Friday, February 26, 2021 03:28 AM

फ्लाइंग अफसर बने हमीरपुर के प्रशांत शर्मा

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के आचार्य को एजुकेशन आइकॉन अवार्ड-2020 मिलने के बाद मान बड़ा है। यह अवार्ड ब्रांड ऑप्स इंडिया और सक्सेस इंटरनेशनल मैगजीन द्वारा 28 दिसंबर को ऑनलाइन कार्यक्रम द्वारा प्रदान किया गया, जिसे शुक्रवार को विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य सिकंदर कुमार द्वारा डाक्टर चमन लाल बंगा को प्रदान किया गया। आचार्य को यह पुरस्कार शिक्षण पद्धति, उत्कृष्ट संपादन व लेखक और प्रशिक्षण में योगदान के लिए प्रदान किया गया।

अहम यह है कि शिक्षा के क्षेत्र में पूरे देश से 15 लोगों को एजुकेशन आइकॉन अवार्ड 2020 मिला, जिसमे हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय   के सहायक आचार्य डा चमन लाल बंगा ने प्रमुख जगह बनाई। डा. चमन लाल बंगा घियोड़ (रायपुर मैदान ) रामगढ़धार- कुटलैहड़ से संबंध रखते हैं। इन्होंने स्नातक विज्ञान, बीएड शिक्षा और राजनीतिक विज्ञान में स्नातकोत्तर और शिक्षा विषय में विद्यावाचस्पति की उपाधि प्राप्त की है। इन्होंने शिक्षा, राजनीतिक विज्ञान विषय में नेट और जेआरएफ की परीक्षा पास की है।

शिक्षकों के अकादमिक विकास हेतु निर्मित दीक्षा पोर्टल पर मात्र तीन महीने में शिक्षक विजय हीर ने एक हजार कोर्स पूर्ण किए हैं। थोड़े से समय दीक्षा पोर्टल पर एक हजार कोर्स पूरा कर उन्होंने नया कीर्तिमान स्थापित किया है। उन्होंने अपने इस रिकार्ड को गिन्नीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज करवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। एनसीईआरटी और मानव संसाधन मंत्रालय की संयुक्त पहल दीक्षा में हमीरपुर के शिक्षक विजय हीर ने 1000 कोर्स पूरे करने का नया कीर्तिमान आठ भाषाओं में कोर्स पूर्ण करते हुए बनाया है। भारत सरकार के शिक्षा क्षेत्र में सर्वोच्च डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर फॉर नॉलेज शेयरिंग पोर्टल को ही दीक्षा प्रोजेक्ट का नाम दिया गया है, जिसमें शिक्षकों के  लिए विविध प्रशिक्षण कोर्स देश के विभिन्न राज्यों, विभिन्न शिक्षा बोर्डों ने डाले हैं।

 इस पोर्टल पर मौजूद कुल 1100 कोर्स में से 1000 से अधिक कोर्स देश की आठ भाषाओं में लॉकडाउन के बाद करने का रिकार्ड बनाकर हीर ने प्रदेश का नाम चमकाया है। यह उपलब्धि अकादमिक क्षेत्र में बड़ा महत्त्व रखती है। हमीरपुर जिला के चकमोह निवासी विजय हीर इस समय राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला घंगोट जिला हमीरपुर में बतौर टीजीटी कला कार्यरत हैं और हिमाचल प्रदेश प्रशिक्षित कला स्नातक संघ हमीरपुर के अध्यक्ष हैं।

27 को भारतीय वायुसेना एकेडमी हैदराबाद में ड्यूटी ज्वाइन करेगा भोरंज का होनहार

भोरंज उपमंडल के गांव मन्वी के प्रशांत शर्मा पुत्र राजकुमार शर्मा द्वारा भारतीय वायुसेना में फ्लांइग ऑफिसर के पद पर नौकरी लेने से घर और गांव में खुशी का माहौल है। प्रशांत ने पहली बार ही टेस्ट ऑल इंडिया लेवल पर क्वालिफाई कर यह मुकाम हासिल किया। प्रशांत शर्मा की पूरी पढ़ाई दिल्ली में हुई है। प्रशांत शर्मा ने वीटेक मेकेनिकल इंजीनियरिंग दिल्ली से की है। उसके बाद उसने अपने दादा स्व. बेसरी लाल शर्मा के सपने को पूरा करने की मन में ठान ली।

 प्रशांत शर्मा ने बताया कि मेरे दादा का सपना था कि मैं सेना में जाकर देश की सेवा करूं। मैंने अपने दादा का सपना तो पूरा कर लिया है, परंतु दुख इस बात का कि दादा इस दुनिया में नहीं हैं। वहीं, दादी सावित्री देवी को अपने पौते की सफलता पर बहुत नाज है। प्रशांत शर्मा के पिता राजकुमार शर्मा व माता रीनू ने बेटे की इस उपलब्धि पर फूले नहीं समा रहे। उन्होंने बताया कि प्रशांत शर्मा 27 जनवरी को भारतीय वायुसेना एकेडमी हैदराबाद में ड्यूटी ज्वाइन करेगा।