Monday, October 18, 2021 05:03 PM

गलोड़-टिप्पर सड़क पर टायरिंग को लेकर बवाल

बारिश में काम रुकवाने पहुंचे पीडब्ल्यूडी अधिकारियों से उलझे टायरिंग करने वाले, लोगों ने भी किया विरोध

निजी संवाददाता—गलोड़ तहसील गलोड़ के तहत गलोड़ से टिप्पर सड़क पर हो रहा टायरिंग का कार्य उस समय विवादों में आ गया जब बारिश में बीच काम चलता रहा। बीते बुधवार को भी बारिश के बीच टायरिंग का कार्य किए जाने से क्षेत्र के लोग खफा दिखे। गुरुवार को भी बारिश के बीच टायरिंग का काम शुरू कर दिया गया। इस कार्य का क्षेत्र के लोगों ने विरोध जताया है। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंच लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों से भी टायरिंग के कार्य को अंजाम देने वाले उलझ पड़े। कार्य रोकने के लिए कहने के बावजूद यह कार्य नहीं रोक रहे थे तथा विभागीय अधिकारियों से उलझ पड़े। एक समय तो माहौल इतना गरमा गया कि विभागीय अधिकारियों को अपनी सुरक्षा की चिंता होने लगी। हालांकि क्षेत्र के लोग विभागीय कर्मियों के पक्ष में उतर आए तथा टायरिंग के कार्य का विरोध जताया।

जाहिर है कि सड़क पर टायरिंग का काम बारिश में नहीं किया जा सकता। बारिश में यदि टायरिंग का काम किया जाता है, तो टायरिंग उखड़ जाती है। यहां पर हो रहे टायरिंग के कार्य में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला। बारिश में की गई टायरिंग उखड़ती नजर आ रही है। क्षेत्र के लोगों अजय, आर्यन, संजय, कमल, बीनू, ओम प्रकाश, रिंकू आदि ने बताया कि बारिश के बीच टायरिंग का कार्य किया जा रहा था। वहीं जब इस बात का पता लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को चला, तो गुरुवार दोपहर के समय विभाग के सहायक अभियंता तथा कनिष्ठ अभियंता मौके पर पहुंचे। यहां पर उन्होंने टायरिंग का काम रोकने के लिए कहा। विभागीय अधिकारियों के मना करने के उपरांत टायरिंग का काम नहीं रोका जा रहा था। बाद में टायरिंग का कार्य करने वाले विभागीय अधिकारियों से उलझ पड़े। यहां तक कि अधिकारियों से अभद्र भाषा में बात की गई। काफी मशक्कत के बाद टायरिंग के कार्य को रुकवाया गया है। अधिकारियों से किए गए अभद्र व्यवहार के बाद मामला पुलिस तक जाने की नौबत आ गई थी।

एडवोकेट गोल्डी ने लौटाया टैक्सी चालक का पर्स हमीरपुर। उपायुक्त कार्यालय हमीरपुर के नजदीक पैदल चल रहे एडवोकेट गोल्डी को सड़क पर एक पर्स पड़ा हुआ मिला। जब उन्होंने पर्स खोलकर देखा, तो पर्स में करीब 15 हजार रुपए व जरूरी कागजात मौजूद थे। एडवोकेट गोल्डी ने जब यहां-वहां पता किया, तो कोई भी पर्स का मालिक नहीं मिल पाया। जब पर्स में दस्तावेज चैक किए, तो यह पर्स टैक्सी यूनियन हमीरपुर के चालक रविंद्र का निकला। जब चालक रविंद्र को अपने गुम पर्स की जानकारी मिली, तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

गलोड़ से टिप्पर सड़क पर बारिश के बीच टायरिंग का कार्य किया जा रहा था। सूचना मिलने पर मौके का निरीक्षण किया गया। यहां पाया कि टायरिंग का कार्य बारिश के बीच ही किया जा रहा है। ऐसे में कार्य को रुकवा दिया है। काम रुकवाने के दौरान कार्य करने वालों ने अभद्र भाषा का प्रयोग किया है। विभागीय कर्मियों के साथ अभद्र भाषा का प्रयोग करना सही नहीं है। मामला उच्चाधिकारियों के ध्यान में भी ला दिया गया है ई. राजन कौशल, सहायक अभियता पीडब्ल्यूडी धनेटा