Monday, November 30, 2020 04:22 AM

सामूहिक टीम के प्रयास से जीत संभव

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह, जिन्हें लोग प्यार से भज्जी बुलाते है, ने शूलिनी विश्वविद्यालय की योगानंद गुरु शृंखला के तहत एक बातचीत के दौरान सामान्य रूप से क्रिकेट और जीवन के खेल के बारे में दिलचस्प जानकारी साझा की। हरभजन सिंह ने अपने क्रिकेट करियर से संबंधित कई किस्से साझा किए। उन्होंने कहा कि कैसे आत्मविश्वास व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में चमत्कार पैदा कर सकता है।

उन्होंने असफलताओं और सफलता को संभालने की भी बात की और इन दोनों को अस्थायी करार दिया। भारत के लिए 2007 और 2011 के विश्व कप के विजेता टीम के सदस्य हरभजन सिंह ने दोनों शृंखलाओं में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि दोनों जीत सामूहिक टीम के प्रयास के कारण संभव हुईं। उन्होंने कहा कि टीम के कप्तान और कोच भी टीम के प्रदर्शन के लिए महत्त्वपूर्ण हैं। बातचीत का संचालन प्रो. वाइस चांसलर प्रो. अतुल खोसला और डीन स्टूडेंट्स वेलफेयर पूनम नंदा ने किया। उन्होंने छात्रों द्वारा पूछे गए कई सवालों के जवाब भी दिए और कहा कि स्थिति सामान्य होने पर वह परिसर का दौरा करने के लिए तत्पर रहेंगे।

The post सामूहिक टीम के प्रयास से जीत संभव appeared first on Divya Himachal.