Monday, September 21, 2020 02:23 AM

पौधे रोपने का नाटक

-रूप सिंह नेगी, सोलन

हम हर वर्ष पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधारोपण करते हैं, लेकिन इसके बावजूद जंगल क्षेत्र में कोई खास ज्यादा इजाफा नहीं हो पाता है क्योंकि हम जिन पौधों को रोपते हैं, उनका संरक्षण नहीं कर पाते हैं। इसके कारण सर्वाइवल रेट में भारी कमी से पौधे पेड़ नही बन पाते हैं। दूसरी तरफ  विकास के नाम पर हम हर वर्ष बड़ी संख्या में पेड़ों को उजाडते हैं। अतः हम सब को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि पौधे रोपने के बाद उनकी देखभाल करने की जहमत उठाएं और विकास के नाम पर सड़क व अन्य निर्माण के  मलबे से पेड़-पौधों को दफनाने से परहेज करें। यदि हम पौधों को संरक्षण देने की स्थिति में नहीं हैं तो मेरे विचार में पौधारोपण करने का नाटक करने में कोई औचित्य नहीं रह जाता है।

The post पौधे रोपने का नाटक appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.