Thursday, September 24, 2020 01:12 PM

‘शरण’ अब हैंडलूम क्राफ्ट विलेज

उपायुक्त  डा. ऋचा वर्मा का खुलासा, गांव के सौंदर्यीकरण पर खर्च होंगे 1.40 करोड़

कुल्लू-भारत सरकार के वस्त्र मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय हथकरघा दिवस के मौके पर मनाली विधानसभा के तहत आते प्रसिद्ध पर्यटन स्थल नग्गर के अंतर्गत शरण गांव को हैंडलूम क्राफ्ट विलेज में शुक्रवार को शामिल किया गया। इस अवसर पर पतलीकूहल स्थित तिब्तियन स्कूल के सभागार में समारोह का आयोजन किया गया। डा. ऋचा वर्मा ने कहा कि कुल्लू जिला के लिए यह गौरव की बात है कि यहां के शरण गांव को क्राफ्ट हैंडलूम विलेज के तौर पर विकसित करने के लिए देश के तीन गांवों में चुना गया है।

इस गांव में मूलभूत सुविधाओं के सृजन तथा सौंदर्यीकरण पर लगभग 1.40 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जाएगी। गांव में भव्य हैंडलूम सुविधा केंद्र का निर्माण किया जाएगा। इसमें तैयार किए गए उत्पादों को प्रदर्शित किया जाएगा। बुनकरों के लिए प्रशिक्षपण केंद्र का निर्माण किया जाएगा तथा सैलानियों को स्वयं बुनाई करने के अनुभव की सुविधा प्रदान की जाएगी।  उन्होंने कहा कि शरण अपने आप में एक ऐतिहासिक गांव है और क्राफ्ट हैंडलूम विलेज के तौर पर विकसित होने पर इस क्षेत्र को राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त होगी, जिससे यहां पर्यटन गतिविधियां बढ़ेंगी साथ ही लोगों की आर्थिकी को मजबूती मिलेगी। उपायुक्त ने कहा कि शरण गांव के लोग प्राचीन समय से खड्डी पर बुनाई का काम करते आए हैं। सर्दी ज्यादा होने के कारण अपने पूरे परिवार को घरों में ही ऊनी वस्त्र तैयार किए जाते हैं। ऊन का उत्पादन भी लोग स्थानीय तौर पर ही कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि गांव के सौंदर्यीकरण और मूलभूत सुविधाएं प्रदान करने के लिए एक व्यापक खाका तैयार किया गया है, जिस पर काम भी शुरू हो चुका है। निश्चित तौर पर यह गांव निकट भविष्य में सैलानियों के लिए पंसदीदा स्थल के तौर पर उभरेगा। उन्होंने कहा कि जिला में साहसिक पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। देश-विदेश से आने वाले लाखों सैलानी इन खेलों के प्रति आकर्षित होते हैं। यहां रिवर राफ्टिंग, पैरा ग्लाइडिंग, स्कींइग,  आइस स्केटिंग, हेली साइकलिंग जैसी अनेक खेलों का बहुतायत में चलन हैं। उपायुक्त ने कहा कि कोविड-19 के संकट के चलते इस साल पर्यटन काफी प्रभावित हुआ है, लेकिन सैलानियों को आने की अनुमति दी जा रही है। लोगों की आर्थिक स्थिति बागबानी पर निर्भर है। इसका विशेष ख्याल रखा गया है।

25 बुनकरों को बांटे हथकरघा

डा. ऋचा वर्मा ने इस अवसर पर मंत्रालय की ओर से शरण गांव के 25 बुनकरों को हथकरघा भी वितरित किए। इससे पूर्व उपायुक्त ने दिल्ली से वर्चुअली जुड़ी महिला एवं बाल विकास और वस्त्र मंत्री स्मृति जूबिन ईरानी का स्वागत किया। उन्होंने कांगड़ा के देहरा से वीडियों कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर तथा उद्योग श्रम एवं रोजगार व परिवहन मंत्री विक्रम सिंह तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों का भी स्वागत किया।

The post ‘शरण’ अब हैंडलूम क्राफ्ट विलेज appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.