Sunday, March 07, 2021 05:23 PM

थम गया शोर... हो गए मतदान

कार्यालय संवाददाता — कुल्लू पंचायत लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए जिला कुल्लू के बुजुर्गों ने लाठी, पीठ के सहारे मतदान केंद्र पहुंचकर अपना मतदान किया। पंचायती राज चुनाव के अंतिम चरण में गुरुवार को काफी संख्या में मतदान केंद्र में पहुंचकर अपना मतदान किया। यही नहीं, 100 साल पार कर चुके बुजुर्गों का मतदान काफी आकर्षक रहा। वहीं, मतदान न करने वाले मतदाताओं के भी यह सीख से कम नहीं रहे। सरसेई में 97 सरसेई में 93 साल की टिकमी देवी ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। सैंज के शौहल वार्ड में 98 वर्षीय देवीराम ने मतदान किया। ग्राम पंचायत हुरला में 100 साल की अछरी देवी ने वोट डाले। निरमंड ब्लॉक में बैसाखी के सहारे लाल दास ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। ग्राम पंचायत भुइन में 90 वर्षीय तेजा सिंह ने अपने मदाधिकार का प्रयोग किया। 100 वर्षीय शांति देवी ने हुराल पंचायत में अपने मताधिकार का प्रयोगकर मत का महत्त्व बताया।

ग्राम पंचायत हुरला में 87 वर्षीय गणपत राव और 87 वर्षीय खीमी देवी ने वोट दिए। 90 वर्षीय झाबे राम शर्मा ने भी पंचायती राज चुनाव के लिए अपने मताधिकार का प्रयोग किया। 103 वर्षीय हिमी देवी ने जगतसुख में मतबूत पंचायत संसद बनाने को लेकर अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इसके अलावा युवाओं ने भी पंचायती राज चुनाव के अंतिम चरण में वोट डालने में कोई कसर नहीं छोड़ी। हलाण-दो में भी 100 वर्षीय महिला ने अपना मतदान किया। काफी संख्या में युवा मतदाताओं ने मतदान किया। 19 वर्षीय दिव्य ने पहली बार ग्राम पंचायत हुरला में मतदान किया। आनी की दलाश पंचायत के सोईधार वार्ड में 93 वर्षीय विद्या देवी ने वोट डाला।

कार्यालय संवाददाता — कुल्लू जिला कुल्लू में पंचायती राज चुनाव के अंतिम चरण में कुल 76 पंचायतों में चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुआ। तीसरे चरण का मतदान 83.75 प्रतिशत रहा। बता दें कि जिला कुल्लू में पंचायती राज चुनाव के पहले चरण में 84.20 प्रतिशत मतदान रहा, जबकि दूसरे चरण में यानी बीते सोमवार को हुए पंचायत चुनाव में मतदान की प्रतिशतता कुल 83.13 रही। दूसरे चरण में जिला कुल्लू में कुल मतदाता 99858 थे, जिनमें 83008 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वहीं, तीसरे चरण का चुनाव गुरुवार को हुआ। अंतिम चरण के चुनाव में मतदान की प्रतिशतता 83.75 रही। बता दें कि आनी विकास खंड में कुल 13241, बंजार विकास खंड में 13956, कुल्लू विकास खंड में 26882, नग्गर विकास खंड में 18971 और निरमंड विकास खंड में 12116 मतदाओं अपना मतदान किया। बता दें कि सुबह आठ बजे जिला कुल्लू के पोलिंग बूथों में मतदान की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। ठीक चार बजे मतदान की प्रक्रिया संपन्न हुई। इसके बाद मतगणना की प्रक्रिया शुरू हो गई थी।

बुजुर्गों ने दिखाया दम आनी। पंचायत चुनावों के मद्देनजर विकास खंड आनी में गुरुवार को अंतिम चरण के चुनाव में में युवाओं के साथ बुजुर्गों का भी भारी उत्साह देखने योग्य रहा। दलाश पँचायत के पोलिंग बूथ सोइधार में 95 वर्षीय मतदाता सेफि राम और 93 वर्षीय मतदाता विद्या देवी ने अपना वोट डाला। आनी की लफाली पंचायत के लढागी में 97 वर्षीय चमन लाल, 96 वर्षीय जिया राम तथा पलेही पंचायत के तांदी वार्ड में 96 वर्षीय गरेजू देवी ने मतदान किया। उन्हें मतदान केंद्र तक पीठ पर उठाकर लाया गया।

नकदी और गहनों पर किया था हाथ साफ, पुलिस ने दबोचा शातिर

कार्यालय संवाददाता — कुल्लू

जिला मुख्यालय कुल्लू के साथ सटे रामशिला में एक चोरी की वारदात का मामला सामने आया है। पुलिस ने थाने में शिकायत दर्ज होने के बाद कार्रवाई शुरू कर दी और चोरी की वारदात को अंजाम देने वाले शातिर को दबोच लिया है। एसपी कुल्लू गौरव सिंह ने कहा कि रामशिला के एक शिकायतकर्ता ने पुलिस में दर्ज शिकायत में कहा कि 19 जनवरी की रात को 11 बजे रात खाना खाकर वह सो गया। पत्नी छोटे बच्चे सहित अलग कमरे में सो गई तो समय करीब 12 बजे रात मकान के अंदर हल-चल महसूस की तो थोड़ा अलर्ट होकर देखा तो एक व्यक्ति  दरवाजे के सामने मकान के अंदर खड़ा था। वह व्यक्ति  घर के दरवाजे से बाहर की ओर भागा। शिकायतकर्ता ने कहा कि जब शोर मचाया तो वह व्यक्ति सीढि़यां उतरकर गेमन पुल की तरफ भाग गया।

शिकायतकर्ता के ड्राइंग रूम में रखे काउंटर में 15000 रुपए व एक सोने की चेन रखी हुई थी, जब वहां देखा ता काउंटर में रखे हुए 15000 रुपए व सोने की चेन वहां से गायब पाई गई। सोने की चेन की कीमत करीब 65000 रुपए थी। वहीं, शिकायतकर्ता ने कुल्लू थाने में मामला दर्ज करवाया। पुलिस ने मामले पर तुरंत कार्रवाई करते हुए   चोरी की वारदात करने वाले प्रदीप कुमार निवासी शिलग  जिला मंडी को ट्रेस किया और उसके कमरे से चोरी किए नकदी व सोने की चेन को बरामद किया गया। एसपी ने बताया कि उक्त व्यक्ति के खिलाफ पुलिस ने आईपीसी की धारा 457 और 380 के तहत मामला दर्ज कर लिया।

देवता बंगेश्वर के सम्मान में मनाई जाती है फागुनी, लोगों ने निभाई सदियों से चली आ रही परंपरा

स्टाफ रिपोर्टर — बंजार   

उपमंडल बंजार के चनौन पंचायत के तहत आने वाले गांव मटियाना में ठूहार पर्व का आयोजन हर वर्ष बड़ी धूमधाम से किया जाता है। यह पर्व माघ मास के आठ प्रविष्टे को मनाया जाता है । गौर रहे  कि सराज घाटी में माघ मास में यह फागुनी का पर्व दूसरी बार मनाया जाता है। पहला पर्व थाटीवीड़ में मनाया जाता है और दूसरा मटियाना में उक्त पर्व को देवता बंगेश्वर के सम्मान में बड़ी धूमधाम से आयोजित किया जाता है। कारदार टेक सिंह, प्यार सिंह, कमेटी सदस्य कमली राम, नोक सिंह, रोशन लाल, हरि सिंह, विशन सिंह, सेस राम ने कहा कि यह ठूहार पर्व देवता बंगेश्वर की उपस्थिति में आयोजित किया जाता है।  इस पर्व में विशेष लोग अपने मुख में मुखोटे पहन कर के कार्रवाई का निर्वहन करते हैं और फिर देवता के आज्ञा अनुसार लोग, कारकुन, महिलाएं, बच्चे, बूढ़े एवं भगवान विष्णु का स्वरूप मढियालें विशेष स्थल पर जाकर वहां पर नृत्य करते हैं और नृत्य करते-करते इसी में मोहिनी रूप का मंचन करते हुए बीहठ को भी नचाया जाता है और जो इस बीच के नरगिस फूल को पकड़ता है, उसकी मनोकामना साल भर में पूर्ण होती है। उक्त कारकूनों  का कहना है कि यह परंपरा सैकड़ों वर्षों से चली आ रही है। इस परंपरा का निर्वहन प्रतिवर्ष बड़ी धूमधाम से किया जाता है।

रस्साकशी का खेल बना आकर्षण

अंत में सभी लोग मिलकर के एक रस्साकशी अथवा गूंण  का खेल देवता के आदेश अनुसार किया जाता है और यह खेल बड़ा रोचक खेल होता है। इसमें दोनों तरफ ऊपर नीचे लोग इस रस्साकशी को खींचते हैं और जो अपनी तरफ  ज्यादा इस गूंण को खींचेगा उन लोगों की विजय होती है और फिर देवता की ओर से उन्हें आशीर्वाद दिया जाता है और उसके बाद सभी लोग देवता को अनेक पुरातन वाद्य यंत्रों की थाप पर अपने देवालय में लाया जाता है और रात्रि को यहां पर भजन संध्या तथा अन्य कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है।

कार्यालय संवाददाता — पतलीकूहल

घाटी में नववर्ष का महीना चुनाव की सरगर्मियां लेकर आया और गुरुवार को चुनाव थम गया। अब  शुक्रवार को बीडीसी व जिला परिषद सदस्यों के किसमत का फैसला होगा। पंचायत के पंच से लेकर प्रधान के परिणाम तो उसी दिन निकल जाने से लोगों में नए पंच, उपप्रधान व प्रधान बनने पर पार्टियों का दौर भी रहा, जिससे जनवरी के तीन सप्ताह पंचायती चुनाव के प्रचार के साथ 17, 19 और 21 पंचायत की संसद को बनाने के रहे, लेकिन शुक्रवार को जिला परिषद व ब्लॉक विकास समिति को बनाने में भाजपा व कांग्रेस के प्रत्याशियों के परिणाम भी घोषित हो जाएंगे। इन चुनावों भाजपा व कांग्रेस के क्या समीकरण रहेंगे ।

शुक्रवार को नतीजा सबके सामने होगा। वहीं, पर जिला परिषद के चुनाव जहां पर तिकोना मुकाबला है। वह जिप वार्ड किस तरह से तिकोनी लड़ाई में अपने विजयरथ को हांकने में समर्थ रहते हैं। मतदाताओं का फैसला सामने होगा। हालांकि नगर परिषद के चुनाव में वर्तमान सरकार अपना भगवा फहराने में समर्थ रही है, लेकिन जिप व बीडीसी के प्रत्याशियों के परिणाम के साथ ही पांच साल के लिए पंचायती राज संस्थाओं  यह अध्याय भी बंद हो जाएगा। और अब बीडीसी व जिला परिषद अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के लिए बागी क्या गुल खिलाते हैं शुक्रवार को स्थिति साफ हो जाएगी। बहरहाल तीसरे चरण के चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न हो गए हैं। इसके साथ थी चुनावी शोर अब धीरे-धीरे शांत हो रहा है।