Friday, November 27, 2020 04:26 PM

टमाटर-फूलगोभी-प्याज का रेट बराबर

शहर में सब्जियों के दामों में उछाल ने लोगों की रसोई के मासिक बजट का संतुलन बिगाड़ कर रख दिया है। सब्जी मंडी में अधिकतर सब्जियों के भाव पचास रुपए से अधिक चल रहे हैं। मटर व शिमला मिर्च का दाम रिकार्ड सौ तक पहुंच गया है। फ्रसबीन भी अस्सी रुपए प्रतिकिलो के भाव से बिक रही है। पंजाब से सब्जियों की सप्लाई न होने ओर बारिश के चलते लोकल सब्जियों का उत्पादन प्रभावित होना इसकी एक वजह बताई जा रही है। लोकल व्यापारी अधिक मुनाफे के चलते अपनी मटर, फ्रासबीन व शिमला मिर्च की फसल को लोकल मंडी की बजाय पंजाब की मंडियों में बेचने को तरजीह दे रहे हैं।

मटर व शिमला मिर्च के दामों में आए उछाल के चलते शहर की सब्जी की दुकानों में यह देखने को नहीं मिल रहे हैं। गुरुवार को शहर की सब्जी मंडी में मटर व शिमला मिर्च सौ रुपए प्रतिकिलो और फ्रासबीन अस्सी रुपए के भाव से बिकी। इसके अलावा फूलगोभी, टमाटर व प्याज का भाव 50 रुपए प्रतिकिलो रहा। बंदगोभी का साठ रुपए प्रतिकिलो का भाव रहा। केवल भिंडी, घिया व बैंगन ही चालीस रुपए प्रतिकिलो के हिसाब से बिके। लोगों की मानें तो पिछले कुछ अरसे सब्जियों के दामों में अप्रत्याशित उछाल आया है। सब्जी मंडी में अधिकतर सब्जियां पचास रुपए प्रतिकिलो के हिसाब से मिल रही हैं।

सब्जी विके्रताओं का तर्क है कि पंजाब से इन दिनों सब्जी की सप्लाई डिमांड के मुताबिक नहीं हो पा रही है। कामकाज लोकल प्रोडक्शन पर अधिक निर्भर है। उन्होंने बताया कि बारिश न होने से लोकल पैदावार भी प्रभावित हुई है। इसके चलते जिला के किसान भी पंजाब में सब्जियों के अच्छे भाव मिलने के चलते लोकल की बजाय वहां सब्जियां बेचने में अधिक दिलचस्पी दिखा रहे हैं। उन्होंने बताया कि गुरुवार को तीसा में सौ रुपए प्रतिकिलो के हिसाब से मटर थोक के भाव बिका है। उन्होंने बताया कि पंजाब से सप्लाई आरंभ होते ही सब्जियों के भाव फिर से कम हो जाएंगे। वहीं, जिला नियंत्रक खाघ एवं आपूर्ति विभाग अरविंद शर्मा ने कहा कि जिला में एपीएमसी की ओर से रोजाना जारी सब्जियों के भाव तय किए जाते है। इसकी सूची सब्जी विक्रेताओं को उपलब्ध करवा दी जाती है। सब्जी विक्रेताओं को निर्धारित दामों पर ही सब्जी बेचने के आदेश हैं। मुनाफाखोरी को रोकने के लिए समय- समय पर सब्जी मंडियों के निरीक्षण भी किए जाते हैं।

The post टमाटर-फूलगोभी-प्याज का रेट बराबर appeared first on Divya Himachal.