Friday, October 30, 2020 03:16 PM

पेटेंट में Shoolini University देश भर में तीसरे स्थान पर, सफलताओं की सूची में स्थापित किया एक और कीर्तिमान

शूलिनी विश्वविद्यालय ने अपनी सफलताओं की सूची में एक और कीर्तिमान स्थापित किया है। भारत में शैक्षणिक संस्थानों और विश्वविद्यालयों द्वारा पेटेंट दाखिल करने में शूलिनी विश्वविद्यालय देश में तीसरे स्थान पर और हिमाचल प्रदेश में पहले स्थान पर पहुंच गया है। हाल ही में आफिस ऑफ इंटेलेक्चुअल राइट्स इंडिया द्वारा जारी वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार पेटेंट फाइलरों की सूची में सबसे पहले भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) है। हालांकि, देश के सभी 23 आईआईटी द्वारा दायर किए गए पेटेंट संस्थानों को पेटेंटकर्ता घोषित करने के लिए एक साथ एक समूह में विलय कर दिया गया है।

 केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय और उद्योग मंत्रालय और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग के तहत पेटेंट, डिजाइन, ट्रेड मार्क्स और भौगोलिक विभाग के कार्यालय द्वारा गुरुवार को रैंकिंग घोषित की गई। हालांकि रिपोर्ट में विभिन्न संस्थानों द्वारा दायर पेटेंट की सही संख्या का खुलासा नहीं किया गया, लेकिन इसमें प्रत्येक राज्य से दायर पेटेंट की संख्या का उल्लेख किया गया है। इसके अनुसार अप्रैल, 2018 और मार्च, 2019 के दौरान हिमाचल प्रदेश से कुल 193 पेटेंट दायर किए गए, जबकि शूलिनी विश्वविद्यालय के पास इस अवधि में 185 पेटेंट दर्ज करने का रिकार्ड है। प्रदेश में केंद्रीय वित्त पोषित संस्थानों सहित अन्य संस्थानों में से लगभग सभी पेटेंट शूलिनी विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा दायर किए गए हैं।

The post पेटेंट में Shoolini University देश भर में तीसरे स्थान पर, सफलताओं की सूची में स्थापित किया एक और कीर्तिमान appeared first on Divya Himachal.