Friday, September 24, 2021 05:23 AM

जर्जर भवन में रिवालसर विद्युत कार्यालय

अपना भवन तैयार, फिर भी किराए के कमरे में चलाया जा रहा काम; बारिश में टपकती है छत, लाखों के उपकरणों को हो रहा नुकसान

निजी संवाददाता-रिवालसर रिवालसर क्षेत्र के करीब दस हजार विद्युत उपभोक्ताओं के लिए विद्युत व्यवस्था का काम-काज संभाल रहा रिवालसर स्थित विद्युत उपमंडल कार्यालय भवन दयनीय हालत में है। हल्की सी बरसात में भी भवन की छत से पानी टपकता है, जिससे कार्यालय में रखे लाखों रुपए के कम्प्यूटर आदि अन्य विद्युत उपकरण व सरकारी कागजातों की फाइलें खराब हो रही है। उन्हें सुरक्षित रखने के लिए कर्मचारियों को दफ़्तर का कामकाज छोड़ कर उन्हें पॉलीथिन आदि से ढकने में अपना कीमती वक्त जाया करना पड़ता है। कभी-कभी तो स्टाफ के लोगों को कार्यालय के अंदर अपने आप को भीगने से बचाने के लिए सिर पर छाता ओढऩे की नोबत आ जाती है। हैरानी की बात तो यह है कि विभाग के उच्च अधिकारी यह सब देख आंख मूंदे हुए हैं तथा किराए के इस जर्जर भवन में जैसे-तैसे अपना कामकाज घसीट रहे हैं, जबकि करोड़ों की राशि खर्च कर विद्युत बोर्ड का अपना कार्यालय भवन रिवालसर में गत महीनों से बनकर तैयार पड़ा हुआ है।

वहीं राजनीतिक जानकारों का कहना है कि नेताओं की उद्घाटन सबंधी औपचारिकताओं की आपसी खींचतान के चलते नवनिर्मित भवन में काम-काज शिफ्ट होने में देरी हो रही है। नगर पंचायत अध्यक्ष रीता देवी व उपाध्यक्ष कश्मीर सिंह यादव, पार्षद कमल प्रकाश व शोभना शर्मा सहित अन्य पार्षदों व क्षेत्र के आम लोगों ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर तथा बल्ह के विधायक इंद्र सिंह गांधी से अपील की है कि मौजूदा हालात में जर्जर हो चुके भवन में कार्यालय का कामकाज चलना ठीक नहीं है। यहां न ही स्टाफ को बैठने की सुविधा है और न ही उपभोक्ताओं को इसलिए जल्द से जल्द नवनिर्मित कार्यालय भवन में कामकाज शिफ्ट करने को लेकर जरूरी कदम उठाने के लिए अधिकारियों को दिशानिर्देश जारी करें।