Sunday, March 07, 2021 04:49 PM

गोशाला का दरवाजा तोड़ तीन मवेशी खा गया तेंदुआ

स्टाफ रिपोर्टर — शिमला

जिला शिमला के तहत चनावग पंचायत के पलावल गांव में तेंदुए की दहशत से लोग परेशान हो गए हैं। तेंदुए ने यहां एक ग्रामीण की गोशाला का दरवाजा तोड़ दो दुधारू गाय और एक बछड़ी को मार दिया है। तेंदुए ने एक जर्सी और पहाड़ी गाय को अपना शिकार बनाया है। ग्रामीणों का कहना है कि तेंदुए की दहशत से ग्रामीणों का रहना मुश्किल हो गया है। तेंदुए ने ग्रामीण मेहर चंद के पालतू पशुओं को शिकार बनाया है। उन्होंने बताया कि जब उनकी पत्नी सुबह गोशाला जा रही थी, तो उन्होंने गोशाला के दरवाजे टूटे हुए देखे, जिससे वह डर गई।

वहां से भागकर वह अपने घर गई और पति को गोशाला साथ ले आई, जहां उन्होंने देखा कि गोशाला के भीतर बंधी दोनों गाय मृत पड़ी हुई थी और उनके गले से खून बह रहा था। यहां एक गोशाला का बछिया नहीं थी। इसे तेंदुआ अपने साथ घसीट कर ले गया था। कुछ दूरी पर जाकर यह भी आधा खाया हुआ मिला है। गरीब परिवार पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है। मेहर चंद ने तत्काल पंचायत के प्रधान, सदस्य व वेटरिनरी के डाक्टर को इसकी सूचना दी, जिन्होंने मौके पर आकर नुकसान का जायजा लिया। ग्रामीण विकास सभा चनावग के अध्यक्ष व लेखक एसआर हरनोट ने भी मौके पार आकर परिवार से भेंट की व संबंधित विभाग से किसान मेहर चंद को उचित मुआवजा देने की मांग की। इससे पूर्व भी तेंदुआ कई पशुओं को अपना शिकार बना चुका है।

तेंदुए और बाघ के आतंक के बारे में कई बार ग्रामीणों ने वन विभाग को आवश्यक कार्रवाई के लिए सूचना दी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है। एसआर हरनोट ने वन विभाग से आह्वान किया है कि तेंदुआ पकड़ने के लिए जरूरी कदम उठाएं, ताकि और नुकसान न हो। हरनोट ने गाय के मालिक के साथ इस हादसे के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए हर संभव सहायता का आश्वासन भी दिया।