Tuesday, October 27, 2020 05:26 PM

मंडियों में भेजे एक करोड़ सेब बॉक्स; प्रदेश में सीजन पीक पर, फसल की आमद में कमी

हिमाचल प्रदेश में सेब सीजन पीक पर चल रहा है। राज्य के सेब बाहुल्ल क्षेत्रों से विभिन्न मंडियों के एक करोड से अधिक सेब बॉक्स भेजे जा चुके हैं। तैयार फसल धड़ाधड़ मार्केट में पहुंच रही है। बड़ी मंडियों में अराइवल का आंकड़ा दो लाख बॉक्स तक पहुंच गया है। हालांकि राज्य में सेब सीजन अपने चरम पर चल रहा है, मगर बागबानी को फसल के बेहतर दाम मिल रहे हैं। प्रदेश के विभिन्न जिलों से मार्केट में अभी तक एक करोड़ 10  लाख के करीब सेब बॉक्स पहुंच चुके हैं, मगर यह आंकड़ा बीते वर्ष के मुकाबले अब तक कम आंका जा रहा है। मौजूदा समय में राज्य के मध्यम ऊंचाई वाले और उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में सेब सीजन चल रहा है। इन क्षेत्रों से तैयार फसल धड़ाधड़ फल मंडियों में पहुंच रही है।

राज्य के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में भी इस बार अच्छी पैदावार का आकलन लगाया जा रहा है। ऐसे में आगामी दिनों के दौरान भी काफी संख्या में फसल के मार्केट में उतरने की उम्मीदें लगाई जा रही हैं। उल्लेखनीय है कि फल मंडियों में बागबानों को सेब के बेहतर दाम  मिल रहे हैं। इस सेब सीजन के शुरुआत से ही बागबानों को सेब के रिकॉर्डतोड़ दाम मिले हैं। हालांकि सितंबर माह के दौरान सेब के दामों में हल्की गिरावट आई थी, मगर बीते कुछ दिनों से सेब के दाम स्थिर बने हुए हैं, जो बीते साल के मुकाबले अधिक आंके जा रहे हैं।

कब, कितना उत्पादन…

बागबानी विभाग द्वारा इस सेब सीजन के दौरान करीब तीन करोड सेब बॉक्स के उत्पादन का आकलन लगाया जा रहा है। हालांकि राज्य में सेब सीजन के शुरुआत में ही ठंड पड़ने से सेब की फ्लावरिंग पर वितरित असर पडा था, मगर राज्य के कुछ जिलों के कई हल्कों को छोड़ कर अन्य स्थानों पर अच्छी पैदावार हुई है। हिमाचल में 2010 में  4.46 करोड़, 2011 में 1.37 करोड़, 2012 में 2.26 करोड़, 2013 में 3.69 करोड़, 2014  में 3.12 करोड़, 2015 में 3.88 करोड़, 2016 में 2.34 करोड़ और 2017  में  2.29 करोड़ सेब बॉक्स का उत्पादन हुआ था।

The post मंडियों में भेजे एक करोड़ सेब बॉक्स; प्रदेश में सीजन पीक पर, फसल की आमद में कमी appeared first on Divya Himachal.