Sunday, July 25, 2021 08:51 AM

पर्यटकों से गुलजार हुआ रोहतांग दर्रा

कभी भी दे सकता है धोखा; प्रशासन ने तैयारी करने को कहा, सियासतदानों से लेकर प्रशासन-ठेकेदारों से हारा सालों से खस्ताहाल पुल

स्टाफ रिपोर्टर — भुंतर सालों से विवादों में चल रहा भुंतर का बेली ब्रिज मानसून से ठीक पहले अलर्ट देने लगा है। इस कामचलाऊ पुल की प्लेंटें रिपेयर के संकेत देने लगी हंै। मानसून की तैयारियों को लेकर हुई जिला प्रशासन की बैठक में लोनिवि को इस पुल को लेकर निर्देश जारी हुए हैं तो महकमा पुल को लेकर असमंजस की स्थिति में है। लिहाजा, मानसून के दौरान पुल के सलामत रहे, इसके लिए स्थानीय लोगों से लेकर प्रशासन तक को चिंता सता रही है। बता दें कि उक्त पुल की रिपेयर को लेकर लोनिवि की दो इकाइयां आपस में उलझी हुई हैं। दरअसल यह पुल पहले एनएच के पास था और इसका सभी प्रकार की मरम्मत और अन्य देखरेख करता था। पुल की रिपेयरिंग का कार्य लोनिवि का मैकेनिकल विंग करता था, लेकिन जानकारी के अनुसार अब यह पुल एनएचएआई के अधीन है। बताया जा रहा है कि उक्त महकमा इसकी देखरेख को लेकर गंभीर नहीं है और यह लोनिवि की मैकेनिकल विंग के लिए चिंता का कारण बना हुआ है। अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार अथॉरिटी पुल की रिपेयरिंग के लिए जरूरी बजट समय पर उपलब्ध नहीं करवा रहा है और इसके कारण इसकी हालत खराब हो रही है।

मैकेनिकल विंग ने इसकी रिपेयरिंग के लिए करीब 45 लाख रुपए का एस्टीमेट तैयार कर एनएचएआई को भेजा है और उसके बाद काम को करने की बात कही है, परंतु जानकारी के अनुसार अभी तक यह नहीं मिला है। दयनीय हालत में चल रहा यह पुल कमजोर सियासी इच्छाशक्ति से लेकर प्रशासन और ठेकेदारों की हठ के आगे हार चुका है और जैसे-तैसे फिलहाल सेवाएं दे रहा है। पुल साल में तीन से चार बार रिपेयर करना पड़ रहा है। यहां पर नया पुल बनना था, लेकिन उसका क्या हुआ, इस पर कोई भी बोलने को तैयार नहीं है। कभी 35 से 40 टन भार सहने वाला पुल अब 15 से 20 टन भार ही सहन कर पा रहा है। जल्द ही मानसून दस्तक देने वाला है और इस दौरान ब्यास का जलस्तर बढऩे से इस पर संकट बढऩे वाला है। अगर ऐसा हुआ तो रूपी-पार्वती घाटी सहित किसानों-बागबानों को सबसे ज्यादा परेशानी यहां पर उठानी पड़ सकती है। उपायुक्त कुल्लू डा. ऋचा वर्मा ने भुंतर पुल से लेकर कई सड़कों को लेकर अलर्ट किया है और उपमंडलाधिकारी कुल्लूू व लोनिवि को इसके लिए तैयार रहने को कहा है। उन्होंने इसकी रिपेयरिंग को लेकर भी निर्देश दिए हैं। उधर, जीएल ठाकुर, अधिशासी अभियंता, मैकेनिकल विंग, लोनिवि, शमशी का कहना है कि एनएचएआई को पुल रिपेयर के लिए 45 लाख रुपए का एस्टीमेट तैयार कर भेजा गया है। बजट मिलते ही इसकी रिपेयरिंग का काम पूरा कर लिया जाएगा।

प्रदेश सरकार द्वारा दी गई राहत से नाखुश यूनियन, ढालपुर में बैठक कर जताया रोष

शालिनी राय भारद्वाज — कुल्लू हिमाचल प्रदेश में सरकार ने बीते दिनों कोरोना संक्रमण के बीच काफी राहत प्रदान की है, लेकिन टैक्सी चालक सरकार द्वारा दी गई राहत से नाखुश नजर आ रहे हैं। कुल्लू में भी टैक्सी यूनियन ने बैठक कर सरकार द्वारा दी गई राहत पर अपना असंतोष व्यक्त किया। जिला कुल्लू के मुख्यालय ढालपुर टैक्सी यूनियन के कार्यालय में एक आपातकालीन बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में यूनियन के चेयरमैन कवींद्र ठाकुर व प्रधान प्रबल कुमार विशेष रूप से मौजूद रहे। बैठक में टैक्सी यूनियन के कार्यकलापों के बारे में चर्चा की गई, वहीं टैक्सी स्टैंड के पार्किंग में टायरिंग का मुद्दा भी विशेष रूप से रखा गया। इस दौरान टैक्सी यूनियन कुल्लू द्वारा नगर परिषद कुल्लू को भी एक पत्र जारी किया गया, जिसमें टैक्सी स्टैंड की पार्किंग में टायरिंग करवाने की बात कही गई। बीते दिनों प्रदेश सरकार द्वारा टैक्सी चालकों को दी गई राहत पर भी टैक्सी यूनियन ने अपना रोष व्यक्त किया।

टैक्सी यूनियन कुल्लू के चेयरमैन कविंद्र ठाकुर का कहना है कि बीते साल भी कोरोना संकट में टैक्सी चालकों को नाम मात्र की ही राहत दी गई थी और इस साल भी सरकार ने वैसा ही आदेश जारी किया है, जिससे प्रदेश के हजारों टैक्सी चालकों को नुकसान भी उठाना पड़ रहा है। कवींद्र ठाकुर का कहना है कि सरकार के समक्ष कई बार पत्र लिखकर भी उन्हें राहत देने के बारे में ठोस कदम उठाने की मांग रखी गई थी, लेकिन सरकार हर बार की तरह उनकी मांगों को अनसुना कर रही है। कविंद्र ठाकुर का कहना है कि टैक्सी चालकों के पास न तो कृषि योग्य भूमि है और न ही अन्य कोई रोजगार है। ऐसे में वे बैंकों से ऋण लेकर अपने टैक्सियों का संचालन कर रहे हैं, लेकिन सरकार हर बार उनकी मांगों को अनसुना कर रही है। गौर रहे कि बीते दिन भी हिमाचल मंत्रिमंडल ने स्टेज कैरिज, टैक्सी, मैक्सी, ऑटो-रिक्शा और इंस्टीट्यूशन बसों को भी आवश्यक राहत प्रदान प्रदान करते हुए पहली अगस्त, 2020 से 31 मार्च, 2021 तक विशेष रोड टैक्स और टोकन के भुगतान पर 50 प्रतिशत की राहत दी है। परिवहन क्षेत्र को इस निर्णय से लगभग 20 करोड़ रुपए की राहत मिलेगी। बैठक में पहली अप्रैल, 2021 से 30 जून, 2021 तक तीन महीने की अवधि के दौरान स्पेशल रोड टैक्स और टोकन टैक्स पर 50 प्रतिशत राहत प्रदान करने का भी निर्णय लिया गया है। (एचडीएम)

ढालपुर मैदान से लोगों को हटाकर सामाजिक दूरी का संदेश दे रहे रुस्तम वालंटियर

दिव्य हिमाचल ब्यूरो — कुल्लू कुल्लू में बाजारों के खुलने के समय में बढ़ोतरी होने के बाद अब शहरों का रुख करने वाले लोगों की आवक में भी बढ़ोतरी हो गई है। पुलिस के जवान व रुस्तम टीम के वालंटियर जगह-जगह लोगों को सामाजिक दूरी का संदेश दे रहे हैं, ताकि शहरों में कोरोना के नियमों का पालन हो सके। जिला कुल्लू के मुख्यालय ढालपुर, सरवरी व अखाड़ा बाजार में रुस्तम वालंटियर की टीम विशेष रूप से तैनात की गई है। ढालपुर मैदान में बेकार में बैठे लोगों को भी वालंटियर द्वारा हटाया जा रहा है। इसके साथ ही लोगों से आग्रह किया जा रहा है कि वह सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करें और बेकार में ढालपुर मैदान में जमघट न लगाएं।

इसके लिए ढालपुर मैदान में रुस्तम वालंटियर की एक विशेष टीम तैनात की गई है। इसके अलावा शाम को बाजार बंद होने के बाद पुलिस की टीम बाजारों के भी निरीक्षण करेगी। इस दौरान जिस भी दुकान में अगर कोविड नियमों का पालन करते हुए दुकानदार नहीं पाएं जाएंगे, तो उन्हें न केवल जुर्माना किया जाएगा, बल्कि उनकी दुकान भी बंद कर दी जाएगी। बीते दिन भी कुछ दुकानों में पाया गया कि दुकानदार कोविड नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। यही नहीं, अधिकतर ऐसी भी दुकानें है, जहां पर दुकान के बाहर गोले नहीं लगाए गए हैं, ताकि लोग दो गज की दूरी में खड़े होकर सामान खरीद सकें। रुस्तम टीम के वालंटियर बीजू का कहना है कि जिला में पुलिस व रुस्तम टीम के युवा शादी-विवाह में जाकर भी लोगों को जागरूक कर रहे हैं। पूरे शहर में मास्क अच्छे से पहनने को लेकर भी जागरूक कर रहे हैं, ताकि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। पुलिस टीम भी अब रूटीन में बाजारों का निरीक्षण करेंगे। कोविड नियमों का पालन न करने वाले दुकानदारों को जुर्माना किया जाएगा और साथ ही उनकी दुकान भी बंद कर दी जाएगी।

लोगों को नहीं कोरोना का डर; बेखौफ कर रहे बाजारों का रुख, सोशल डिस्टेंङ्क्षसग भी भूले

स्टाफ रिपोर्टर — बंजार मंगलवार को उपमंडल बंजार का मुख्य बाजार बंजार में लोगों की काफी भीड़ देखी गई, जहां भी देखें लोग अपनी दिनचर्या की खरीद-फरोख्त करने में व्यस्त थे। इससे मालूम होता है कि लोगों को कोरोना महामारी का कोई डर नहीं है। लोग बेखौफ होकर के झुंड में इधर-उधर जा रहे हैं। अधिकांश लोग मास्क पहने हुए तथा कोरोना महामारी के कायदे-कानूनों का पालन करते हुए देखे गए पर कुछ हुड़दंगी लोगो बिना मास्क के भीड़भाड़ वाली जगह पर देगे गए।

इस प्रकार के लोग कोरोना महामारी के संक्रमण को अपने साथ ले जाकर अपने-अपने क्षेत्रों में फैला सकते हैं। प्रशासन व सरकार द्वारा समय-समय पर ऐसे लोगों को लताड़ा भी जा रहा है पर फिर भी ऐसे लोग बाज नहीं आते हैं। कई बार तो प्रशासन को सख्ती करनी पड़ रही है, उसमें कुछ तथाकथित लोग जो निडर होकर के घूम रहे हैं। उनके ऊपर कानून का चाबुक भी चलाने पर मजबूर हो रहे हैं। मंगलवार को बंजार बाजार में लोगों की काफी भीड़ की गई लोग उपमंडल बंजार के मुख्य बाजार में अपनी दिनचर्या की खरीद-फरोख्त में मशगूल देखे गए और उपमंडल बंजार के व्यापारी भी अपनी-अपनी दुकानों में कोरोना महामारी के पूरे कायदे कानूनों का पालन करते हुए देखे गए और अपनी दुकानों में आए हुए ग्राहकों को भी उक्त महामारी के बारे में पूरी सामाजिक दूरी के साथ पालन करवा रहे हैं, लेकिन जैसे ही ग्राहक दुकान से बाहर निकल आते हैं तो वे कोरोना महामारी के कायदे कानूनों को भूल जाते हैं। समय-समय पर कोरोना महामारी के कायदे-कानूनों को लेकर के बंजार प्रशासन लोगों को जागरूक करता आ रहा है, लेकिन कुछ समय के बाद फिर से लोग अपनी पहले वाली अवस्था में आ जाते हैं कि यह महामारी कुछ नहीं है फिर वह अपने कायदे-कानूनों को भूल जाते हैं।

नियम न मानने वालों पर होगी कार्रवाई

उधर, डीएसपी बंजार बिनी मिन्हास का कहना है कि यदि कोरोना महामारी के कायदे-कानूनों का पालन कोई नहीं करता है तो उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी और एसे लोगों को बख्शा नहीं जाएगा।

दिव्य हिमाचल ब्यूरो-कुल्लू कोरोना कफ्र्यू में ढील मिलने के बाद जहां सोमवार से सुबह नौ से पांच बजे तक दुकानें खुली रहीं। वहीं, सोमवार को बाजारों में भी काफी भीड़ देखने को मिली। हालांकि सभी व्यापारियों को कोविड नियमों के तहत ग्राहकों को सामान देने की बात कही है, लेकिन जिस तरह से सोमवार को बाजारों में दुकानों में लोग खरीदारी कर रहे है।

उसके बाद से कुल्लू पुलिस ने फैसला लिया है कि अब रोजाना रूटीन चैकिंग होगी। इस दौरान जिस भी दुकान में अगर कोविड नियमों का पालन करते हुए दुकानदार नहीं पाएं जाएंगे, तो उन्हें न केवल जुर्माना किया जाएगा बल्कि उनकी दुकान भी बंद कर दी जाएगी। वहीं, एसपी कुल्लू गौरव सिंह ने कहा कि सोमवार को कुछ दुकानों में पाया गया कि दुकानदार कोविड नियमों का पालन नहीं कर रहे हं। यही नहीं अधिकतर ऐसी भी दुकानें है, जहां पर दुकान के बाहर गोले नहीं लगाए गए हैं ताकि लोग दो गज की दूरी में खड़े होकर सामान खरीद सके। एसपी गौरव सिंह ने कहा कि पुलिस लगातार लोगों को मास्क अच्छे से पहनने और दो गज की दूरी को लेकर जागरूक लगातार कर रही है। वहीं, पुलिस व रूस्तम टीम के युवा शादी विवाह में जाकर भी लोगों को जागरूक कर रहे हंै। पूरे शहर में मास्क अच्छे से पहनने को लेकर जागरूक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनता की सुरक्षा करना पुलिस का काम है। उन्होंने कहा कि वह भी टीम के साथ बाजारों का निरीक्षण करेंगे। वहीं, पुलिस टीम भी अब रूटीन में बाजारों का निरीक्षण करेंगे। जहां पर कोविड नियमों का पालन न करने वाले दुकानदारों के जुर्माना किया जाएगा और साथ ही उनकी दुकान भी बंद कर दी जाएगी।

लंबे समय बाद रोहतांग दर्रे पहुंचे सैलानी, सोमवार को 150 वाहनों ने मारी एंट्री

निजी संवाददाता-मनाली आखिरकार डेढ़ साल बाद छाई वीरानगी दूर हो गई और 13050 फीट ऊंचा अंतरराष्ट्रीय पर्यटक स्थल रोहतांग सैलानियों से चहक उठा। एनजीटी के आदेशों सहित कोविड के नियमों के पालन की शर्त पर पर्यटकों को रोहतांग जाने की अनुमति मिल गई। हालांकि पहले दिन गाडिय़ों का आंकड़ा कम रहा। लेकिन रोहतांग दर्रा देर सवेर पर्यटकों की रौनक से चहक उठा। सोमवार को प्रशासन के मुताबिक करीब 150 वाहन रोहतांग दर्रा पहुंचे। वहीं, अटल टनल की अगर बात करें, तो यहां पिछले कुछ दिनों से आवाजाही जारी थी। लेकिन सोमवार को करीब 500 वाहनों ने टनल क्रास किया है।

इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस तरह से सैलानियों के आने से कुल्लू-मनाली सहित लाहुल-स्पीति में पर्यटक पहुंचने लगे है। वहीं, मनाली प्रशासन अभी मैनुअली ही परमिंट जारी कर रहा है तथा व्यवस्था बनाने तक स्थानीय पर्यटन वाहनों को ही रोहतांग जाने की अनुमति दे रहा है । लेकिन स्थिति सामान्य हो जाने पर पर्यटक ऑन लाइन परमिंट प्राप्त कर रोहतांग जा सकेंगे। प्रदेश सरकार द्वारा पर्यटकों को कोविड रिपोर्ट पर छूट देने के बाद से मनाली में पर्यटकों की आमद बढऩे लगी है। प्रदेशभर से भी 200 से अधिक वाहन आ रहे हैं । जबकि बाहरी राज्यों से आने वाले पर्यटक वाहनों का आंकड़ा भी पांच सौ के पार होने लगा है। होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष अनूप ठाकुर ने कहा कि पिछले दिनों से पर्यटकों की आमद में बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने कहा कि 20 जून के बाद पर्यटकों का सैलाब उमडऩे की उम्मीद है। टैक्सी यूनियन के अध्यक्ष पूर्ण चंद पोहलु ने स्थानीय पर्यटक वाहनों को प्राथमिकता देने पर मंत्री गोविंद ठाकुर व प्रशासन का आभार जताया। एसडीएम मनाली रमन घरसंगी ने सभी पर्यटकों से कोरोना के नियमों का पालन करने का आग्रह किया।