Friday, September 25, 2020 02:32 AM

मंत्रों का महत्त्व

श्रीश्री रवि शंकर

ब्रह्मांड में हर वस्तु दूसरी किसी भी वस्तु को अपनी ओर आकर्षित करती है। जब आप मंत्रोच्चारण या हवन करते हैं, तो उसका वातावरण पर अत्यंत सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। मंत्रों के उच्चारण द्वारा वातावरण में सकारात्मक तरंगें फैलती हैं और उनका श्रवण करने से मन शांत होता है…

आमतौर पर लोग मंत्रो को मात्र कुछ शब्दों की तरह देखते हैं परंतु वो यह नहीं जानते की इन मंत्रों की तरंगों में बहुत ताकत होती है। यह कुछ ऐसे-वैसे शब्द नहीं हैं। इन्हें हमारे ऋषि-मुनियों ने सालों की ध्यान साधना द्वारा प्राप्त किया है। मंत्रों के श्रवण मात्र से हमारी चेतना जाग उठती है। यह महिमा है मंत्रों की। ये मंत्र अंतर्ज्ञान के स्तर से आए हैं, शुद्ध चेतना से आए हैं। देखिए यदि आप बैठ कर सोचेंगे और फिर कुछ करेंगे और कुछ शब्दों को जोड़कर उन्हें अर्थ देंगे, तो वो एक अलग बात हो जाती है। लेकिन ऐसा कुछ जो आपके अंदर से आता है, जैसे कोई कविता, जैसे अंतर्ज्ञान, तब उसका विस्तार हो सकता है और आने वाली पीढि़यों में उसे और अधिक जाना जा सकता है और जब जब आप उसका विश्लेषण करेंगे, तो कोई न कोई नया अर्थ सामने आएगा और इन्हीं को मंत्र कहते हैं।

मंत्रों के लाभ

मननात् त्रायते इति मंत्रः जब आप इस पर मनन करते हैं, तो आपकी ऊर्जा बढ़ती है। ऐसा कहा गया है। मंत्रों के अर्थ जरूर होते हैं, लेकिन इनका अर्थ केवल हिमशिला के कोने जैसा है। अर्थ इतना ज्यादा महत्त्वपूर्ण नहीं है, जितना इन मंत्रों की तरंगों को महसूस करना है। ब्रह्मांड में हर वस्तु दूसरी किसी भी वस्तु को अपनी ओर आकर्षित करती है। जब आप मंत्रोच्चारण या हवन करते हैं, तो उसका वातावरण पर अत्यंत सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। मंत्रों के उच्चारण द्वारा वातावरण में सकारात्मक तरंगें फैलती हैं और उनका श्रवण करने से मन शांत होता है।  जब हम गायत्री मंत्र का उच्चारण करते हैं, क्या उसका कोई नकारात्मक प्रभाव पड़ता है या केवल भाव ही महत्त्वपूर्ण है।

श्री श्रीः हां, पूरे भाव के साथ उच्चारण करिए वही काफी है।

आपको कोई सजा नहीं मिलेगी। अगर कोई कुछ कहता भी है, तो उनसे कहिए कि आपके पास एक वकील है। अगर कुछ होता है, तो मैं आपका वकील बन जाऊंगा। बहुत से पंडित लोगों में ये भ्रांति पैदा कर देते हैं कि कुछ हो जाएगा या महिलाओं को गायत्री मंत्र का उच्चारण नहीं करना चाहिए। ये सब गलत है, ऐसा कुछ भी नहीं है। इसे प्रेम से जपिए, डर से नहीं। मंत्र केवल शब्द ही नहीं होते, इनमें गूढ़ रहस्य छिपे होते हैं। केवल ज्ञान के माध्यम से ही आप इनके अर्थ जान सकते हैं।

The post मंत्रों का महत्त्व appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.