Saturday, November 27, 2021 11:41 PM

हमीरपुर के कारोबारियों को 'बिजली का झटका

बिजली कट ने लगाई लाखों की चपत; त्योहारी सीजन में नहीं हो पाया कारोबार, दुकानदारों के चेहरे पर छाई मायूसी

मंगलेश कुमार—हमीरपुर बुधवार का दिन हमीरपुर के व्यवसाय पर करारी चोट करके गया। सुबह से देर शाम तक लगे बिजली कट ने शहर भर के कारोबारियों को एक ही दिन में लाखों का नुकसान करा दिया। क्योंकि एक तो पहले से ही व्यापारी वर्ग कोरोना की मार के चलते घाटे से उबर नहीं पाया है। ऊपर से दिन भर के बिजली कट ने उनका खासा नुकसान करवाया। बिजली बंद होने के कारण ग्राहकों ने दुकानों की तरफ रुख करने में रोजाना की भांति उत्साह नहीं दिखाया। दोपहर से पहले तो दुकानों में ग्राहकों की थोड़ी बहुत मूवमेंट नजर आई, लेकिन दोपहर के बाद जैसे-जैसे संध्या का समय होने लगा और अंधेरा छाने लगा, तो दुकानों के अंदर ग्राहकों ने जाना बंद कर दिया। आलम यह दिखा कि बहुत से कपड़ा, जूता और मनियारी के व्यवसायियों ने रोजाना की अपेक्षा निर्धारित समय से पहले ही दुकानों के शटर नीचे कर दिए। हालांकि करियाना और सब्जी विक्रेताओं का कारोबार फिर भी होता रहा, लेकिन अन्य व्यवसाय बुरी तरह प्रभावित हुए। बिजली न होने के कारण ऑनलाइन बिलिंग जैसे काम ना होने के कारण भी काफी असुविधा दुकानदारों को हुई।

शहर के व्यवसायियों का कहना था कि अकसर रविवार के दिन जो कट लगते हैं वे भी सुबह 10 से तीन या चार बजे तक होते हैं, लेकिन वर्किंग वाले दिन बुधवार को तो पूरा दिन ही ब्लैक आउट होने से उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ा है। बतातें चलें कि हमीरपुर शहर में सब्जी, किराना, मनियारी, रेडीमेड, ज्वेलर, जूतों, कपड़ों के अलावा हार्डवेयर जैसी बड़ी-बड़ी दुकानें हैं, जहां से रोजाना लाखों का कारोबार होता है। इसके अलावा शादियों का सीजन होने के कारण ब्यूटी-सैल्यूनों में भी आजकल काफी रश रह रहा है। बुधवार को यहां भी कारोबार को चपत लगी है। जहां-जहां जैनसेट की व्यवस्था थी, वहां तो फिर भी थोड़ा बहुत काम हुआ, लेकिन अन्य जगहों पर काफी नुकसान दुकानदारों को उठाना पड़ा। (एचडीएम)

सड़कों पर कपड़े ट्राई करते दिखे युवा बुधवार को ब्लैकआउट के दौरान कुछ जगहों पर उस वक्त दिलचस्प नजारा देखने को मिला, जब रेडिमेट गारमेंट की खरीददारी करने आए युवा चेंजिंग रूम की बजाय सड़कों पर कपड़ों की फिटिंग चैक करते हुए नजर आए। दरअसल रेडीमेड गारमेंट्स के ट्राई रूम में अंधेरा होने के कारण युवाओं को कलर देखने और फिटिंग चैक करने में दिक्कत हो रही थी। इस वजह से वे दुकानों के बाहर आ रहे थे।