Tuesday, April 13, 2021 10:57 AM

पांच से तीन साल की जाए पदोन्नति सीमा

दिव्य हिमाचल ब्यूरो—मंडी

पूर्व मंत्री एवं जिला कांग्र्रेस अध्यक्ष प्रकाश चौधरी ने कहा है कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर बल्ह के लोगों को उजाड़ने का हठ पाल बैठे हैं। कांग्रेस हवाई अड्डे के खिलाफ नहीं है। इसे सरकार बेशक जरूर बनाए, लेकिन बल्ह के गांवों को उजाड़ कर और सैकड़ों परिवारोें को विस्थापित कर ही हवाई अड्डा बनाना सही नहीं है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जनता को बताएं कि हवाई अड्डे की वजह से जो गांव उजड़ जाएंगे और सैकड़ों परिवारों को विस्थापन का दंश झेलना पडे़गा, सरकार उन्हें कहां बसाएगी। क्या मुख्यमंत्री इन सब लोगों को सराज ले जाएंगे। मंडी में पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में उन्होंने कहा कि जिला में हवाई अड्डे के लिए और भी जगह पर्याप्त भूमि है, लेकिन मुख्यमंत्री बल्ह की उपजाऊ भूमि पर ही अड्डा बनाना चाहते हैं, जो कि लोगों की समझ से परे है। गोघड़धार, नेरढांगू के अलावा जाहू के पास भी हवाई अड्डा बनाया जा सकता है। जहां ज्यादातर सरकारी भूमि ही एयरपोर्ट की जद में आएगी।

कांग्रेस ने लिए आवेदन, भाजपा सर्वे को बनाएगी आधार

जयदीप रिहान—पालमपुर

नवगठित पालमपुर नगर निगम में चुनावी बिसात बिछ गई है। चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने की तैयारी है। ऐसे में दोनों प्रमुख दल कांग्रेस और भाजपा के लिए पहले चुनाव में बड़ी जीत निश्चित करना प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया है। पालमपुर नगर परिषद में ज्यादातर कांग्रेस का ही वर्चस्व रहा है और नगर निगम के चुनावों में भी कांग्रेस अपना यह रिकार्ड बरकरार रखना चाहेगी। भाजपा सरकार ने करीब दो दशकों से चली आ रही लोगों की नगर निगम की मांग पूरी की है, ऐसे में भाजपा इस मुद्दे को भुनाने की तैयारी में है। दोनों दलों ने उम्मीदवारों के चयन के लिए आला नेताओं की टीमें तैयार कर दी हैं और टिकट के आबंटन के लिए कांग्रेस और भाजपा अलग-अलग प्रक्रिया अपना रही है। कांग्रेस ने बाकायदा चुनाव लड़ने के इच्छुक लोगों ने आवेदन मांगे और करीब छह दर्जन दावेदार सामने आए हैं।

 इन सभी दावेदारों से कांग्रेस के आला नेताओं ने बात भी की है और जल्द ही पार्टी उम्मीदवारों के नाम सामने आने की संभावना है। भाजपा ने प्रत्याशियों के चयन के लिए सर्वे को आधार बनाया है। जीताऊ उम्मीदवार की तलाश में भाजपा अब तक दो सर्वे करवा चुकी है और तीसरे सर्वे के बाद नाम फाइनल किए जाने की उम्मीद है। ऐसे में अब दोनों दलों के दावेदारों की नजरें टिकट आबंटन को तैनात टीमों पर टिक गई हैं। यह देखना भी रोचक होगा कि पार्टी टिकट न मिलने पर अन्य दावेदार क्या रुख अपनाते हैं। दोनों दलों में करीब-करीब हर वार्ड में टिकट के चाहवानों की संख्या दो से अधिक है। आरक्षण के चलते कुछ लोग साथ लगते वार्डों से भी उतरने की तैयारी कर रहे हैं।

अमन अग्निहोत्री—मंडी

नगर निगम मंडी के चुनाव की तैयारियों में जुटी कांग्रेस मार्च के पहले या दूसरे हफ्ते में शक्ति प्रदर्शन करेगी। यही नहीं, कांग्रेस अपने उम्मीदवार तय करने से पहले वार्डबाइज पर्यवेक्षक भी भेजेगी। पर्यवेक्षक जनता की नब्ज टटोल कर संभावित जिताऊ प्रत्याशियों की रिपोर्ट तैयार करेंगे और उसके बाद कांग्रेस टिकट फाइनल करेगी। नगर निगम चुनावों को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं में जोश पैदा करने और प्रदेश सरकार व भाजपा से टक्कर लेने के लिए कांग्रेस ने भी एक बड़ी बैठक व रैली करने का निर्णय लिया है। रैली में कांग्रेस टिकट के चाहवानों को भी अपना दमखम दिखाना होगा। रैली के बाद ही कांग्रेस अपने उम्मीदवारों की घोषणा करेगी। हालांकि इस बात के कयास लगाए जा रहे थे कि कांग्रेस अपने उम्मीदवारों की घोषणा भाजपा से पहले कर सकती है, लेकिन भाजपा व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा नगर निगम चुनाव को लेकर अपनाई गई रणनीति को देखते हुए कांग्रेस ने भी अब नीति बदल दी है।

मंडी नगर निगम के 15 वार्डों से कांग्रेस टिकट के लिए अब तक 50 से अधिक आवेदन आ चुके हैं। गुरुवार को नगर निगम मंडी के चुनावों के संबंध में एक बैठक का आयोजन चुनाव प्रभारी जीएस बाली की अध्यक्षता में किया गया। बैठक में नगर निगम चुनावों को लेकर लंबी चर्चा की गई। बैठक में पूर्व मंत्री प्रकाश चौधरी, विधायक सुंदर ठाकुर, विधायक विक्रमादित्य सिंह और विनोद सुलतानपुरी भी उपस्थित रहे। बैठक के बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री जीएस बाली ने कहा कि कांग्रेस पूरी ताकत के साथ नगर निगम चुनाव लड़ने जा रही है। कांग्रेस जीतने वाले और पार्टी के प्रति वफादार प्रत्याशियों को ही चुनाव मैदान में उतारेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस निगम चुनावों के लिए अपना विजन डाक्यूमेंट भी जारी करेगी। इस अवसर पर कांग्रेस प्रदेश सचिव चेतराम, ओम प्रकाश ठाकुर, प्रदेश प्रवक्ता आकाश शर्मा, नगर परिषद के पूर्व अध्यक्ष पुष्पराम शर्मा, पूर्व जिप अध्यक्ष चंपा ठाकुर, संजीव गुलेरिया, कांग्रेस जिला प्रवक्ता योगेश सैणी और शहरी कांग्रेस अध्यक्ष अनिल सेन सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

छोटे से चुनाव में नहीं पडे़गी वीरभद्र की जरूरत

निगम चुनाव के प्रचार में पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के भी उतरने को लेकर एक सवाल के जवाब में जीएस बाली ने कहा कि इस छोटे से चुनाव में कांग्रेस अपने इतने बडे़ नेता को नहीं उतारेगी। उनका आशीर्वाद वहीं से लिया जाएगा, लेकिन फिर भी अगर जरूरत पड़ी, तो वह कांग्रेस प्रत्याशियों की जीत के लिए आएंगे।

परियोजना के डिजाइन-प्लानिंग पर काम शुरू, सात जिलों में कवर होंगे 4200 हेक्टेयर

अश्वनी पंडित—बिलासपुर

एचपी शिवा (हिमाचल प्रदेश उपोषण बागबानी सिंचाई एवं मूल्य संवर्धन) परियोजना के तहत चिन्हित सात जिलों में 100 मिलियन डॉलर खर्च किए जाएंगे। एडीबी द्वारा वित्त पोषित परियोजना के तहत इस वित्त वर्ष में 4200 हेक्टेयर एरिया कवर कर प्लांटेशन करने का लक्ष्य तय किया गया है। प्रोजेक्ट की डिजाइनिंग और प्लानिंग का कार्य भी शुरू हो गया है। बागबानी व जलशक्ति विभागों की संयुक्त टीमों ने सात जिलों में 350 क्लस्टर चिन्हित किए हैं। एडीबी की ओर से डिजाइन व प्लानिंग की अप्रूवल के बाद अगली कार्ययोजना को अंतिम रूप दिया जाएगा। बागबानी निदेशालय शिमला में कार्यरत परियोजना के डिप्टी प्रोजेक्ट डायरेक्टर डा. देवेंद्र ठाकुर ने खबर की पुष्टि की है।

उन्होंने बताया कि पायलटबेस पर यह परियोजना सबसे पहले प्रदेश के चार जिलों बिलासपुर, मंडी, कांगड़ा व हमीरपुर के दस ब्लॉकों में शुरू की गई और इन चार जिलों में 17 क्लस्टर बनाए गए तथा 170 हेक्टेयर एरिया कवर करने का लक्ष्य तय किया गया, जिसके तहत अभी तक 110 हेक्टेयर एरिया कवर किया जा चुका है, जबकि शेष 60 हेक्टेयर एरिया को कवर करने के लिए अभी प्लांटेशन का कार्य चल रहा है। मार्च माह के अंत तक प्लांटेशन का यह कार्य पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अब तीन जिले और इस परियोजना में शामिल किए गए हैं जिनमें ऊना, सिरमौर व सोलन शुमार हैं। इन तीन जिलों के पांच ब्लॉक कवर किए जाएंगे। इनमें ऊना का एक, जबकि सिरमौर व सोलन के दो-दो ब्लॉक कवर होंगे। परियोजना के तहत संतरा, लीची, मौसम्मी, अमरूद व अनार का रोपण किया जा रहा है। जहां फल उत्पादन कम होता है, ऐसे क्षेत्रों को प्राथमिकता दी गई है। इसके अतिरिक्त ऐसे स्थान भी चयनित किए गए हैं, जहां जंगली जानवरों के बढ़ते प्रभाव से किसान बागबानों ने खेतीबाड़ी व बागबानी से किनारा कर लिया है।

छह फुट ऊंची कटीली तार लगेगी

प्रोजेक्ट के तहत पशुओं से फसलों को बचाने के लिए धरातल से छह फुट ऊंची कंटीली तारें लगाने के साथ ही इनके ऊपर सोलर फैंसिंग की जाएगी। बागबानों को सिंचाई सुविधा के लिए चैकडैम इत्यादि तैयार करवाए जाएंगे। जहां-जहां जलशक्ति विभाग की स्कीमें हैं, उनका भी प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

टीम—शिमला, धर्मशाला

नगर निगम शिमला बाहरी राज्यों से राजधानी में प्रवेश करने वालों वाहनों पर ग्रीन फीस वसूल करेगा। इस व्यवस्था के शुरू होने के बाद अब वाहरी राज्यों से शिमला आने वाले सैलानियों को प्रवेश से पहले ग्रीन टैक्स चुकाना होगा। गुरुवार को नगर निगम शिमला और धर्मशाला का वार्षिक बजट  पेश किया गया। शहर की शराब दुकानों में बिकने वाली लिकर की बोतलों पर भी सेस बढ़ाकर पांच रुपए कर दिया है।

इसी तरह विद्युत सेस 10 पैसे प्रति यूनिट से बढ़ाकर 20 पैसे प्रति यूनिट कर दिया है। उधर, नगर निगम धर्मशाला का गुरुवार को पांचवा व अंतिम वार्षिक बजट 149.32 करोड़ रुपए प्रस्तुत किया गया। एमसी का अंतिम बजट चुनावी समर में ठंडक देने वाले पंखे की तरह रखा गया है, जिसमें न कोई टैक्स व सेस और न ही किसी भी प्रकार के शुल्क को बढ़ाया गया है। महापौर देवेंद्र जग्गी ने बजट प्रस्तुत किया। इस मौके पर उपमहापौर ओंकार नहेरिया, आयुक्त प्रदीप ठाकुर, एडिशनल आयुक्त डा. मधु चौधरी सहित सभी पार्षद विशेष रूप से मौजूद रहे।

सिटी रिपोर्टर - शिमला

पेस्ट्री में नशीली दवाई खिलाकर रिश्तेदार नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म किया है। पीडि़ता का आरोप है कि अरसे से अश्लील वीडियो बनाकर आरोपी उसे ब्लैकमेल करता आ रहा था। राजधानी शिमला में यह मामला सामने आया है। आरोप है कि  डेढ़ साल पहले उसी के परिवार का एक लड़का उसे अपने रूम ले गया। इस दौरान उसने उसे खाने में पेस्ट्री दी। उसमें नशीली दवाई भी मिलाई। उसके बाद वह बेहोश हो गई और आरोपी लड़के ने वीडियो व फोटोग्राफी की। नाबालिग ने आरोप लगाया कि अश्लील फोटो व वीडियो से वह उसे ब्लैकमेल करता था। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर दिया है।

वहीं, 164 के तहत नाबालिग के ब्यान दर्ज किए। पुलिस ने गुरुवार को मामला दर्ज कर दिया और आरोपी के खिलाफ धारा 376 व पोक्सो 4, 6 के तहत मामला दर्ज किया है। इसके अलावा आईटी एक्ट 67 के तहत भी मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने नाबालिग लड़की की अश्लील वीडियो बनाने को लेकर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर दिया है। फिलहाल पुलिस ने आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। लड़की की उम्र 17 साल है, वहीं आरोपी 22 वर्षीय है।

खेमराज शर्मा - शिमला

पड़ोसी राज्य पंजाब में संक्रमण के मामलों के बढ़ने के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। स्वास्थ्य विभाग लगातार मामलों पर नजर बनाए हुए है। अगर हिमाचल में कोविड के मामले बढ़ते हैं, तो आने वाले समय में स्वास्थ्य विभाग अपनी रणनीति तैयार कर सकता है। फिलहाल अभी लोगों से ही आह्वान किया जा रहा है कि वे सतर्कता बरतें, मास्क, सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें।  गौर हो कि पंजाब में रोजाना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। 21 फरवरी को 348, 22 को 389, 23 को 426, 24 फरवरी को पंजाब में 566 कोरोना संक्रमण के मामले आए हैं। लगातार कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर है।

 शिमला जिला में भी संक्रमण की रोकथाम को लेकर बैठक हुई। हिमाचल में पंजाब राज्य से काफी संख्या में टूरिस्ट आते हैं। ऐसे में यहां पर संक्रमण के फैलने का ज्यादा खतरा होता है। अब स्वास्थ्य विभाग मामलों पर नजर रखे हुए हैं। हालांकि स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि ये आंकड़े ज्यादा नहीं हैं, लेकिन फिर भी ढील बरतने की जरूरत नहीं है, क्योंकि ये मामले बढ़ सकते हैं।

पांच दिन से कोरोना से कोई मौत नहीं

शिमला। राज्य में कोरोना संक्रमण के तीन नए मामले सामने आए हैं, जबकि 27 लोग इससे ठीक भी हुए हैं। राज्य में संक्रमित एक्टिव मरीजों की संख्या 205 हो गई है। पिछले पांच दिनों से हिमाचल में किसी भी संक्रमित व्यक्ति की मौत नहीं हुई है, जो कि राज्य के लिए अच्छी खबर है, लेकिन बावजूद इसके अभी भी स्वास्थ्य विभाग लोगों से एहतियात बरतने की अपील कर रहा है।

भोटा स्कूल के चार कर्मचारी पॉजिटिव

भोटा। जमा दो स्कूल भोटा में दो टीचर्स सहित चार कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव निकले हैं। गुरुवार को स्वास्थ्य महकमे की टीम ने स्कूल परिसर में पहुंचकर स्टाफ के कोविड टेस्ट लिए। रैपिड एंटीजन टेस्ट में स्कूल की दो अध्यापिकाएं कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं। इसके साथ ही एक मिड-डे मील वर्कर तथा एक स्टाफ कर्मचारी भी पॉजिटिव पाया गया है।

निजी संवाददाता - घनारी

उपमंडल गगरेट के अंतर्गत आने वाले एक गांव की गर्भवती महिला के बच्चे की प्रसव के चंद घंटे बाद मौत हो गई। महिला के परिजनों का आरोप है कि उपमंडल गगरेट के एक सरकारी संस्थान के एक डाक्टर की लापरवाही के चलते नवजात की जान चली गई, क्योंकि डाक्टर ने प्रसव होने तक उन्हें बताया ही नहीं कि महिला गर्भवती है और यूटेरस में इन्फेक्शन बता कर उपचार करता रहा। पीडि़त परिवार ने इसकी लिखित शिकायत एसएमओ से करने के साथ मुख्यमंत्री सेवा संकल्प पर की है।

उपमंडल गगरेट के एक गांव के इंद्रजीत सिंह ने आरोप लगाया कि कुछ दिन पहले उनकी पत्नी की अचानक तबीयत खराब हुई। जांच के बाद डाक्टर ने उसके पेट में इन्फेक्शन होने की बात कही। बुधवार शाम अचानक उनकी पत्नी के पेट में तेज दर्द हुआ। वे फिर से उसे सरकारी अस्पताल ले आए। जांच के दौरान वहां मौजूद नर्स ने बताया कि उनकी पत्नी तो गर्भवती है। ऊना क्षेत्रीय अस्पताल में उनकी पत्नी ने एक बच्चे को जन्म दिया, जिसकी कुछ घंटे बाद मौत हो गई। इस मामले में एसएमओ ने बताया कि उन्हें महिला के परिजनों द्वारा शिकायत सौंपी गई है। इस पर जांच की जाएगी व आरोप साबित होने पर उचित करवाई की जाएगी।

सुंदरनगर। राज्य स्तरीय चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी संघ शिक्षा विभाग हिमाचल प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष भीम सिंह ठाकुर ने कहा कि चतुर्थ श्रेणी वन टाइम रिलेक्सेशन के बारे में सरकार को बार-बार ज्ञापन दे चुके हैं। साथ ही प्रयोगशाला परिचालक पद के लिए जो समय सीमा पदोन्नति की पांच वर्ष है, उसे वन टाइम रिलेक्सेशन देकर तीन वर्ष किया जाए। प्रदेश में लगभग 2000 से अधिक पद प्रयोगशाला परिचालक पद के खाली चले हुए हैं, लेकिन अभी तक कोई भी कार्रवाई इस दिशा में नहीं हुई है।

 इसके चलते चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी वर्ग में सरकार और शिक्षा विभाग के ढुलमुल रवैये के प्रति गहरा रोष व्याप्त है। श्री ठाकुर ने मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री और विभाग के आला अधिकारियों को चेताया है कि अगर शीघ्र ही संघ की लंबित मांगों के ऊपर तत्काल प्रभाव से कार्रवाई करें।