Thursday, November 26, 2020 01:01 AM

किन्नौर में दस मकान राख; चार परिवारों का छिना आशियाना, लाखों का नुकसान

किन्नौर जिला के पूर्वनी गांव में शुक्रवार को हुए भीषण अग्निकांड में 10 घर राख के ढेर में बदल गए। हालांकि आग लगने की जानकारी मिलते ही सभी ग्रामीण आग बुझाने का हर संभव प्रयास करते रहे, लेकिन कई मकान लकड़ी के होने के कारण मामला बिगड़ गया। इस दौरान नव निर्मित देव मंदिर को भी काफी नुकसान हुआ है।

हालांकि ग्रामीणों के अथक प्रयासों से मंदिर को काफी हद तक बचा लिया गया। आग लगने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है। नुकसान का प्रारंभिक अनुमान कई लाखों में बताया जा रहा है। घटना के वक्त कई ग्रामीण खेतीबाड़ी के कार्यों को लेकर घरों में नहीं थे। ऐसे कई परिवार अपने घर का कोई भी सामान नहीं बचा पाए। पूर्वनी गांव में लगी इस आग पर काबू पाने के लिए रिकांगपिओ से दमकल विभाग के दो वाहनों सहित होमगार्ड के जवान भी घटना स्थल पर पहुंचे।

इनके प्रयासों से शुक्रवार देर शाम तक आग पर काबू लिया गया। इस दौरन एसडीम कल्पा सहित राजस्व विभाग के अधिकारी भी घटनास्थल पर पहुंचे और राहत व बचाव कार्यों में जुटे रहे। एडीएम कल्पा डा. मेजर अविंदर शर्मा ने बताया कि इस घटना में 10 मकान पूरी तरह से जल गए हैं। इन दस मकानों में से चार परिवार रह रहे थे। इनमें घर्म सिंह पुत्र मेडु, पनम लाल पुत्र जनजुक, रोशन लाल पुत्र श्याम व प्रेमवती पत्नी जवाहर शामिल हैं। उन्होंने बताया कि इन चार परिवारों को दस-दस हजार रुपए की फौरी राहत दी गई है। उधर, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने आगजनी की इस घटना पर दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन को प्रभावित परिवारों को फौरी राहत और पुनर्वास के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि प्रभावित परिवारों को हर संभव सहायता प्रदान की जाएगी। उपायुक्त किन्नौर गोपाल चंद ने जिला के वरिष्ठ अधिकारियों सहित मौके पर पहुंचकर राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लिया।

The post किन्नौर में दस मकान राख; चार परिवारों का छिना आशियाना, लाखों का नुकसान appeared first on Divya Himachal.