Thursday, March 04, 2021 02:44 PM

सबसे बड़ी जिला परिषद के लिए सियासी जोड़-तोड़

जुब्बल में जला चार मंजिला मकान

स्टाफ  रिपोर्टर, रोहड़ू

जुब्बल तहसील के अंतर्गत प्रोंठी गांव में बुधवार शाम चार मंजिला मकान आग की भेंट चढ़ गया। इस भीषण अग्निकांड में 32 कमरे राख हो गए और पचास लाख रुपए से अधिक की संपत्ति के नुकसान का अनुमान है। आग लगने के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल पाया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार यह अग्निकांड बुधवार शाम करीब साढ़े चार बजे हुआ। आगजनी के समय घर पर कोई भी मौजूद नहीं था। स्थानीय लोगों ने घर से धुंआ उठता देखा, तो इसकी सूचना अग्निशमन केंद्र को दी। सूचना मिलने के बाद दमकल वाहन मौके पर पहुंचे तथा राहत कार्य शुरू किया।

स्थानीय लोगों ने भी आग बुझाने में अपना पूरा सहयोग किया। इमारती लकड़ी से बना मकान देखते ही देखते आग की लपटों से घिर गया। मकान में कुल 32 कमरे थे। सभी पूरी तरह से राख हो गए। मकान में यशवंत नेगी पुत्र रोशन लाल नेगी परिवार सहित रहते थे। अग्निशमन केंद्र रोहडू प्रभारी लायक राम शर्मा ने बताया कि आगजनी की घटना में पचास लाख रुपए से अधिक का नुकसान आंका जा रहा है। आग पर काबू पा लिया गया है।

मनाली में आधी रात सुलगा घर, चार परिवार बेघर

निजी संवाददाता, मनाली

उपमंडल मनाली के भनारा गांव में मंगनवार आधरी रात को आग लगने से एक मकान राख हो गया। मकान में चार परिवार रहते थे। नाथू राम पुत्र लछु, घनथु राम पुत्र रामु, कास्तु राम पुत्र जोग राज व दिले राम पुत्र शिवु के परिवारों आग लगने से लगभग 10 लाख का नुकसान हुआ है। मंगलवार आधी रात 12 बजे जैसे ही ग्रामीणों को आग लगने की सूचना मिली, वे घटनास्थल  की ओर भागे, लेकिन देखते ही देखते आग ने पूरे मकान को अपने आगोश में ले लिया।

 सब फायर ऑफिसर प्रेम सिंह ने बताया कि सूचना मिलते ही फायरकर्मी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों की मदद से आग पर काबू पाया, लेकिन तब तक पूरा मकान आग की चपेट में आ गया था। आग से चार परिवारों को लगभग 10 लाख का नुकसान हुआ है, जबकि साथ लगती 25 लाख की संपत्ति को बचा लिया गया है। एसपी कुल्लू गौरव सिंह ने बताया कि आग लगने के कारणों का पता लगाया जा रहा है।

पवन कुमार शर्मा — धर्मशाला     

कांगड़ा जिला परिषद अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के चुनाव से पहले मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर 29 को धर्मशाला आकर जिला परिषद सदस्यों से मुलाकात करेंगे। 54 सदस्यों वाली प्रदेश की सबसे बड़ी जिला परिषद के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के चुनावों को लेकर हर बार खूब गहमागहमी रहती है। कई बार यहां क्रॉस वोट करने के मामले भी सामने आ चुके हैं। ऐसे में अब मंत्री के एकजुटता के पाठ पढ़ाने के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर स्वयं 29 जनवरी को यहां आकर अध्यक्ष व उपाध्यक्ष के नाम पर मुहर लगाएंगे।

कांगड़ा जिला परिषद के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष का चुनाव 30 जनवरी को होगा। इसके लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। सत्ताधारी दल की ओर से वन युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री राकेश पठानिया मोर्चा संभाले हुए शपथ ग्रहण समारोह के समय करीब एक घंटा जिला परिषद हाल के बाहर ही खड़े रहे। जैसे ही जिला परिषद सदस्य बाहर निकले, उन्हें अपने साथ एक निजी होटल में ले गए। वहीं, उनके साथ लंच डिप्लोमेसी कर आगामी प्लान बनाया गया।

इस दौरान भाजपा के कुछ चुनिंदा विधायक ही उनके साथ दिखे। अधिकतर नेता नदारद रहे। भाजपा की बुधवार को शपथ ग्रहण समारोह के बाद हुई बैठक में 32 जिला परिषद सदस्य उपस्थित थे। हालांकि भाजपा 38 का दावा कर रही है। उधर, जिला परिषद शपथ ग्रहण समारोह के समय विपक्षी दल कांग्रेस का एका जबरदस्त दिखा। उनके जिला परिषद सदस्यों को भाजपा सत्ता के बूते अपने साथ न ले जाए, इसके लिए कांग्रेस के तमाम नेता धर्मशाला पहुंचे हुए थे। कांग्रेसी निर्दलीय व अपने विचार के सभी लोगों को साथ लेकर चलने की योजना पर काम कर रहे हैं। ऐसे में भले ही सत्ताधारी दल संख्या में अधिक सदस्य अपने साथ दिखाकर अध्यक्ष-उपाध्यक्ष बनाने का दावा कर रही हो, लेकिन विपक्ष भी आसानी से चुनाव होने देने वाला नहीं है। ऐसे में अब दोनों ओर से अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद पर पार्टी के पार्षद को बिठाने के लिए शपथ ग्रहण समारोह के साथ ही जोड़-तोड़ शुरू हो गया है।

हमीरपुर से आए राजेंद्र राणा

जिला परिषद अध्यक्ष के लिए होने वाले चुनाव पर रणनीति बनाने के लिए कांग्रेस की तरफ से हमीरपुर से राजेंद्र राणा विशेष रूप से यहां पहुंचे हुए थे। इनके अलावा पूर्व मंत्री जीएस बाली, पूर्व सांसद विपल्व ठाकुर, पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा, विधायक पवन काजल, पूर्व सांसद चंद्र कुमार, पूर्व विधायक जगजीवन पाल, जिलाध्यक्ष अजय महाजन और प्रदेश महासचिव केवल पठानिया सहित कांग्रेस के अन्य नेता भी कांग्रेस की रणनीतिक बैठक में मौजूद रहे।

भाजपा में भी घंटों चला मंथन

भाजपा की ओर से राकेश पठानिया कुछ चुनिंदा विधायकों के साथ जिला परिषद अध्यक्ष के लिए तमाम पार्षदों को एकजुट कर अपने साथ ले गए और घंटों मंथन किया। बताया जा रहा है कि 29 जनवरी को राकेश पठानिया तमाम जिला परिषद के सदस्यों की मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के साथ बैठक करवाने वाले हैं। इसके बाद 30 जनवरी को अध्यक्ष व उपाध्यक्ष का चुनाव हो सकता है।