रिसर्च के लिए इन स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप देगी सरकार, कहां भरे जाएंगे पद, जानें

हमीरपुर-प्रदेश सरकार ने तकनीकी विश्वविद्यालय के लिए 10 करोड़ का बजट रखा है। यहां ढांचागत विकास, नए पदों के सृजन और अन्य सुविधाओं के लिए भी सरकार जल्द निर्णय लेगी। यह बात तकनीकी शिक्षा, सूचना प्रौद्योगिकी और जनजातीय विकास मंत्री डा. रामलाल मारकंडा ने शनिवार को हिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय के परिसर में कही। उन्होंने यहां अत्याधुनिक वैब स्टूडियो और डाटा सेंटर का उद्घाटन किया।

इस अवसर पर डॉ. मारकंडा ने कहा कि अत्याधुनिक वैब स्टूडियो और डाटा सेंटर आधुनिक एवं ऑनलाइन शिक्षा तथा डाटा कलेक्शन में एक मील का पत्थर साबित होगा। वैब स्टूडियो को रेडियो से भी जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि विवि के लिए जमीन हस्तांतरण प्रक्त्रिया को प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जा रहा है। यहां आवासीय भवनों तथा जनजातीय छात्रावास के निर्माण की प्रक्त्रिया भी अगले सत्र से शुरू कर दी जाएगी। पीएचडी और कंप्यूटर साइंस में बीटैक के अलावा यहां स्किल सेंटर भी स्थापित किया जाएगा।

उन्होंने विद्यार्थियों और शिक्षकों से रिसर्च कार्यों के लिए आगे आने की अपील करते हुए तकनीकी शिक्षा मंत्री ने कहा कि अनुसंधान एवं नए आइडियाज के लिए तकनीकी विवि विद्यार्थियों को 50-50 हजार रुपए और शिक्षकों को 3-3 लाख रुपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि तकनीकी विवि का नाम तकनीकी के साथ कौशल करने का प्रस्ताव मिला है, जिसे अगली मंत्रिमंडल की बैठक में स्वीकृति के लिए रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि तकनीकी विवि वर्ष 2021 में 21 कामों पर काम करेगा, जिसमें छात्रावास, अधिकारी एवं कर्मचारी आवास, सभागार, स्टाफ की भर्ती, नए कोर्स शुरू करना, तकनीकी विवि परिसर में पीएचडी शुरू करना आदि मुख्य रूप से शामिल है।

न्यूज लेटर और रिसर्च जर्नल्स का विमोचन

समारोह में तकनीकी शिक्षा मंत्री ने तकनीकी विवि के न्यूज लेटर के दूसरे खंड और रिसर्च जर्नल्स का विमोचन किया। उन्होंने तकनीकी विवि की इस पहल की सराहना की। उन्होंने कहा कि जब तक विश्वविद्यालय में शोध कार्य नहीं होंगे, तब तक विश्वविद्यालय को विश्वविद्यालय कहना उचित नहीं होता।

एचपीटीयू के चार कर्मचारी सम्मानित

तकनीकी शिक्षा मंत्री ने विश्वविद्यालय के चार कर्मचारियों को उत्कृष्ठ कार्य करने के लिए स मानित किया। स मानित होने वाले कर्मचारियों में तकनीकी विवि के कुलपति कार्यालय के निजी सचिव अनिल ठाकुर, शैक्षणिक शाखा के लिपिक पंकज कुमार, गोपनीय शाखा के विवेक नड्डा और प्रशासनिक शाखा की हिमाचली देवी शामिल है। इन कर्मचारियों को प्रशस्ति पत्र देकर स मानित किया गया।

दूरदराज क्षेत्रों में पहुंचाई जाएगी तकनीकी शिक्षा

डा. मारकंडा ने कहा कि तकनीकी एवं वोकेशनल शिक्षा को प्रदेश के दूरदराज के क्षेत्रों तक पहुंचाया जाएगा। इसी कड़ी में लाहौल-स्पिति में तकनीकी विवि के ऑफ कैंपस कोर्स आरंभ किए गए हैं।  डॉ. मारकंडा ने कहा कि तकनीकी शिक्षण संस्थानों से निकले विद्यार्थी मु यमंत्री स्वावलंबन योजना, स्टार्टअप और स्टैंड अप इंडिया जैसी योजनाओं के माध्यम से स्वरोजगार के साधन विकसित कर सकते हैं। इससे वे अपना कारोबार शुरू करने के साथ-साथ कई अन्य लोगों को भी रोजगार दे सकते हैं।

कोरोना के चलते इस बार प्रमोट किए जाएंगे छात्र

तकनीकी शिक्षा मंत्री डॉ राम लाल मार्कंडा ने कहा कि हिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर और संबंधित कॉलेजों के इंजीनियरिंग, बी-फार्मेसी, एमबीए, एमबीए सहित सभी विषयों के छात्रों को कोविड-19 के चलते अगले सत्र में प्रमोट किया जाएगा। उन्होंने कहा कि छात्रों को प्रमोट करने की व्यवस्था सिर्फ इस वर्ष कोरोना महामारी को देखते हुए ही एक बार के लिए की गई है।

छात्रों की करियर काउंसिलिंग करेगा विभाग

तकनीकी शिक्षा मंत्री डा. राम लाल मारकंडा ने कहा कि आने वाले समय में तकनीकी शिक्षा विभाग हिमाचल में करियर काउंसलिंग पर काम करेगा। तकनीकी शिक्षा से जुड़े सभी शिक्षण संस्थानों आसपास के गांव के स्कूल में जाकर छात्रों की काउंसलिंग करेंगे, ताकि छात्रों को तकनीकी और वोकेशनल शिक्षा की ओर रूझान बढ़ सकें। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्त्रियान्वयन में हिमाचल देश का पहला राज्य होगा।

तकनीकी विवि के नाम जल्द होगी भूमिः नरेंद्र

हमीरपुर के विधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा कि पिछले ढाई साल में तकनीकी विवि वास्तविक में एक विश्वविद्यालय के रूप में दिखाई दे रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान कुलपति के प्रयासों से प्रशासनिक और शैक्षणिक खंड का निर्माण कार्य हो पाया है। उन्होंने कहा कि  तकनीकी विवि को जो वन भूमि आबंटित हुई थी, उसके स्थान पर दूसरी जमीन देख ली, जो जल्द ही तकनीकी विवि के नाम कर दी जाएगी।

जल्द गठित होगी 25 सदस्यीय कमेटीः प्रो बंसल

तकनीकी विवि के कुलपति प्रो. एसपी बंसल ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को लागू करने के लिए विश्वविद्यालय ने 25 सदस्यीय कमेटी के गठित की प्रक्त्रिया शुरू कर दी है। जल्द की कमेटी का गठन कर राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन की प्रक्रिया तकनीकी विवि शुरू करेगा। उन्होंने कहा कि पिछले ढाई साल के कार्यकाल में तकनीकी विवि को संपूर्ण विश्वविद्यालय के रूप में विकसित करने की दिशा में हर संभव प्रयास किए हैं। अब तकनीकी विवि परिसर में भी कक्षाएं शुरू हुई है। आने वाले समय में नए कोर्स सहित पीएचडी अध्ययन कार्यक्त्रम भी तकनीकी विवि परिसर में शुरू किए जाएंगे।

The post रिसर्च के लिए इन स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप देगी सरकार, कहां भरे जाएंगे पद, जानें appeared first on Divya Himachal.

Related Stories: