Friday, November 27, 2020 04:51 PM

किसान-बागबान परेशान सूख गए खेत-खलिहान, बारिश न होने से बढ़ रही दिक्कतें, फसलों की पैदावार पर भी संकट

हिमाचल प्रदेश में खेत-खलिहान सूखे की चपेट में आने शुरू हो गए है। प्रदेश में मानसून सीजन के बाद से नाममात्र बारिश हुई है। अक्तूबर माह की बात की जाए तो राज्य में बारिश की एक बूंद तक नहीं बरसी है, जो किसानों व बागबानों के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है। इस दौरान प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों को छोड़कर मध्यम व निचले क्षेत्रों में सेब सीजन पूरी तरह से खत्म हो चुका है।

बागबानों को बागीचों में काम के लिए नमी का इंतजार है। वहीं, मैदानी इलाकों में किसान बिना बारिश के फसलों की बिजाई नहीं कर पा रहे हैं। नमी के बिना खेत पूरी तरह से सूख गए हैं। प्रदेश में बारिश कम होने से दालों सहित अन्य सब्जियों का भी कम उत्पादन हुआ था। वहीं, राज्य में आगामी दिनों के  दौरान बारिश के कम ही आसार जताए जा रहे हैं। मौसम विभाग की मानें तो राज्य में चार नवंबर तक मौसम शुष्क बना रहेगा। हालांकि प्रदेश में रातों के साथ दिन के समय भी ठंड का प्रकोप बढ़ने लगा है, मगर आगामी दिनों के दौरान भी बारिश के कम ही आसार जताए जा रहे हैं, जो किसानों व बागबानों के लिए चिंता का कारण है।

तीन साल पहले भी हुई थी कम बारिश

प्रदेश में साल 2017 में अक्तूबर माह के दौरान  भी कम बारिश हुई थी। साल 2017 में सामान्य से 99 फीसदी कम बारिश आंकी गई थी। 2016 में भी प्रदेश में भी कम बारिश हुई थी। इस साल भी बरसात के दौरान कम बारिश हुई थी। अक्तूबर माह के दौरान अभी तक बारिश नहीं हुई है। राज्य में अगर विंटर सीजन के दौरान भी कम बारिश होती है तो किसानों व बागबानों का दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

हफ्ता भर बारिश नहीं होगी, पर ठंड सताएगी

कार्यालय संवाददाता – शिमला

हिमाचल प्रदेश में नवंबर माह के पहले सप्ताह के दौरान भी मौसम साफ बना रहेगा, मगर आगामी दिनों के दौरान लोगों को दिन के समय भी ठंड का सामना करना पडेगा। मौसम विभाग द्वारा प्रदेश में चार नवंबर तक मौसम साफ बना रहने का पूर्वानुमान लगाया गया था, लेकिन इस दौरान तापमान में और गिरावट आने की संभावना जताई जा रही है। प्रदेश के अधिकतर क्षेत्रों में गुरुवार को मौसम साफ बना रहा। दोपहर तक धूप भी खिली रही, मगर दोपहर बाद बादलों के घिरने के साथ ही शीतलहरों का प्रवाह शुरू हो गया था। शीतलहरों के प्रवाह से अधिकतम तापमान में एक से पांच डिग्री तक की गिरावट रिकॉर्ड की गई है। केलांग के अधिकतम तापमान में सबसे ज्यादा पांच डिग्री तक की गिरावट आंकी गई है। इसके अलावा डलहौजी में तीन, शिमला, सुंदरनगर, भुंतर, कल्पा, ऊना, सोलन और बिलासपुर के पारे में दो डिग्री तक की गिरावट आंकी गई है। नाहन व धर्मशाला को छोड़ कर शेष हिमाचल के तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। इससे दिन में भी सर्दी का एहसास होने लगा है।

The post किसान-बागबान परेशान सूख गए खेत-खलिहान, बारिश न होने से बढ़ रही दिक्कतें, फसलों की पैदावार पर भी संकट appeared first on Divya Himachal.