Sunday, December 06, 2020 04:30 AM

कब सुरक्षित होंगी लड़कियां

यूपी के हाथरस में 19 वर्षीय दलित युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद उसकी पिटाई करने से मौत की खबर ने एक बार फिर से देश को शर्मसार किया है। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत के किसी भी कोने में अगर किसी भी धर्म, समुदाय या जाति-वर्ग की लड़की के साथ कोई घिनौनी घटना होती है तो यह भारत के हरेक सत्ताधारी और हर धर्म, संप्रदाय और जाति-वर्ग के नागरिक के लिए शर्मनाक होना चाहिए। आखिर इनसान हैवान क्यों बनता जा रहा है? क्या नैतिकता का बिलकुल पतन हो गया है? किसी को भी कानून का जरा भी डर नही है। इस घिनौनी घटना ने एक बार फिर इनसानियत को शर्मसार कर दिया है और साबित कर दिया है कि प्राणी जाति में सबसे समझदार समझा जाने वाला अब इनसान भी नही रहा है या यूं कहा जा सकता है कि अब इनसान हैवान बन गया है।

 ऐसे हैवान आखिर किस मिट्टी के बने हैं जो अमानवीय कारनामों को अंजाम देने से भी नहीं कतराते। आखिर ऐसे हैवान क्यों फांसी के फंदे तक नहीं पहुंचते? क्यों सरकारें और कानून दरिंदो को सख्त सजा देने में देरी करते हैं? आखिर कब लड़कियां देश में सुरक्षित होंगी? ऐसे कई सवाल है जो आज भी देश को आजाद होने के इतने वर्षो बाद हरेक के दिल दिमाग में उठते हैं। देश में लड़कियों के साथ बढ़ते अपराध बहुत बड़ी चिंता का विषय है। अगर इन पर नकेल कसने के लिए अभी गंभीरता नहीं दिखाई गई तो भविष्य इससे भी विकट हो सकता है।

The post कब सुरक्षित होंगी लड़कियां appeared first on Divya Himachal.