गए थे तो छात्र इस बात से काफी संतुष्ट हुए, लेकिन हैरानी इस बात की है कि आवेदन के लिए एचपीयू ने महंगी फीस और फार्म भी भरवाए लेकिन अब परीक्षा तिथि निकालना ही भूल गए।

प्रदेश के करीब दस से 15 हजार अभ्यर्थी ऐसे हैं जो परीक्षा तिथि निकाले जाने का इंतजार कर रहे हैं। अभ्यर्थियों ने आरोप लगाए हैं कि एचपीयू प्रशासन जब भी कोई परीक्षा कंडक्ट करवाता है तो उस परीक्षा की तिथि निकालने में साल से डेढ़ साल तक का समय लग जाता है। इससे हजारों अभ्यर्थी परेशानी में हैं। इसमें एचपीयू ने पिछले साल जून माह में गैर-शिक्षक कर्मचारियों के 274 पदों के लिए आवेदन निकाले थे। इसमें चपरासी के 92 पद, जेओए आईटी के 37 और चौकीदार के 28 पदों के लिए अब लिखित परीक्षा होनी है। इन पदों के लिए 600 रुपए से 1200 फीस ली गई है।

पंचायत सचिव की परीक्षा पर भी हो चुका है बवाल

इससे पहले पंचायत सचिव की परीक्षा पर भी विवाद हो चुका है। पंचायती राज विभाग में 239 पदों के लिए परीक्षा करवाई जानी है जिसका जिम्मा एचपीयू को दिया गया था ताकि यह परीक्षा जल्दी करवाई जा सके, लेकिन इन परीक्षाओं के लिए डेढ़ साल बाद 22 अक्तूबर को परीक्षा तिथि तय की गई है। ऐसे में अभ्यर्थियों ने एचपीयू प्रशासन पर आरोप लगाए हैं।