मिस हिमाचल की फाइनलिस्ट के बोल, कास्टिंग काउच जैसा कुछ नहीं होता, मैं इस गलत धारणा को मिटा देना चाहती हूं

कांगड़ा – मिस हिमाचल 2020 की फाइनललिस्ट कनिका चौहान मॉडलिंग के प्रति कुछ लोगों की गलत धारणा को मिटा देना चाहती हैं । वह कहती हैं कि कास्टिंग काउच जैसा कुछ नहीं है, इसके लिए गलत सोच को खत्म करने की जरूरत है। मौजूदा समय में लॉकडाउन के दौरान कनिका सुबह मॉर्निंग वॉक पर जाती हैं,उसके बाद ऑनलाइन क्लासेस और फिर थोड़ा घर का काम इस तरह की दिनचर्या के बीच वे ग्रैंड फि नाले का भी इंतजार कर रही हैं।

दरअसल 2019 में भी वे मिस हिमाचल में ब्यूटी एंजेल चुनी गई थी, जिसे वहे अपना टर्निंग प्वाइंट मानती हैं , वहीं से आगे बढ़ने की प्रेरणा उसे मिली। पिता मनमोहन चंद व माँ अरुणा चौहान के घर 28 दिसंबर 1997 को धर्मशाला में जन्मी कनिका डीएवी पब्लिक स्कूल धर्मशाला की छात्रा रही हैं। मौजूदा समय में इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज शिमला में बीडीएस  की छात्रा  कनिका  अब ऑनलाइन पढ़ाई में व्यस्त है। रोहित वर्मा जैसे फैशन इंडस्ट्री के लोगों के साथ फैशन शो करने का मौका उन्हें मिला है। कनिका अभी तक करीब आधा दर्जन फैशन शो में हिस्सा ले चुकी हैं। पूरी फैमिली का साथ उसे आगे बढ़ने में मिलता है । मां अरुणा चौहान चाहती है कि बेटी स्टडी भी करें और साथ में अपने सपने भी पूरे करें । मानुषी चिल्लर और मीनाक्षी चौधरी को मॉडलिंग के क्षेत्र में अपना आदर्श मानने वाली  कनिका मिस हिमाचल जैसा प्लेटफार्म उपलब्ध करवाने के लिए  दिव्य हिमाचल का धन्यवाद करती है

The post मिस हिमाचल की फाइनलिस्ट के बोल, कास्टिंग काउच जैसा कुछ नहीं होता, मैं इस गलत धारणा को मिटा देना चाहती हूं appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.

Related Stories: