Saturday, October 24, 2020 03:12 AM

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर मिले सुझाव 

प्रशिक्षण संस्थान नाहन में चार दिन तक चली कार्यशाला में शारीरिक दूरी का भी रखा गया ख्याल

जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान नाहन में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 पर 24 से 28 सितंबर तक चली चार दिवसीय कार्यशाला मंगलवार को संपन्न हो गई।  कार्यशाला का शुभारंभ जिला परियोजना अधिकारी ऋषिपाल शर्मा ने 24 सितंबर को किया। इसमें डाइट के सभी प्रवक्ताओं और समग्र शिक्षा अभियान के कर्मचारियों ने शारीरिक दूरी का ध्यान रखते हुए भाग लिया। कार्यशाला के समन्वयक हिमांशु भारद्वाज ने बताया कि इस कार्यशाला में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के 27 अध्यायों को प्रधानाचार्य, सभी प्रवक्ताओं एवं समग्र शिक्षा अभियान के कर्मचारियों को बांटा गया और फिर सभी ने पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन बनाकर अपने अध्याय को सबके सामने कार्यशाला में रखा और उसके पश्चात हर विषय पर समूह चर्चा हुई,

जिसमें शिक्षा नीति को समझने में आसानी हुई और इसके क्रियान्वयन को लेकर अनेक सुझाव सामने आए। कार्यशाला की आवश्यकता और महत्त्व, बहु-भाषावाद और भाषा की शक्ति, राष्ट्रीय शिक्षा नीति का क्रियान्वयन विषयों पर ऋषिपाल शर्मा प्रधानाचार्य, शिक्षा नीति का परिचय एवं पूर्व नीतियों से विभिन्नता पर उपप्रधानाचार्या प्रीति तनवर, राष्ट्रीय शिक्षा नीति के सिद्धांत विषय पर दिनेश गुलाटी प्रवक्ता, प्रारंभिक बाल्यवस्था देखभाल और शिक्षा एवं उच्चतर शिक्षा की नियामक प्रणाली में आमूल चूल परिवर्तन पर फतेह पुंडीर प्रवक्ता, बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान पर राकेश शर्मा, ड्रापआउट बच्चों की संख्या कम करना पर राजेंद्र ठाकुर, स्कूलों में पाठ्यक्रम और शिक्षण शास्त्र और अध्यापक शिक्षा पर ओंकार शर्मा, अनिवार्य विषयों, कौशलों और क्षमताओं का शिक्षा कर्मी एकीकरण, स्कूल शिक्षा के लिए राष्ट्रीय पाठ्यचर्या एवं भारतीय भाषाओं और प्रमाणन पर अर्चना सैणी, गुणवत्तापूर्ण विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय एवं उच्चतर शिक्षण संस्थान पर मीरा ठाकुर, संस्थागत पुनर्गठन और समेकन पर अंजलि चौहान, समग्र और बहू शिक्षा की ओर एवं प्रौढ़ शिक्षा पर काव्या सिन्हा ने, सीखने के लिए सर्वोत्तम वातावरण पर डा. संगीता, व्यवसायिक शिक्षा का नवीन आकल्पन एवं ऑनलाइन डिजीटल शिक्षा पर अश्वनी ठाकुर ने, उच्चतर शिक्षा संस्थानों के लिए प्रभावी प्रशासन और एकीकरण पर संजीव ठाकुर, केंद्रीय शिक्षा सलाहकार बोर्ड का सशक्तिकरण पर वित्त अनुभाग अधिकरी प्रताप पराशर ने अपनी प्रस्तुति दी। कार्यशाला के समापन पर शिक्षा उपनिदेशक  जिला सिरमौर उच्च दया राम भोगल एवं शिक्षा उपनिदेशक प्रारंभिक केसी धीमान मौजूद रहे।

The post नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर मिले सुझाव  appeared first on Divya Himachal.