Friday, February 26, 2021 03:57 AM

बिलासपुर को दिलाएंगे नगर निगम का दर्जा, सभी वार्डों का होगा समान विकास, नवनिर्वाचित नगर परिषद अध्यक्ष ने गिनाई प्राथमिकताएं

प्रोफाइल

नाम       :           कमलेंद्र कश्यप

आयु       :           48 वर्ष

पिता       : स्व. चेतन्य मोहन

शिक्षा     :           ग्रेजुएशन

निवासी : बिलासपुर रौड़ा सेक्टर

अश्वनी पंडित — बिलासपुर

समाजसेवा क्षेत्र में सक्रिय नगर निकाय के नवनियुक्त अध्यक्ष कमलेंद्र कश्यप भाखड़ा विस्थापितों के शहर बिलासपुर शहर का एक जाना माना नाम है। यह जिला के पहले एक ऐसे पार्षद हैं, जिन्होंने अब तक कोई भी चुनाव नहीं हारा और अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पदों पर काम करने का अनुभव रहा है। विधायक सुभाष ठाकुर व जिलाध्यक्ष स्वतंत्र सांख्यान के प्रयासों की बदोलत इस बार कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामन थाम लिया और भाजपा समर्थित उम्मीदवार के रूप में तीन नंबर वार्ड से चुनाव में उतरकर जीत का सिक्सर लगाकर अपने नाम एक रिकार्ड भी कायम कर लिया है। विकास के एजेंडे पर आगे बढ़ने का संकल्प लेते हुए वर्ष 2004-05 में राष्ट्रीय युवा पुरस्कार से सम्मानित कमलेंद्र कश्यप ने अपनी प्राथमिकताएं भी तय कर ली हैं।

बुधवार को बातचीत में नगर परिषद बिलासपुर के नवनियुक्त अध्यक्ष कमलेंद्र कश्यप ने बताया कि शहर का विकास करना उनकी मुख्य प्राथमिकता में शामिल है। साथ ही एम्स के बनने से कोठीपुरा तक शहर के फैलाव और एक सिटी बन जाने के चलते बिलासपुर को नगर निगम बनाने के लिए भी संकल्पित हैं, जिसके लिए उन्होंने पिछले दिन दिल्ली रवाना होने से पहले बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से आग्रह किया है, क्योंकि आठ हजार की आबादी वाला पालमपुर जब नगर निगम बन सकता है, तो फिर पंद्रह से बीस हजार आबादी वाला बिलासपुर क्यों नहीं। बिलासपुर मुख्यालय से लेकर कोठीपुरा तक एक शहर बन जाने पर यहां नगर निगम बनना तय है। इस लिहाज से नगर निगम बनाने के लिए हरसंभव प्रयास किए जाएंगे, ताकि शहर का सुनियोजित विकास संभव हो सके। उन्होंने बताया कि हालांकि शहर के विकास को रफ्तार देने के लिए 2006 में बतौर अध्यक्ष बड़े प्रोजेक्टों पर काम शुरू किया था, लेकिन स्टाफ की कमी और प्रशासनिक कमियों की वजह से प्रोजेक्ट सिरे नहीं चढ़ पाए।

 शहर के सभी वार्डों में 33 वाहन पार्किंग निर्माण के लिए योजना तैयार की थी, मगर उस दौरान 20 ही बन पाईं, लेकिन अब अध्यक्ष बनने के बाद इस विकास रथ को गति देंगे। बढ़ते वाहनों के दबाव के चलते सभी वार्डों में वाहन पार्किंग का निर्माण कवाया जाएगा, जिसके लिए योजनावद्ध ढंग से काम करेंगे। पार्कों के सौंदर्यीकरण को लेकर योजना पर काम करेंगे। शहर में स्वच्छता पर पूरा फोकस करेंगे। जहां जरूरत होगी, नए टायलट्स बनाएंगे और खराब हालत वाले टायलट्स को सुधारेंगे। शहर में सामुदायिक परिसर बनाए जाएंगे। कच्ची सड़कों को पक्का किया जाएगा और पूरे शहर को पक्की सड़कों से लैस किया जाएगा। नगर परिषद के विश्रामगृहों की हालत भी सुधारेंगे। रेहड़ी-फड़ी वालों का बसाव किया जाएगा, जिसके लिए केंद्रीय प्रायोजित योजना के तहत काम करेंगे। उन्होंने बताया कि डोर-टू-डोर कूड़ा एकत्रिकरण योजना काफी हद तक सफल रही है और कूड़े के निस्तारण को लेकर भी योजना पर काम करेंगे, ताकि शहर साफ-सुथरा व सुंदर बना रहे। उन्होंने कहा कि विधायक सुभाष ठाकुर के सहयोग से शहर के विकास को गति देंगे।

आज तक कोई भी चुनाव नहीं हारे कश्यप

कांग्रेस पार्टी में जिलाध्यक्ष व प्रदेश सचिव रहे नवनिर्वाचित अध्यक्ष कमलेंद्र कश्यप ने बीजेपी में शामिल होने के बाद चुनाव में बाजी ही पलट डाली। यही वजह रही कि पूर्ण बहुमत के साथ निकाय बिलासपुर में पहली बार बीजेपी का कब्जा हुआ है। पहली बार 1995 में पार्षद बने कश्यप की विजयगाथा का सिलसिला आज दिन तक नहीं रुका। जिस भी वार्ड से चुनाव लड़ा, जीते ही। 2006 में अध्यक्ष रहे और उसके बाद दो बार उपाध्यक्ष रहे हैं।

लक्ष्य

 पार्क, पार्किंग व सामुदायिक परिसरों निर्माण करवाना

 कच्ची सड़कों को पक्का करना, रेहड़ी-फड़ी का बसाव

 शहर को नीट एंड क्लीन रखना प्राथमिकता

 नगर परिषद के विश्राम गृहों की हालत सुधारना