Friday, September 24, 2021 05:06 AM

पांवटा में कमीशन मांगने पर प्रधानाचार्य व अध्यापक सस्पेंड, क्या है मामला, जानें

 स्मार्ट क्लास के नाम पर एजेंट से मांगी थी 20 प्रतिशत की कमीशन

धीरज चोपड़ा — पांवटा साहिब

पांवटा साहिब के तारूवाला में कथित तौर पर 20 प्रतिशत कमीशन मांगने वाले प्रधानाचार्य व अध्यापक को शिक्षा मंत्री द्वारा सस्पेंड करने के आदेश दिए गए हैं। जानकारी के मुताबिक तारूवाला वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में एक अध्यापक द्वारा स्मार्ट क्लास के नाम पर एजेंट से लाखों रुपए कमीशन मांगी थी। उन दोनों की बातों का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। ऑडियो में स्मार्ट क्लास के नाम पर आठ लाख के कम्प्यूटर खरीदे गए थे, जिसमें 1.60 लाख कमीशन मांगी जा रही थी। इस ऑडियो पर शिक्षा मंत्री ने संज्ञान लेते हुए ऑडियो और संलिप्त अध्यापक का तथा प्रधानाचार्य के नाम मांगे थे। शिक्षा मंत्री हिमाचल प्रदेश गोविंद ठाकुर ने घूसखोरी पर जीरो टोलरेंस बरतते हुए संलिप्त अध्यापक व प्रधानाचार्य को सस्पेंड करने के आदेश दिए हैं। बता दें कि पांवटा साहिब के तारूवाला सहित जिला सिरमौर में कई स्कूलों में स्मार्ट क्लास बच्चों के लिए बनाई जा रही हैं।

 तारूवाला में एक युवा और नए बिजनेस में उतरे कम्प्यूटर विक्रेता से आठ लाख के कम्प्यूटर तीन महीने पहले खरीदे गए। इस खरीद-फरोख्त में कम्प्यूटर विक्रेता से 20 प्रतिशत यानी तकरीबन 1.60 लाख की डिमांड की गई। सिर्फ इतना ही नहीं, इस युवक को कम्प्यूटर इंस्टॉल भी करने नहीं दिए जा रहे थे। इस ऑडियो में तारूवाला सीनियर सेकेंडरी स्कूल के एक टीचर अपने साहब (प्रधानाचार्य) के नाराज होने की बात भी कर रहे हैं और यह भी कह रहा है कि कमीशन दो, कम्प्यूटर इंस्टॉल करो और साहब तुरंत आपकी पेमेंट रिलीज कर देंगे। दरअसल, स्मार्ट क्लास बनाने के लिए जिला सिरमौर के सीनियर सेकेंडरी स्कूल में सरकार द्वारा 40-40 लाख रुपए आबंटित किए गए थे, जिसमें अन्य कई स्कूलों में भी इस तरह की धांधली है, इस ऑडियो में बताई गई है। इस पर शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने संज्ञान लेते हुए प्रधानाचार्य और अध्यापक को सस्पेंड करने के आदेश दिए हैं। उधर, इस बारे में उपनिदेशक उच्च शिक्षा जिला सिरमौर कर्म चंद ने बताया कि शिक्षा मंत्री के आदेश पर अध्यापक को सस्पेंड कर सोलन अटैच किया है और प्रधानाचार्य को सस्पेंड कर शिमला अटैच कर दिया गया है। (एचडीएम)