Tuesday, April 13, 2021 09:58 AM

सरकार से खफा जेबीटी-डीएलएड बेरोजगार

कुल्लू में जेबीटी-डीएलएड प्रशिक्षित बेरोजगार संघ ने कालेज से उपायुक्त कार्यालय तक निकाली रोष रैली

निजी संवाददाता-कुल्लू जेबीटी व डीएलएड प्रशिक्षित बेरोजगार संघ द्वारा बुधवार को कालेज गेट से उपायुक्त कार्यालय तक रैली का आयोजन किया गया। हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा 12 मई, 2019 को जेबीटी के 647 पर्दों को भरने के लिए लिखित परीक्षा गई थी। उम्मीदवारों की दावेदारी के चलते परिणाम नहीं निकल पाया था। नरेंद्र सिंह का कहना है कि जेबीटी व डीएलएड की मुख्य मांगे दो वर्षों से चली आ रही हैं। 20 से 25 हजार तक जेबीटी हैं। आने वाले जेबीटी में अधिक संख्या में हैं। वहीं, प्रदेश सरकार द्वारा जेबीटी व डीएलएड प्रशिक्षित बेरोजगारों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। अब सरकार और शिक्षा विभाग की तरफ से स्पष्ट भी किया है कि जेबीटी अध्यापकों के लिए केवल जेबीटी व डीएलएड ही योग्य होंगे। साथ ही अब काफी समय बाद 4225 में से 758 पदों पर बैचवाइज भर्ती की प्रक्रिया भी शुरू की गई है, जिसमें अब दो बीएड डिग्री धारकों को भी भर्ती में शामिल होने के लिए कहा गया है, जो कि जेबीटी व डीएलएड उम्मीदवारों के साथ सरासर गलत है, जिस प्रकार से कई वर्षों से गलत हो रहा है। डोलमा का कहना है कि हम भी इसी प्रदेश के निवासी व छात्र हैं। माननीय मुख्यमंत्री से विनती है की जेबीटी लिखित परीक्षा का परिणाम अतिशीघ्र घोषित किया जाए और दो वर्षों से शोषित हो रहे जेबीटी बेरोजगारों को राहत दी जाए। जेबीटी व डीएलएड प्रशिक्षित बेरोजगार संघ की प्रदेश सरकार से मांग है कि जिस पोस्ट के लिए ट्रेनिंग दी जा रही है, उसे वहीं लिया जाए, ताकि जेबीटी व डीएलएड प्रशिक्षित युवाओंं को राहत मिल सके। अन्यथा इन ट्रेनिंग करवाने का क्या फायदा। डोलमा ने कहा कि सरकार ऐसी पॉलिसी बनाए, जिससे कई बेरोजगार न रहे। इस दौरान सभी जेबीटी व डीएलएड प्रशिक्षित मौजूद रहे।