Sunday, October 25, 2020 01:43 AM

तीन बीघा भूमि पर नई किस्मों के 25 हजार सेब के पौधे किए तैयार

यशवंतनगर-कम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में सेब के उत्पादन करने के लिए पझौता घाटी के गांव बांगी में सेब की नई किस्मों की नर्सरी तैयार करके 34 वर्षीय युवा प्रदीप हाब्बी ने एक अनूठी मिसाल पेश की है। बिना किसी सरकारी सहायता से प्रदीप हाब्बी द्वारा विकसित पझौता नर्सरी फार्म में सेब की नई किस्मों के 25 हजार पौधे तैयार किए हैं। वर्तमान में करीब साढ़े तीन बीघा भूमि पर सेब की नर्सरी तैयार की गई है, जिनमें एम-9, एम-7, एमएम-106, एमएम-14 और एमएम-793 सेब की किस्में बिक्री के लिए तैयार है। इसके लिए लोगों द्वारा बुकिंग करनी भी शुरू कर दी गई है जिसका आगामी दिसंबर व जनवरी में सेब के पौधों को रोपण भी किया जाना प्रस्तावित है। प्रगतिशील बागबान प्रदीप हाब्बी ने सेब की पौध तैयार करने की तकनीक बताते हुए कहा कि सघन खेती के तहत उनके द्वारा वर्ष 2017 में लैब में सेब की नई किस्म के एक ईंच के टीशू कल्चर तैयार किए गए। इसके बाद सेब के पौधों को ग्रीन हाउस में लगाया गया जहां पर एक वर्ष में इन पौधों की लंबाई करीब तीन फुट हो गई। तदोपरांत दूसरे साल में कलोनिंग करके सेब के रूट स्टॉक तैयार किए गए हैं। इनका कहना है कि सेब की यह नवीनतम किस्म समुद्र तल से करीब छह हजार फुट की ऊंचाई तथा केवल पानी वाली जगह पर कामयाब है और तीसरे साल इन सेब के पौधों में सैंपल के तौर पर फल आना आरंभ हो जाता है।

कहते हैं कि शिद्दत से यदि कोई कार्य किया जाए तो निश्चित कौर पर सफलता प्राप्त होती है। इनके द्वारा अपने पैतृक गांव जालग में वर्ष 2017 में तीन बीघा भूमि पर सेब का बागीचा तैयार किया गया है जिसमें 800 विभिन्न सेब की किस्मों के पौधे लगाए गए हैं जिसमें इस वर्ष के सीजन के दौरान सैंपल के तौर 165 सेब के बॉक्स तैयार हुए हैं। इनका कहना है कि उद्यान विभाग सिरमौर द्वारा करवाए गए ज्ञानवर्धक भ्रमण के दौरान चिढ़गांव के धबास और रोहड़ू में सेब उत्पादन की तकनीक बारे जानकारी हासिल की गई, जिससे प्रभावित होकर इन्होंने अपने घर पर सेब की बागबानी करनी आरंभ कर दी। उन्होंने बताया कि प्रदेश के निचले क्षेत्रों में सेब का उत्पादन करने के उद्देश्य से उनके द्वारा वैज्ञानिक तरीके से नर्सरी तैयार की गई है, ताकि किसान खेतीबाड़ी के साथ-साथ बागबानी को भी अपनी आय का साधन बना सकें। उन्होंने बताया कि सेब के पौधों के लिए लोगों की डिमांड आनी आरंभ हो गई है और उनके द्वारा सेब के रूट स्टॉक की 100 रुपए तथा पौधे की कीमत 250 रुपए रखी गई है।

The post तीन बीघा भूमि पर नई किस्मों के 25 हजार सेब के पौधे किए तैयार appeared first on Divya Himachal.